भारत टीम की पूर्व हॉकी कप्तान सुनीता चंद्रा का सोमवार को निधन हो गया। वह 76 वर्ष की थीं और उनके परिवार में उनके दो बेटे और पति यतीश चंद्र हैं। उनके एक बेटे गौरव चंद्रा ने सुनीता के निधन के बारे में पीटीआई को बताया कि उनका निधन उनके मध्य प्रदेश के घर पर हुआ था। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को भोपाल के भदभदा विश्राम घाट पर किया गया। गौरव ने कहा, “सोमवार सुबह, हमने उन्हें बिस्तर पर मृत पाया।”, उन्होंने कहा।

image

वह 1956 से 1966 तक भारतीय महिला हॉकी टीम के लिए खेली, और अपने करियर के अंतिम तीन वर्षों (1963-1966) में कप्तान रहीं। चंद्रा अर्जुन पुरस्कार पाने वाली मध्य प्रदेश की पहली महिला भी थीं।

देशभर से संवेदना

कई वरिष्ठ खिलाड़ियों ने परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की और शोक व्यक्त किया। “यह एक बड़ा नुकसान है। सुनीता एक बेहतरीन खिलाड़ी ही नहीं, बल्कि एक दयालु इंसान भी थीं। भोपाल में हॉकी के विकास में वह बहुत एक्टिव तरीके से शामिल थी, ” पूर्व ओलंपियन जलालुद्दीन रिज़वी और अर्जुन अवार्डी ने कहा।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी दुख व्यक्त किया और सुनीता को एक काबिल खिलाड़ी बताया, और उन्हें देश का गौरव बताया।

भारतीय महिला हॉकी का शानदार करियर ग्राफ 

भारतीय महिलाओं की टीम 1974 में मंडेलियू में विश्व कप में चौथे स्थान पर रही। 1980 में मास्को ओलंपिक में प्रदर्शन को दोहराया गया था, जहां भारतीय महिला हॉकी टीम को पहली बार इस तरह के भव्य मंच पर पेश किया गया था।

1982 के एशियाई खेलों में, उन्होंने 2002 के राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान लगातार तीन गोल्ड मैडल जीतकर भारत का गौरव बढ़ाया था । फिर उन्होंने 2003 एफ्रो-एशिया गेम्स और 2004 महिला हॉकी एशिया कप जीता। 2014 में इंचियोन में एशियाई खेलों में ब्रोंज मैडल जीतने के बाद भारत ने फिर से अपना स्थान हासिल कर लिया।

वर्तमान भारतीय महिला हॉकी ने टोक्यो 2020 खेलों के लिए अपना स्थान बुक किया। भारत में खेल के इतिहास में यह पहली बार होगा कि एक महिला हॉकी टीम लगातार दो बार समर गेम्स खेलेगी।

Email us at connect@shethepeople.tv