न्यूज़

लड़कों से बात करने से होता है लड़कियों का अपहरण, कहते हैं मध्य प्रदेश के डीजीपी

Published by
Ayushi Jain

मध्य प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) वीके सिंह ने राज्य में अपहरण के मामलों की बढ़ती संख्या के लिए अप्रत्यक्ष रूप से लड़कियों को ज़िम्मेदार ठेहराया है। मध्य प्रदेश में अपहरण और बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर उनसे पूछताछ की जा रही थी।

उन्होंने कहा कि एक नया चलन है जिसे आईपीसी  363 के रूप में देखा जा सकता है। यह एक तथ्य है कि आजकल लड़कियां अधिक स्वतंत्र हो गई हैं। इनमें से काफी अपहरण के मामले सामने आए हैं जब लड़कियाँ अपने घरों से कहीं बाहर जाती हैं।

मध्य प्रदेश के पुलिस महानिदेशक, वीके सिंह ने एक विचित्र और सेक्सिस्ट टिप्पणी करते हुए कहा कि लड़कियों के ज़्यादा इंडेपेंडेंट होने के कारण राज्य में नकली अपहरण के मामले बढ़ रहे हैं।

हाल ही में, पिछले महीने जून में आठ वर्षीय एक लड़की के साथ बलात्कार कर उसकी हत्या कर दी गई।

लड़की कुछ खरीदने के लिए शनिवार की रात लगभग 8 बजे अपने घर से निकली थी। जब वह वापस नहीं लौटी, तो उसके परिवार के सदस्यों ने पुलिस से संपर्क किया, अधिकारी ने कहा। पुलिस ने बताया  कि उसका शव भोपाल के कमला नगर में रविवार की सुबह  उसके घर के पास एक नाले के पास मिला।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार, बलात्कार के बाद लड़की का गला दबाकर उसकी हत्या कर दी गई”, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अखिल पटेल ने बताया।

डीजीपी का बयान

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, 2016 में मध्य प्रदेश में बच्चों के अपहरण और अपहरण के 6,016 से अधिक मामले सामने आए। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (ऍनसी RB) ने आंकड़ों की पुष्टि की। सिंह 1984 बैच के आईपीएस  अधिकारी हैं, जिन्होंने 2018 के अक्टूबर में डीजीपी का पदभार संभाला था।

एक नया ट्रेंड  आईपीसी  363 के रूप में  सामने आया है। लड़कियाँ ज़्यादा स्वंतत्र हो रही है आज के समाज में लड़कियों  की बढ़ती स्वतंत्रता  एक तथ्य है। ऐसे मामलों में काफी बढ़ोतरी हुई है जिसमे लड़कियाँ घर से चली जाती है और रिपोर्ट होती है अपहरण की ”

उन्होंने जो कहा, यह कहकर, शायद, डीजीपी यह बताना चाहते थे, कि आजकल की लड़कियाँ शिक्षा और एक्सपोज़र का बेहतरीन इस्तेमाल कर रही हैं। उन्हें अपने संबंधित परिवारों द्वारा अधिक स्वतंत्रता दी जा रही है, जो बदले में उन्हें लड़कों के साथ बातचीत  करने का अवसर भी देती है। उनका अर्थ है कि इस स्वतंत्रता का उपयोग करने वाली कुछ लड़कियां अक्सर माता-पिता की इच्छा के विरुद्ध अपनी पसंद के लड़कों के साथ घर से भाग जाती हैं। और कई बार, ऐसी लड़कियों के माता-पिता लड़के और उसके परिवार के खिलाफ ‘झूठे’ अपहरण के मामले दर्ज करते हैं।

यह बात पूरी तरह से गलत नहीं है। ऐसे कई मामले हैं जहां लड़कियां अपने बॉयफ्रेंड के साथ भाग जाती है लेकिन उनके परिवार वाले लड़के और उसके परिवार को दोषी ठहराते हैं और उनके खिलाफ अपहरण के झूठे मामले दर्ज कराते हैं। यह ज्यादातर इंटर कास्ट और इंटर रिलिजन  विवाह के साथ होता है, या जब दोनों परिवारों की वित्तीय और सामाजिक स्थिति में भारी अंतर होता है, क्योंकि कई माता-पिता ऐसे रिश्तों को स्वीकार नहीं करते हैं.

.

Recent Posts

Marital Rape: बंद गेट के पीछे का सेक्सुअल वायलेंस हम इंग्नोर नहीं कर सकते हैं

एक महिला के लिए तब आवाज उठाना बहुत मुश्किल होता है जब रेप करने वाला…

14 hours ago

Ram Mandir Saree: उत्तर प्रदेश के चुनाव से पहले साड़ी पर मोदी, योगी और राम मंदिर हुए वायरल

अहमदाबाद के एक पत्रकार ने वीडियो शेयर की थी जिस में अयोध्या के थीम पर…

19 hours ago

Loop Lapeta Online Release: क्या आप लूप लपेटा फिल्म ऑनलाइन देखने का इंतज़ार कर रहे हैं? जानिए जरुरी बातें

तापसी पन्नू हमेशा से ऐसी फिल्में लेकर आती हैं जो कि महिलाओं को हमेशा एक…

20 hours ago

मुलायम सिंह की बहु BJP में शामिल हुई, अखिलेश यादव की बात पर कहा “राष्ट्र धर्म” सबसे ऊपर है

अपर्णा का कहना है कि उनको बीजेपी की नीतियां और काम करने का तरीका बेहद…

21 hours ago

अपर्णा यादव कौन हैं? मुलायम सिंह की छोटी बहु ने बीजेपी ज्वाइन की

अपर्णा यादव की शादी मुलायम सिंह के छोटे बेटे प्रतीक यादव की बहु है। इन्होंने…

21 hours ago

Gehraiyaan Trailer Release Date: दीपिका पादुकोण की गहराइयाँ फिल्म का ट्रेलर कब होगा रिलीज़

दीपिका ने बताया है कि कैसे डायरेक्टर बत्रा और संजय लीला भंसाली स्क्रिप्ट में और…

23 hours ago

This website uses cookies.