जानिए २२ वर्ष का होकर कैसा लगता है इन महिलाओं को

Published by
STP Hindi Editor

क्या आप 22 साल के हैं? क्या आप अक्सर उत्तेजना और घबराहट की भावनाओं से झूझते हैं? क्या आप यह जानना चाहते हैं कि आपको जीवन में क्या चाहिए? शीदपीपल.टीवी ने कुछ महिलाओं से जानने की कोशिश करी कि 22 की आयु में उन्हें अपना जीवन कैसे दिखता है।

प्रदर्शन करने के लिए दबाव

शिक्षिका चैतन्या सिंह का कहना है कि एक लड़की होने पर हर स्थिति में अच्छा करने का निरंतर दबाव आपके 22 साल के होने पर आपको और अधिक प्रभावित करता है। यह समय बर्बाद नहीं करा जा सकता.

पढ़िए : 5 महिलाएं हमें बताती हैं कि वह रात में सुरक्षा कैसे सुनिश्चित करती हैं 

“यह वह समय है जब मैं उम्मीद नहीं पालकी सिर्फ सराहना करती हूँ.”,वह कहती हैं.
क्या आप 22 साल के हैं? क्या आप अक्सर उत्तेजना और घबराहट की भावनाओं से झूझते हैं? क्या आप यह जानना चाहते हैं कि आपको जीवन में क्या चाहिए? शीदपीपल.टीवी ने कुछ महिलाओं से जानने की कोशिश करी कि 22 की आयु में उन्हें अपना जीवन कैसे महसूस होता है.

पढ़िए : बेटों और बेटियों को एक ही संदेश दें, कहती हैं अनु आगा

जीवन एक खुला द्वार बन जाता है

“22 पर जीवन अप्रत्याशित है। संभावनाओं, उत्तेजना और रोमांच से भरा हुआ. मैं मानती हूँ कि मैं अभी कुछ जीवन को बदल देने वाले निर्णय ले रही हूँ लेकिन यह मजेदार फेज है।”, ब्रिटिश काउंसिल में क्लेरिकल मार्कर का काम कर रहीं इशिता छिक्कारा कहती हैं.

“यह समय एक खुले दरवाजे की तरह है. कोई भी इसमें प्रवेश कर सकता है – चिंता, लोग या अवसर।

वह कहती हैं कि यह उनका जीवन का सबसे अच्छा समय है।

अनेक चीज़ों के बीच फसना

जेंडर स्टडीज पढ़ रही आँचल गोस्वामी का मानना ​​है कि 22 एक उम्र है जब एक लड़की एक महिला में बदल जाती है और कई बदलाव होने लगते हैं। इस समय अपनी शिक्षा को पूरा करने का और जल्दी से सेटल होने का बहुत दबाव होता है.

पढ़िए : हर किसी को बेहतर भविष्य का सपना देखने का अधिकार होना चाहिए: ज़रीना स्क्रूवाला

वह कहती हैं कि ” इस समय हम अपने सपने और परिवार की खुशी के बीच फंस जाते हैं.”

अपने आदर्श जीवन के करीब कहीं नहीं

दिल्ली विश्वविद्यालय की पढ़ी आयशा दत्ता कहती है कि 22 साल की आयु में आपका मन आपके आदर्श जीवन और वास्तविक जीवन के बीच में फंस जाता है। आप अपने बचपन में जीवन का बिलकुल अलग तरह से चित्रण करते हैं परन्तु आपका वास्तविक जीवन इसके निकट कहीं नहीं है।

“जब आप बड़े होते हैं, तो आप यह महसूस करते हैं कि जीवन इतना आसान नहीं है आपको बहुत से आश्चर्यजनक पलों का सामना करना पड़ेगा जो हमेशा अच्छे नहीं होते हैं. कभी कभी आपको बहुत निराशाजनक मह्सूस होगा परन्तु आपको याद रखना होगा की यह एक टेम्पररी फेज है जो सबके जीवन में आता है, वह कहती हैं.

आपको डर लगने लगता है

राशि गोयल, जो मद्रास विश्वविद्यालय से इकोनॉमिक्स में अपनी पढ़ाई कर रही हैं, कहती हैं – 22 साल की उम्र में, आपको डर लगना शुरू होता है, गलत फैसले करने का डर, असफल होने का डर और सबसे ज्यादा डर होता है अपने काम में अच्छा न होने का डर.

वास्तविक दुनिया में निकलना कठिनाइयों से भरा हो सकता है इसलिए अनिवार्य है की आप इसके लिए तैयार रहें.

पढ़िए : मोमप्रेनुर सर्कल आपको अन्य विवाहित महिलाओं और माताओं से जुड़ने का अवसर देता है

Recent Posts

बच्चों को कोरोना कितने दिन तक रहता है? लांसेट स्टडी में आए सभी जवाब

कोरोना की तीसरी लहर जल्द ही शुरू होने वाली है और एक्सपर्ट्स का ऐसा कहना…

24 mins ago

गहना वशिष्ठ वायरल वीडियो : कैमरे के सामने नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील लग रही है ?

वशिष्ठ ने कैमरे के सामने नग्न होकर अपने दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील…

51 mins ago

अक्षय कुमार और लारा दत्ता की फिल्म बेल बॉटम (Bell Bottom) से जुड़ीं 10 बातें

इस फिल्म में एक्ट्रेस लारा दत्ता इंदिरा गाँधी का किरदार निभा रही हैं और अक्षय…

57 mins ago

दिल्ली कैंट गर्ल रेप केस: राहुल गाँधी बच्ची के परिवार से मिलने पहुंचे

परिवार से मिलने के कुछ समय बाद, गांधी ने हिंदी में ट्वीट किया और कहा…

1 hour ago

बेल बॉटम ट्रेलर : ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा लारा दत्ता ट्रांसफॉर्मेशन (Bell Bottom Trailer)

दत्ता ट्रेलर में पहचान में न आने के कारण ट्विटर पर ट्रेंड कर रही हैं।…

2 hours ago

लवलीना का ओलंपिक सेमीफाइनल देखने के लिए 30 मिनट के लिए स्थगित रहेगी असम विधानसभा

असम विधानसभा के चल रहे बजट सत्र की कार्यवाही बुधवार को टोक्यो ओलंपिक में असम…

2 hours ago

This website uses cookies.