भारत में 5 ‘पहली महिलाएं’ जिन्होंने अपने क्षेत्र में बाधाओं का सामना किया और सफल हुईं

Published by
Farah

भारत में लिंग समानता एक प्रमुख मुद्दा रहा है लेकिन कुछ महिलाएं हमेशा बाधाओं को तोड़ने और उन क्षेत्रों में प्रवेश करने में कामयाब रही हैं जो परंपरागत रूप से पुरुषों के लिए आरक्षित हैं.  इन महिलाओं ने असामान्य व्यवसायों और अपने क्षेत्रों में उत्कृष्टता दर्ज करने में बहुत साहस दिखाया है. भारत की ऐसी ही 5 अग्रणी महिलाएं हैं

पहली महिला पायलट- प्रेम माथुर

Pic credits : IDiva

वैश्विक स्तर पर  आज 130,000 एयरलाइन पायलटों में से 4,000 महिलाएं हैं. 21 वीं शताब्दी में लगभग डेढ़ दशक बाद भी दुनिया अभी भी महिला पायलटों के लिए तैयार नजर नही आ रही है.  लेकिन भारत की आजादी के कुछ ही वर्षों बाद ही भारत को अपनी पहली महिला पायलेट मिल गई. कैप्टन प्रेम माथुर कमर्शियल पायलट बनने वाली पहली भारतीय महिला बनीं. उन्होंने डेक्कन एयरवेज  के लिये 1951 में उड़ान भरना शुरु किया. इसके पहले 1947 में उन्होंने अपना वाणिज्यिक पायलट लाइसेंस प्राप्त किया और 1949 में नेशनल एयर रेस जीती.

प्रथम आईपीएस अधिकारी- किरण बेदी

वह शायद हमारे समय की सबसे लोकप्रिय भारतीय महिला हैं . राजनीति विज्ञान व्याख्याता के रूप में अपना करियर शुरू करना वाली किरण बेदी  जुलाई 1972 को भारतीय पुलिस सेवा में आ गई और पहली महिला आईपीएस अधिकारी बन गई. बाद में वह संयुक्त राष्ट्र शांति कार्य संचालन में नागरिक पुलिस सलाहकार भी रही.  2007 में स्वेच्छा से सेवानिवृत्त होने से पहले बेदी ने कई पदों पर काम किया.

पहली सुप्रीम कोर्ट जज- फातिम बीवी

1989 में  भारत को अपनी पहली महिला सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश, एम फातिमा बीवी मिली. उन्होंने केरल में निचली न्यायपालिका में अपने करियर की शुरूआत की और बाद में 1972 में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट बन गई. 1984 में वह उच्च न्यायालय की स्थायी न्यायाधीश बन गईं और सिर्फ पांच साल बाद  6 अक्टूबर को न्यायाधीश के रूप में सुप्रीम कोर्ट में नियुक्त किया गया,  जहां वह 29 अप्रैल 1992 को सेवानिवृत्त हुईं.

पहली लेफ्टिनेंट जनरल, भारतीय सेना – लेफ्टिनेंट पुनीता अरोड़ा

पुनीता अरोड़ा भारतीय सर्वोच्च सशस्त्र बल की लेफ्टिनेंट जनरल और बाद में भारतीय नौसेना की वाइस एडमिरल  नियुक्त होने वाली पहली भारतीय महिला बनी. 1963 में सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज, पुणे में नियुक्त होने के उन्होंने भारतीय सशस्त्र बल में 36 साल का समय गुजारा जिसमें उन्हें 15 पदकों से सम्मानित किया गया.

 

डालर 1 बिलियन नेट-वर्थ वाली पहलीबिज़नेसवुमेन- किरण मजूमदार शॉ

बायोकॉन लिमिटेड की चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर किरण मजूमदार शॉ 1 अरब डॉलर के नेट वर्थ तक पहुंचने वाली पहली भारतीय व्यवसायी बनी.  उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में बलारेट कॉलेज आफ एडवांसड एजुकेशन से मेलटिंग और ब्रूइंग का अध्ययन किया. वह पूरे कोर्स में एक मात्र महिला थी. अपने उद्यम को शुरू करते समय बड़ी परेशानियों का सामना करने के बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी और वर्तमान में देश के सबसे सफल उद्यमियों में से एक हैं.

 

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

9 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

9 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

9 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

10 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

11 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

11 hours ago

This website uses cookies.