उत्तर प्रदेश के अमेठी में शनिवार को गोली लगने से बीजेपी के एक सदस्य सुरेंद्र सिंह की मौत हो गई । अपनी पार्टी के सहकर्मी के लिए स्मृति ईरानी का उनकी अर्थी को कन्धा देने का एक वीडियो वायरल हुआ है। बरौलिया गाँव के पूर्व ग्राम प्रधान और भाजपा नेता स्मृति ईरानी के करीबी सुरेन्द्र सिंह को पिछले सप्ताह उनके घर पर हमलावरों ने गोली मार दी थी। स्मृति ईरानी के अमेठी संसदीय क्षेत्र से लोकसभा चुनाव जीतने के कुछ ही दिनों बाद यह घटना हुई।

image

जैसे ही स्मृति ईरानी ने अपने सहयोगी की अर्थी को कन्धा दिया, सोशल मीडिया बड़ी संख्या में उनका समर्थन करने और उन्हें महिला सशक्तीकरण का प्रतीक कहने के लिए सामने आया। पत्रकार पल्लवी घोष ने कहा, “यह सच्ची महिला सशक्तीकरण का सबसे अच्छा प्रतीक है। जो लोग समझ नहीं पाते हैं, कई महिलाओं को तो आरती भी उतारने की अनुमति नहीं है ।”

‘कोई शक नहीं कि यह छवि एक अत्यंत शक्तिशाली संदेश भेजती है, कि महिलाओं को पुरुषप्रधान समाज की बेड़ियों को तोड़ना चाहिए और महिला सशक्तीकरण की नई परिभाषा लिखनी चाहिए। भारत में सदियों से केवल पुरुष सदस्यों को ही परंपरा के अनुसार अर्थी को कन्धा देने की अनुमति दी जाती रही है, लेकिन स्मृति ईरानी का ऐसा करना निश्चित रूप से एक न्य चलन शुरू करेगा।

भारत में प्रियजनों के अंतिम संस्कार में शामिल होने का अधिकार महिलाओं को हासिल करना पड़ता है।

“यह वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत ने अपने बहादुर बच्चे सुरेंद्र सिंह को खो दिया। अमेठी के लोगों ने सही सांसद को चुना है, उम्मीद है कि संविधान के अनुसार चीजें बेहतर होंगी। @स्मृतीरानी हर महिला के लिए एक प्रेरणा है, ”एक और महिला ने कहा।

सुरेंद्र सिंह की हत्या की खबर मिलने पर, स्मृति ईरानी जल्द से जल्द  हवाई जहाज़ के ज़रिये अमेठी पहुंची और सुरेंद्र के परिवार को संतावना दी और उन्हें शोक व्यक्त करते हुए उनके साथ दो घंटे बिताए। स्मृति ईरानी ने अपने सहायक की अर्थी को कंधा देकर न केवल बेटियों और महिलाओं के लिए एक मजबूत संदेश दिया है बल्कि उन बेटियों को भी हिम्मत दी है जिन्हे  पारंपरिक रूप से मृतक के दाह संस्कार में साथ जाने के अवसर से वंचित किया गया है, बल्कि शासन के मानवीय चेहरे को भी प्रकट किया है।

“मैंने सुरेंद्र सिंह जी के परिवार के सामने शपथ ली है –  जिसने गोली चलाई और जिसने इस बात का आदेश दिया – भले ही मुझे दोषियों को मौत की सजा दिलाने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाना पड़े, हम अदालत के दरवाजे खटखटाएंगे,” उन्होंने द हिंदुस्तान टाइम्स को दिए एक बयान में कहा ।

Email us at connect@shethepeople.tv