राजस्थान विधानसभा में बुधवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा वर्ष 2021-22 के लिए राजस्थान का बजट पेश किया गया। बजट के मुताबिक़, सरकार ने ‘नि: शुल्क दवा योजना’ के तहत महिलाओं (विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं) को मुफ्त सैनिटरी नैपकिन उपलब्ध कराने का फैसला किया है। इस योजना पर लगभग 200 करोड़ रुपये लगाए गए हैं। सरकार ने स्वास्थ्य और चिकित्सा सुविधाओं जैसे प्रमुख क्षेत्रों पर बहुत ज़ोर दिया है। (सेनेटरी पैड राजस्थान बजट 2021)

राजस्थान बजट 2018: वसुंधरा राजे ने Menstrual Hygiene Scheme (MHS) लागू की थी

राजस्थान की पूर्व मुख्य मंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने 2018 में सैनिटरी नैपकिन बाटने के लिए इसी तरह की योजना शुरू की थी। यह योजना स्कूलों, कॉलेजों, आंगनवाड़ी केंद्रों आदि में लड़कियों को पैड मुहय्या कराने के लिए शुरू की गई थी।

राजस्थान का बजट 2021 पेपरलेस रहा

यह बजट एक और बात के लिए जाना जा रहा है , यह राज्य का पहला पेपरलेस बजट है, और कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार का तीसरा बजट भी है। “राज्य का बजट 2021-22 इस बार पेपरलेस होगा। विधायकों को हार्ड कॉपी के बजाय बजट भाषण और टैबलेट में अन्य संबंधित दस्तावेजों की सॉफ्ट कॉपी प्रदान की जाएगी।”- राज्य के financial department के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा।

इसके अलावा, सीएम अशोक गहलोत ने घोषणा की कि उनकी सरकार एक सार्वभौमिक स्वास्थ्य देखभाल योजना (Universal health care scheme) शुरू करेगी, जिसके लिए 3,500 करोड़ आवंटित किए जाएंगे। 25 जिलों में नए नर्सिंग कॉलेज भी स्थापित किए जाएंगे। घरों में तुलसी और गिलोय जैसी जड़ी-बूटियों के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए एक ‘घर घर औषधि योजना’ भी शुरू की जाएगी।

(सेनेटरी पैड राजस्थान बजट 2021)

Email us at connect@shethepeople.tv