भारत के शिक्षा प्रणाली को बेहतर कर रही हैं नबीला काज़मी

Published by
STP Hindi Editor

हम सब इस बात को समझते हैं कि भारतीय शिक्षा प्रणाली को बदलाव की जरूरत है.  भारत में अच्छी अध्यापिकाओं की कमी है क्योंकि यह काम ज्यादातर लोगों को आकर्षित नहीं करता. भारत में अध्यापिकाओं  को बहुत कम वेतन दिया जाता है जो  इस तेजी से बदलते समाज में पर्याप्त नहीं है.

परंतु ऐसे भी बहुत से लोग हैं जो केवल पढ़ाने के अपने जुनून के लिए अध्यापक अध्यापिकाएं बनते हैं.”टीच फॉर इंडिया” जो भारतियों को  ऐसा ही एक अवसर देता है जिसमें आप को गरीब बच्चों को पढ़ाने के लिए भारत के दूरदराज इलाकों में जाना पड़ता है.

मुझे पता था कि मैं सबसे अच्छे तरीके से  शिक्षा को तब समझ पाऊंगी, जब मैं खुद कक्षा में जाऊंगी.

31 वर्षीय नबीला काज़मी ,बेंगलुरु में कॉरपोरेट की नौकरी कर रही थी, परंतु अंदर से उन्हें वह प्रसन्नता महसूस नहीं हो रही थी.  नौकरी के दौरान ही उनको कदेश चिल्ड्रंस होम  में वॉलिंटियर की तरह काम करने का अवसर मिला और तब उन्हें इस बात का आभास हुआ कि वह इसी क्षेत्र में काम करना चाहती हैं.

उन्होंने हमें बताया कि अध्यापिका बनना उनकी पहली पसंद नहीं थी. ” मैं अवास्तविक शिक्षा प्रणाली से आई थी, जिसके कारण  यह सेक्टर मुझे आकर्षित कर रहा था.”

नबीला को लगता है कि वह शुरुआत से ही अपने करियर को लेकर बहुत उलझन में रही है. ” इंजीनियरिंग के बाद एमटेक,  उसके बाद  एम्.ऐ और अब  पीएचडी के ऑप्शंस ढूंढने  के विषय में मुझे अपने बारे में यह पता चला कि मैं अभी भी प्रेरणा ढूंढ रही हूं.  वैसे तो अब मैं शिक्षा और शिक्षा से संबंधित क्षेत्रों में ही काम करना चाहती हूँ”

एक कक्षा में रहने से आपको शिक्षा,  छात्रों के परिप्रेक्ष्य  और स्वयं के विषय में भी बहुत कुछ पता चलता है. नबीला कहती हैं, “सबसे सकारात्मक परिणाम वह होता है जब मुझे सबसे प्रभावशाली दिमाग सरलता भरे दिल रखने वाले छात्रों से सीखने को मिलता है.  बच्चों का दिमाग और दिल प्रदूषित नहीं होता है और इससे मुझे बहुत प्रेरणा मिलती है.”

नवेला ने अरुणाचल प्रदेश के एक विद्यालय में विज्ञान की अध्यापिका  के रूप में 2016 और 2017 में पढ़ाया.  वहां पर उन्होंने झमस्ते हस्टल चिल्ड्रंस कम्यूनिटी के साथ काम किया और बच्चों को  वह ज्ञान दिया जो उनको अपने बाद के जीवन में  काम आएगा.

एक और बहुत जरूरी चीज जो मैंने सीखी थी कि हमें जजमेंटल नहीं होना चाहिए क्योंकि उसके कारण  हमारा मन  कुछ भी अलग स्वीकार करने के लिए तत्पर नहीं रहता. एक अध्यापिका की कक्षा में भिन्न-भिन्न भांति के छात्र होते हैं और यह सीख बहुत काम आती है.

उन्होंने कहा कि यह अनिवार्य है कि  हम बच्चों के  विचारों को स्वीकार करें. “मैं छात्रों से सीखने के लिए भी तत्पर रहती थी और  यह मेरे लिए बहुत सहायक रहा है. हम उन छात्रों से कक्षा के बाहर भी जुड़ सकते हैं जिससे उनको स्वयं को  व्यक्त करने की आजादी मिले. एक और बहुत जरूरी चीज जो मैंने सीखी थी कि हमें जजमेंटल नहीं होना चाहिए क्योंकि उसके कारण  हमारा मन  कुछ भी अलग स्वीकार करने के लिए तत्पर नहीं रहता. एक अध्यापिका की कक्षा में भिन्न-भिन्न भांति के छात्र होते हैं और यह सीख बहुत काम आती है.

भारतीय शिक्षा प्रणाली को बहुत से बदलाव की जरूरत है,परंतु जब तक नबीला जैसी अध्यापिकाएं भारत में है  तब तक भारत का भविष्य उज्जवल है.  हम आशा करते हैं कि  युवा पीढ़ी  शिक्षण में रूचि दिखाएगी और  इन बच्चों  के सामाजिक – आर्थिक पृष्ठभूमि पर ध्यान न देकर उनको उनकी क्षमता तक पहुंचाने में मदद करेगी.

 

Recent Posts

शालिनी तलवार कौन है? हनी सिंह की पत्नी जिन्होंने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज कराया है

यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ 3 अगस्त को दिल्ली…

8 hours ago

हनी सिंह की पत्नी ने दर्ज कराया उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का केस, जाने क्या है पूरा मामला

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर और अभिनेता 'यो यो हनी सिंह' (Honey Singh) पर उनकी पत्नी…

9 hours ago

यो यो हनी सिंह पर हुआ पुलिस केस : पत्नी ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप

बॉलीवुड सिंगर और एक्टर यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ…

9 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बनेगी बायोपिक : जाने बायोपिक से जुड़ी ये ज़रूरी बातें

वे किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में हैं जो ओलंपिक मैडल विजेता की उम्र, ऊंचाई…

9 hours ago

मुंबई सेशन्स कोर्ट ने गहना वशिष्ठ को अंतरिम राहत देने से किया इनकार

मुंबई की एक सत्र अदालत ने अभिनेत्री गहना वशिष्ठ को उनके खिलाफ दायर एक पोर्नोग्राफी…

10 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बायोपिक बनने की हुई घोषणा

लंपिक सिल्वर मैडल विजेता वेटलिफ्टर सैखोम मीराबाई चानू की बायोपिक की घोषणा हाल ही में…

10 hours ago

This website uses cookies.