पिछले कुछ हफ्तों में स्कूल से संबंधित अपराधों की बढ़ती संख्या ने स्कूल परिसर में छात्रों की सुरक्षा पर एक बड़ा सवाल खड़ा किया है। रयान इंटरनेशनल में हुई हत्या जैसी भयानक घटनाओं के विषय में स्कूलों के पास कोई जवाब नहीं है। जिसकी वजह से पूरे देश भर में माता-पिता डर के घेरे में है।

image

स्कूल अधिकारियों की ओर से लापरवाही स्वीकार नहीं की जा सकती

“स्कूल परिसर के भीतर बच्चों की सुरक्षा किसी भी माता-पिता के लिए सबसे महत्त्वपूर्ण बात है। बच्चों की सुरक्षा, देखभाल और पोषित वातावरण प्रदान करना स्कूलों की ज़िम्मेदारी है। स्कूल अधिकारियों की ओर से किसी भी प्रकार की लापरवाही से अगर बच्चों का शोषण हो सकता है, विशेष रूप से यौन शोषण, तो यह बिल्कुल स्वीकार नहीं किया जा सकता।” पुणे से दो वर्षीय बच्चे की माँ दीपशिखा चक्रवर्ती कहती हैं।

हैप्पी लाइव्स की फाउंडर कुशा कालरा का मानना है कि ऐसे कई कारण होते हैं जो स्कूलों को बच्चों के लिए असुरक्षित बनाते हैं। उन्होंने बताया कि कुछ ऐसी चीज़ें होती हैं जो स्कूलों से नगारद हैं जैसे कि कर्मचारियों के बैकग्राउंड की जांच प्रक्रिया, निगरानी रखने वाले कैमरे ठीक तरह से काम कर रहे हैं या नहीं, विद्यालयों की सीढ़ियों पर सहायक स्टाफ/महिला सहायक की उपस्थिति।

उन्होंने इस बात पर भी ज़ोर दिया कि कई बार, शिक्षकों को बच्चों की हाज़री के बारे में कोई जानकारी नहीं होती। वे ये सुनिश्चित तक नहीं करते कि अगर बच्चे दिन की शुरुआत में उपस्थित हैं, तो क्या वे दोपहर के भोजन के बाद और दिन के अंत में भी मौजूद हैं या नहीं।

“हम हर सुबह जागते हैं, बच्चों के लिए लंच बनाते हैं, उन्हें स्कूल में छोड़ कर आते हैं और उसके बाद हमें ये सब सुनने को मिलता है। हम इन दिनों किसी पर भरोसा नहीं कर सकते,”- आशा सिंह.

पढ़िए: 5 महिलाएं हमें बताती हैं कि वह रात में सुरक्षा कैसे सुनिश्चित करती हैं 

माता-पिता की भूमिका

उन्होंने यह भी समझाया कि माता-पिता अपने बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए क्या कर सकते हैं। “माता-पिता के रूप में, हमें अपने बच्चों को अच्छे टच और बुरे टच के बारे में जानकारी प्रदान करनी चाहिए, बच्चे की दिनचर्या पर नज़र रख सकते हैं जिससे कि ये पता रहे कि उनके जीवन में क्या चल रहा है, बदमाशी, रैगिंग और सहकर्मी दबाव आदि जैसे मुद्दों के बारे में उनसे चर्चा कर सकते हैं, और इस तरह के मुद्दों से निपटने या उनसे दूर रहने के लिए मार्गदर्शन भी कर सकते हैं। अपने बच्चों को सुरक्षित और स्वतंत्र महसूस करने में मदद करने के लिए स्वयं रक्षा और अन्य रणनीति सीखने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।”

अब किसी पर विश्वास नहीं किया जा सकता

दिल्ली में रहने वाली आशा सिंह, जो दो बच्चों की माँ हैं , कहती हैं कि रयान इंटरनेशनल के हत्याकांड की खबर से उनके रोंगतें खड़े हो गए. “हम हर सुबह जागते हैं, बच्चों के लिए लंच बनाते हैं, उन्हें स्कूल में छोड़ कर आते हैं और उसके बाद हमें ये सब सुनने को मिलता है। हम इन दिनों किसी पर भरोसा नहीं कर सकते,” उन्होंने कहा, स्कूल परिसर में बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करना स्कूल अधिकारियों की पूरी जिम्मेदारी होती है।

सरकार कुछ कदम ले सकती है

“ऐसे मामले नए नहीं है लेकिन बात यह है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के कारण अब लोग अधिक जाग्रुक रहते हैं। आपको अपने बच्चों को अच्छे और बुरे टच के बारे में सिखाना चाहिए। यह माता-पिता के माध्यम से और एक ओरिएंटेशन के रूप में स्कूलों द्वारा भी हो सकता है। उच्च स्तर पर, सरकार कुछ कदम ले सकती है. इन विषयों पर काम कर रहे संगठनों का संपर्क डेटाबेस तैयार करके रखना चाहिए।” कहती हैं ऋतु गोराई, जेऐएमएम नेटवर्क की चीफ कनेक्ट अफसर (जर्नी अबाउट मस्त मॉम्स)

हम आशा करते हैं कि आने वाले वर्षों में, स्कूल ऐसे स्थान बन जाएँ जहाँ माता-पिता अपने बच्चों को बिना किसी डर के भेज सकें।

पढ़िए : बेटों और बेटियों को एक ही संदेश दें, कहती हैं अनु आगा

Email us at connect@shethepeople.tv