साइक्लोन यास लैंड स्लाइड – भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि ‘बहुत गंभीर साइक्लोन यास’ ने बुधवार को सुबह 9 बजे ओडिशा में धामरा बंदरगाह के नार्थ और बालासोर जिले के साउथ में लैंडफॉल बनाया है।

कहाँ हुआ है साइक्लोन यास से लैंड स्लाइड ?

एक अधिकारी ने कहा कि भूस्खलन का स्थान बालासोर के लगभग 50 किलोमीटर के तटीय क्षेत्र के करीब है। डॉपलर रडार डेटा के अनुसार, लैंडफॉल के दौरान हवा की गति 140 से 155 किमी के बीच थी और लैंडफॉल को पूरा होने में कई घंटे लग सकते हैं।

अधिकारियों के मुताबिक, यास मयूरभंज को पार करेगा और आधी रात के आसपास झारखंड में एंटर करेगा। ओडिशा राज्य के नौ जिलों को भूस्खलन से पहले हाई अलर्ट जारी किया गया था। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, आईएमडी ने कहा कि चक्रवात यास की लैंडफॉल प्रक्रिया को पूरा होने में लगभग तीन घंटे लगेंगे। ओडिशा राज्य साइक्लोन यास की मार झेल रहा है।

आज रात को ये झारखण्ड पहुंच जायेगा। फ़िलहाल ओडिसा के 9 डिस्ट्रिक्ट में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है । ममता बनर्जी ने कहा कि वो निबांना की सेक्रेटेरिएट बिल्डिंग कण्ट्रोल रूम में रहकर साइक्लोन यास को मॉनिटर करेंगी। इन्होंने कहा कि वो सभी डीएम को चेतावनी दे चुकी हैं और पूरी तैयारियां कर ली हैं।

कैसे की गयी थी साइक्लोन की तैयारी ?

ममता बनर्जी ने कहा कि वो निबांना की सेक्रेटेरिएट बिल्डिंग कण्ट्रोल रूम में रहकर साइक्लोन यास को मॉनिटर करेंगी। स्थिति को संभालने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए, ममता बनर्जी ने कहा कि 4,000 शेल्टर होम तैयार किए गए हैं और दस लाख लोगों को निकाला जाना है। उन्होंने कहा कि 51 आपदा प्रबंधन दल, 1000 बिजली और 400 अस्थिर रेस्टोरेशन टीमों का गठन किया गया है।

बनर्जी ने आगे कहा कि 20 जिले गंभीर रूप से प्रभावित होंगे। ममता का कहना है कि सर्कार वेस्ट बंगाल के प्रति पार्शियल है और सिर्फ 400 करोड़ का बी बजट दिया गया है बल्कि वेस्ट बंगाल ओडिसा और अंदर प्रदेश दोनों से बड़ा है।

Email us at connect@shethepeople.tv