प्रेग्नैंसी अपने आप में एक बहुत ही बड़ा बदलाव होता है एक औरत की जिंदगी में। प्रेग्नैंसी का अनुभव अपने आप में ही बहुत खास है पर क्या आप प्रेग्नैंसी के बाद की समस्याओं से परिचित हैं  ? आइये तो जानते हैं प्रेग्नैंसी के बाद की समस्याएं

प्रेग्नैंसी के बाद की समस्याएं

  • किडनी में इंफेक्शन, ब्लैडर या यूटेरिन में इंफेक्शन
  • डिलीवरी के बाद हद से ज्यादा खून बहना
  • नॉर्मल से अलग वजाइना से डिस्चार्ज
  • स्ट्रेच मार्क, ब्रेस्ट का सूजना
  • कब्ज़ की परेशानी
  • बालों का झड़ना,
  • सेक्स के दौरान समस्या
  • अपनी शेप में वापस आने में दिक्कतें

प्रेग्नैंसी के बाद की समस्याओं का कारण

  • 1. ब्लीडिंग

प्रेग्नैंसी के बाद ब्लीडिंग होना सामान्य बात है पर हद से ज्यादा ब्लीडिंग से काफी समस्या हो सकती है।

हद से ज्यादा ब्लीडिंग होना माँ बनने के बाद मौतों का तीसरा सबसे बड़ा कारण है। इसका कारण होता है कि आपका  यूट्रस वापस अपने शेप में आने में फेल हो जाता है।

2. यूटेरिन इंफेक्शन

नॉर्मली प्लेसेंटा को यूटेरिन की दीवारों से अलग कर लिया जाता है डिलीवरी के दौरान लेकिन अगर फिर भी प्लेसेंटा के कुछ टुकड़े या हिस्से यूट्रस में रह गए हैं उसके कारण इंफेक्शन हो सकता है।

3. किडनी इंफेक्शन

इसका कारण ब्लैडर से  बैक्टीरिया का स्प्रेड हो जाना है। किडनी इन्फेक्शन के सिम्टम्स है जल्दी-जल्दी पेशाब आना, तेज बुखार, थकावट इत्यादि।

4. वेजाइनल डिसचार्ज

डिलीवरी के बाद  वेजाइनल डिस्चार्ज का होना नॉर्मल बात है । इसके रंग में बदलाव आना इत्यादि । ये धीरे धीरे कम होता जाता है।

5. ब्रेस्ट में सूजन

जब आप माँ बनती हैं तब आपकी ब्रेस्ट्स का साइज बड़ा हो जाता है। अक्सर जब आपके ब्रेस्ट्स में दूध आना खतम हो जाता है तब आपको इसमें दर्द से गुज़रना पड़ सकता हैं।

तो ये थी प्रेग्नैंसी के बाद की कुछ समस्याएं । प्रेगनेंसी के बाद अपना ख्याल पहले से ज्यादा रखे

 

Email us at connect@shethepeople.tv