बीजेपी की सदस्य और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का दिल्ली के एम्स में 67 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुषमा स्वराज का पार्थिव शरीर बुधवार को तीन घंटे के लिए बीजेपी मुख्यालय में रखा जाएगा जहाँ पार्टी कार्यकर्ता और नेता उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अंतिम संस्कार लोधी रोड स्थित शवदाह गृह में किया जाएगा। पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को रात 9:35 बजे एम्स में भर्ती किया गया था। तकरीबन 70 मिनट तक मौत की जंग लड़ती रही सुषमा और फिर उनकी साँसों ने उनका साथ छोड़ दिया ।

image

2016 में हुआ था किडनी ट्रांसप्लांट

पिछले कुछ दिनों से सुषमा स्वराज की तबीयत ख़राब थी। इसी वजह से उन्होंने लोकसभा का चुनाव भी नहीं लड़ा था। एम्स के सूत्रों के मुताबिक सुषमा स्वराज को सीधे इमरजेंसी वॉर्ड में ले जाया गया था। 2016 में सुषमा का किडनी ट्रांसप्लांट भी करवाया गया था।

सुषमा की राजनीतिक पारी

नौ बार सांसद रहीं सुषमा स्वराज आम जनता मे बहुत लोकप्रिय थीं। उनको ट्विटर पर एक करोड़ 20 लाख से अधिक लोग फॉलो करते थे। सुषमा स्वराज दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री भी रह चुकी थीं। सुषमा स्वराज ने साल 1977 में सबसे कम उम्र की राज्यमंत्री बनने का रिकॉर्ड हासिल किया था। अटल बिहारी वाजपेयी की एनडीए सरकार में वे सूचना एवं प्रसारण मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री भी रहीं थी।

सुषमा स्वराज दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री थी ।

सुषमा स्वराज की तबियत ठीक ना रहने के कारण उन्होंने पिछला लोकसभा चुनाव भी नहीं लड़ा था। उनके इस फैसले पर बीजेपी के समर्थकों में काफी हैरानी थी। कई लोगों ने उनसे चुनाव लड़ने की अपील भी की थी। इस पर सुषमा स्वराज ने जवाब दिया था कि- मेरे चुनाव ना लड़ने से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। श्री नरेंद्र मोदी जी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाने के लिए और भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों को जिताने में हम सब जी जान लगा देंगे। सुषमा स्वराज ट्विटर पर काफी एक्टिव रहती थीं। विदेश मंत्री रहते हुए वे ट्वीटर पर किसी भी तरह की शिकायत मिलते ही विदेश मंत्रालय से जुड़ीं पासपोर्ट आदि समस्याओं का समाधान कर देती थीं। उन्होंने विदेश में फंसे बहुत सारे भारतीयों को सफल तरीके से भारत पहुंचाने में मदद की है ।

Email us at connect@shethepeople.tv