रूस द्वारा विकसित COVID-19 के खिलाफ स्पुतनिक वी वैक्सीन को अब ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) द्वारा भारत में आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदित और मंजूरी दे दी गई है। वैक्सीन को 11 अप्रैल को DCGI द्वारा अनुमोदित किया गया था और भारत स्पुतनिक वी को मंजूरी देने वाला 60 वां देश है।

आपातकालीन परिस्तिथि के लिए कौन सी वैक्सीन चुनी गयी है ?

“भारत, दुनिया का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश, #SputnikV के स्टेज 3 के पॉजिटिव रिजल्ट देखने के बाद इंडिया इस वैक्सीन को लेने वाला 60 वां देश बन गया है। स्पुतनिक वी को अब 60 देशों में अधिकृत किया गया है, जिस में ३ बिलियन से अधिक लोगों की आबादी है, ”ट्विटर पर स्पुतनिक वी के ऑफिसियल अकाउंट ने ट्वीट किया। स्पुतनिक वी भारत में कोविशिल्ड वैक्सीन और कोवाक्सिन वैक्सीन के बाद आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदित होने वाला तीसरा टीका है।

स्पुतनिक वी वैक्सीन के बारे में 10 बातें –

1. यह वैक्सीन गमालीस नेशनल रिसर्च इंस्टिट्यूट ऑफ़ एपिडेमियोलॉजी और माइक्रोबायोलॉजी, मॉस्को द्वारा बनाई गयी है।

2. यह वैक्सीन बनते समय लोगों ने इसकी बहुत निंदा की थी क्योंकि कंपनी इसकी मेकिंग की प्रोसेस सभी के साथ साँझा नहीं कर रही थी पर इसके रिजल्ट बहुत अच्छे देखे गए हैं।

3. यह भारत में कोविशिल्ड वैक्सीन और कोवाक्सिन वैक्सीन के बाद आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदित होने वाला तीसरा टीका है।

4. यह वैक्सीन डॉक्टर रेड्डी लेबोरेटरी में बनाई गयी है।

5. डॉक्टर रेड्डी लेबोरेटरी एक हैदराबाद से जुडी लेबोरेटरी है और रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट के साथ पार्टनरशिप में वैक्सीन तैयार की गयी है।

6. वैक्सीन का अभी तीसरा ट्रायल इंडिया में ही चल रहा है ।

7. ये वैक्सीन सभी उम्र के लोगों के लिए कार्यगर है और 60 साल से ऊपर के उम्र के लोग तक लगा सकते हैं।

8. द लांसेट की एक रिपोर्ट के मुताबित स्पुतनिक सभी वैक्सीनों में से सबसे ज्यादा असरदार है और ये 91 प्रतिशत प्रभावित है।

9. इसके दोनों शॉट्स में 21 दिन का अंतर होना जरुरी है।

10.  इस वैक्सीन की स्टडी में भी पाया गया है कि इसको लेने से कोई भी एलर्जी वगेरा नहीं हुई है और देखी गयी है।

Email us at connect@shethepeople.tv