न्यूज़

वनिता मैथिल महिला सशक्तिकरण की और एक बड़ा कदम

Published by
Aastha Sethi

केरल में महिलाओं ने लैंगिक समानता पर जोर देने के लिए, वनिता मैथिल या वीमेन वाल यानि एक 620 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई.

महिलाओं ने केरल के सभी 14 जिलों में राष्ट्रीय राजमार्गों के किनारे एक-दूसरे का हाथ पकड़कर भाग लिया. उन्हें समाज और प्रशासन को अपने अस्तित्व की याद दिलाने के लिए सड़कों पर उतरना पड़ता है. लंबे समय से हमारे देश में महिलाओं ने लिंग पर भेदभाव व उत्पीड़न को सहा है. और सबरीमाला मामला एक आखिरी कड़ी थी.

सबरीमाला में प्रवेश करने से महिलाओं को रोकना दिखाता है कि समाज की पितृसत्ता महिलाओं पर अब भी दबाव बनाये रखना चाहता है.

महिलाओं का संगठित विरोध

हमारे देश में 2018 में महिला-केंद्रित मुद्दों चर्चित रहे. सोशल मीडिया से लेकर न्यूज़ रूम तक, हर जगह लिंग हिंसा और उत्पीड़न जैस विषयों को उछाला गया. हकीकत में हमारे पितृसत्तात्मक समाज में महिलाओं के सशक्तीकरण का कोई समर्थन नहीं. यह हम सबरीमाला मंदिर के आसपास खड़े कई पुरुषों, जो महिलाओं को मंदिर में प्रवेश करने से रोक रहे है, के रूप में देख सकते है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद, दक्षिणी भारतीय समाज ने महिलाओं को सबरीमाला से बाहर रखने में कोई कसर नहीं छोड़ी. विरोध से ज़्यादा उनका विरोध का तरीका निराशाजनक था.

पितृसत्तात्मक मान्यताओं के खिलाफ एकता

लेकिन महिलाएं ने आक्रामकता या अहंकार को नहीं, बल्कि इन पितृसत्तात्मक मान्यताओं के खिलाफ लड़ाई में एकता को हथियार बनाया.

महिलाएं कंधे से कंधा मिलाकर एक-दूसरे का हाथ थामे रहीं, उन्होंने कहा कि अब वे जुल्म नहीं सहेंगी. महिलाओं की दीवार सिर्फ एकता नहीं, बल्कि एक महान प्रभाव पैदा करती है, पुरुष शारीरिक प्रतिरोध का मुकाबला करने के लिए. और समाज के उस वर्ग को दिखाने के लिए जो अभी भी पितृसत्तात्मक मान्यताओं का पालन करता है. महिलाएं सड़क पर शांति से खड़े है,क्योंकि बल और हिंसा से आपका तर्क कमजोर हो जाता है.

वनिता मैथिल महत्वपूर्ण है

वनिता मैथिल पुरुषों को बताता है, जो महिलाओं के सशक्तिकरण का विरोध करते हैं, कि हम आसानी से नहीं डरेंगे. हमने अब हिंसा और उत्पीड़न को सहन करने से इंकार कर दिया है. इसके अलावा, यह अन्य भारतीय महिलाओं को बताता है कि लैंगिक समानता के लिए लड़ने के लिए, हमें एक एकीकृत रुख की जरूरत है.

हम अकेले नहीं हैं, न ही कमजोर है. एकसाथ रहकर, हम हर हुकूमत, हर खतरे और हिंसा के हर कदम से लड़ सकते है.

फोटो क्रेडिट: द इंडियन एक्सप्रेस

(यह लेख यामिनी पुस्तके भालेराव ने अंग्रेजी में लिखा है)

Recent Posts

COVID के समय में दोस्ती पर आधारित फिल्म बालकनी बडीज इस दिन होगी रिलीज

एक्टर अनमोल पाराशर और आयशा अहमद के साथ बालकनी बडीज में दिखाई देंगे। इस फिल्म…

6 mins ago

COVID-19 डेल्टा वैरिएंट है चिकनपॉक्स जितना खतरनाक, US की एक रिपोर्ट के मुताबित

यूनाइटेड स्टेट्स के सेंटर फॉर डिजीज कण्ट्रोल की एक स्टडी में ऐसा सामने आया कि…

12 mins ago

किसान मजदूर की बेटी ने CBSE कक्षा 12 के रिजल्ट में लाये पूरे 100 प्रतिशत नंबर, IAS बनकर करना चाहती है देश सेवा

उत्तर प्रदेश के बडेरा गांव की एक मज़दूर वर्कर की बेटी अनुसूया (Ansuiya) ने केंद्रीय…

32 mins ago

गौहर खान का खुलासा, पति ज़ैद दरबार नहीं करते शादी अगर नहीं मानती उनकी ये विश

एक्ट्रेस गौहर खान ने खुलासा किया कि पति जैद दरबार उनकी एक विश पूरी ना…

1 hour ago

कौन है अशनूर कौर ? इस एक्ट्रेस ने लाए 12वी में 94%

अशनूर कौर एक भारतीय एक्ट्रेस और इन्फ्लुएंसर हैं जिनका जन्म 3 मई 2004 में हुआ…

2 hours ago

This website uses cookies.