यह पल रानी मुखर्जी और हिचकी के निर्माताओं के लिए सबसे गर्व और सबसे खुशी का पल है। उनकी फिल्म हिचकी को इटली में ग्रीफ़ोन अवार्ड से  सम्मानित किया गया है । फिल्म में रानी को एक स्कूल टीचर के रूप में दिखाया गया है जो खुद टोरेट सिंड्रोम का सामना करते हुए  गरीब बच्चों को पढाई और स्कूल का असली मतलब समझाती है । यह फिल्म रूढ़िवादियों को तोड़कर एक प्रगतिशील संदेश देती है । रानी का किरदार इस फिल्म में आर्थिक रूप से पिछड़े तबके के छात्रों के जीवन को बदल देता है।

image

इस फिल्म ने दुनिया भर के दर्शको का दिल जीता और 250 करोड़ रुपये कमाए थे। और अब फिल्म ने इटली के गिफोनी फिल्म फेस्टिवल के 49 वें एडिशन में बड़ी जीत हासिल की और बेस्ट फिल्म के लिए ग्रिफॉन अवार्ड हासिल किया है।

रानी ने बेटी आदिरा के जन्म के बाद हिचकी से अपने फ़िल्मी करियर में वापसी की और वह बॉक्स ऑफिस पर फिल्म के अच्छे रिस्पांस के बारे में पूरी तरह से श्योर थीं। दरअसल, रानी ने यह भी बताया था कि कैसे उन्हें अपनी प्रेग्नेंसी से पहले यह फिल्म ऑफर की गई थी।

निर्माता मनीष शर्मा भी इस उपलब्धि से बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा, “हिचकी वास्तव में एक ऐसी फिल्म है जिसने दुनिया भर के दर्शकों को जोड़े रखा है। सबसे बड़ी बात यह है कि बच्चों ने इस फिल्म को खुद बेस्ट फिल्म जिताने के लिए वोट दिया है। यह दिखाने के लिए कि फिल्म की कहानी मुसीबतो पर काबू पाने और अपनी सफलता पाने की कहानी इस आयु वर्ग के लिए भी सिनेमा प्रेमियों के लिए ज़रूरी है। हम वाई आर एफ में बिल्कुल रोमांचित हैं कि बच्चों ने इटली में हिचकी के संदेश को अच्छे से समझा है। ”

हिचकी रानी मुख़र्जी की वो  फिल्म है जो उन्होंने अपनी बेटी आदिरा के जन्म के बाद साइन की थी। हिचकी से रानी को शुरू से ही बहुत उम्मीदे थी और उन्हें पक्का पता था की यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर अपना जलवा ज़रूर बिखेरेगी । हिचकी में अपने किरदार के लिए रानी ने शुरू से ही बहुत मेहनत की है ।

Email us at connect@shethepeople.tv