फ़ीचर्ड

10 बातें जो आपको बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बारे में पता होनी चहिये

Published by
Jayanti Jha

तृणमूल कांग्रेस की संस्थापक और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भारत के एक श्रेष्ठ महिला नेता हैं। उन्हें प्यार से दीदी कहकर बुलाया जाता है और बंगाल में वो पहली महिला हैं जिन्होंने इतने बड़े पद पे काम किया है। अभी वो बंगाल के आठवें मुख्यमंत्री के तौर से राज्य की देख रेख कर रही हैं। उनके राजनीतिक सफर में उन्होंने ये कामयाबी पायी.

बंगाल की पहली महिला मुख्यमंत्री

ममता ने 1998 में इंडियन नेशनल कांग्रेस से अलग होकर तृणमूल कांग्रेस को संस्थापित किया और पार्टी की अद्यक्ष बनी।

ववश्व के 100 प्रेरणादायी लोगों में से एक

बनर्जी राजनीति में एक टक्कर बनके आयी और 2012 में टाइम मैगज़ीन ने इन्हें अपनी 100 सबसे ज्यादा प्रेरणादायी लोगो की सूची में शामिल किया।

कृषि और उद्योग दोनों पे ध्यान देना

बनर्जी के अनुसार “बिना कृषि के हम आगे नही बढ़ सकते और बिना उद्योग के भी हम आगे नहीं बढ़ पाएंगे”।

सिंगुर में आदिवासियो की ज़मीन के लिए लड़ना

2019 के इलेक्शन मैनिफेस्टो में ममता ने ये इच्छा जताई कि सिंगुर के किसानों को उनकी ज़मीने वापस मिल जाएगी अगर एक बार कानूनी तौर से लड़ाई खत्म होजाएगी। ये मेनिफेस्टो 5 भाषाओं में छापा गया जिसमें की एक अलचिकि में छापा गया जोकि संथालों की भाषा है।

कम्युनिस्ट पार्टी को जड़ से हटाना

कम्युनिस्ट पार्टी को 2011 के एलेक्शन्स में जड़ से उखाड़ ममता बनर्जी ने इतिहास रचा। कम्युनिस्ट पार्टी पिछले 34 साल से राज्य पे हुकूमत कर रही थी।

राजनीतिक सफर की शुरूआत 1970 से

बेनर्जी जो कि इस्लामिक इतिहास में ग्रेजुएट हैं, राजनीति में 1970 में इंडियन नेशनल कांग्रेस के साथ आई। उन्होंने तृणमूल की रचना 1997 में की और 2011 में मुख्यमंत्री की शपथ ली।

विवादों से जूझना

सारधा ग्रुप और रोज़ वैली के आर्थिक विवाद ममता बनर्जी के मुख्यमंत्री काल में आये।

जीतने के लिए महा गठबंधन

2019 में बैनर्जी ने एक महा रैली बुलायी जहां विरोधी नेताओ ने एक होके भारतीय जनता पार्टी को केंद्र से हटाने का प्रण लिया।

सादगी भरा जीवन

ममता का जीवन काफी सादगी और आत्म अनुशासन भरा है। राज्य में उनको काफी इज़्ज़त दी जाती है और वो एक महान इंसान है।

कोई गुरु न होना

राजनीति में आगे बढ़ने के लिए ममता के पास कोई राजनीतिक गुरु नही था। यहां वो खुद के बलबुते पे आयी हैं।

Recent Posts

Home Remedies For Cough & Cold: सर्दियों में खासी जुखाम के लिए घरेलु उपाय

अदरक की जड़ के लाभों के बारे में सदियों से बताया जाता रहा है। उबलते…

2 days ago

Stop Saying This To Your Child: पेरेंट्स को अपने बच्चों से यह 5 बातें कभी नहीं कहना चाहिए

माता पिता जाने अनजाने में कहीं बार अपना गुस्सा बच्चों पर निकलते समय, कुछ ऐसा…

2 days ago

Side Effects of Green Tea: ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स

यदि आप ग्रीन टी के प्रेमी हैं, तो आप दुनिया भर के 2 बिलियन लोगों…

2 days ago

Home Remedies For Oily Skin: ऑयली स्किन से छुटकारा पाने के लिए करें ये 5 उपाय

ऑयली स्किन से निपटना बहुत मुश्किल होता हैं, खासकर गर्मियों के दौरान। ऑयली स्किन के…

2 days ago

Benefits of Green Tea: ग्रीन टी पीने के 5 फायदे

ग्रीन टी हमारे लिए एक हेल्दी ऑप्शन है। यह आपको ध्यान केंद्रित करने, उम्र बढ़ने…

2 days ago

हिमाचल की ट्रेवल ब्लॉगर की शूटआउट में हुई मौत, मेक्सिको रेस्टोरेंट में हुई घटना

हिमाचल की रहने वाली भारतीय ट्रेवल ब्लॉगर की एक जर्मन टूरिस्ट के साथ मेक्सिको में…

2 days ago

This website uses cookies.