फ़ीचर्ड

6 कानून जो हर महिला को पता होने चाहिए

Published by
Ayushi Jain

महिलाओं को उनके अधिकारों के बारे में जानकारी नहीं होने के कारण उनके साथ अपराध होते हैं. अपराधों की बढ़ती संख्या के खिलाफ लड़ने के लिए, अपने कानूनी अधिकारों का पता होना पूरी तरह से जरूरी है। भारतीय संविधान महिलाओं को कई अधिकार प्रदान करता है। यहां हर लड़की और महिला के अधिकारों की लिस्ट है जो सभी महिलाओं को पता होने चाहिए।

Maternity Benefits Act (2017)

मैटरनिटी बेनिफिट्स एक्ट 2017, महिलाओं की प्रेगनेंसी के दौरान वर्किंग महिलाओं के हितों की रक्षा करता है। इस एक्ट के अनुसार, हर एम्प्लायर को प्रेगनेंसी के कार्यकाल के दौरान प्रत्येक महिला कर्मचारी को कुछ विशेष सुविधाएं प्रदान करनी होंगी। इन विशेष लाभों में पेड मैटरनिटी लीव (12 से 26 सप्ताह तक), वर्क फ्रॉम होम (सामान्य वेतन लाभ के साथ) और वर्कप्लेस पर क्रेच सुविधाएं भी शामिल हैं। यह एक्ट महिलाओं को उनके काम और पारिवारिक जीवन को बैलेंस करने के लिए अधिक लाभ देता है।

हालांकि, इस एक्ट को लोगों से बैकलैश मिला। बिज़नेस एक्सपर्ट्स के अनुसार, एम्प्लॉयर्स अब महिला कर्मचारियों को रखने के लिए कम उत्सुक होंगे, इस प्रकार उनके लिए नौकरी के अवसर कम होंगे।

Protection of Women from Domestic Violence (2005)

यह कानून मुख्य रूप से किसी भी महिला साथी (चाहे पत्नी हो या महिला लिव-इन पार्टनर) को पुरुष साथी द्वारा की गई हिंसा से सुरक्षा प्रदान करता है। जैसे कि महिला अपने साथी या परिवार के सदस्यों के खिलाफ शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक या मनोवैज्ञानिक नुकसान के लिए शिकायत दर्ज कर सकती है. इस कानून में अमेंडमेंट के बाद विधवा महिलाओं, बहनों और तलाकशुदा महिलाओं को भी इस तरह के अधिकार दिए गए।

Hindu Succession Act (2005)

यह एक्ट सभी हिंदू महिलाओं को पिता की संपत्ति पर पूर्ण नियंत्रण और शक्ति का अधिकार देता है। 2005 में हुए अमेंडमेंट्स ने परिवार के पुरुष और महिला बच्चे के बीच संपत्ति के बांटने के अधिकार को आगे बढ़ाया। जैसे कि बेटियों की शादी के बाद भी उनके पिता की संपत्ति पर समान अधिकार होता है।

Prohibition of Child Marriage Act (2006)

हमारे देश में बाल विवाह एक बहुत पुराना रिवाज रहा है। यह कानून दोनों लिंगों के बच्चों को जल्दी शादी के कारण होने वाली परेशानियों से बचाता है। हालाँकि, ज्यादातर मामले जो खुले में सामने आते हैं उनमे छोटी लड़कियों की शादी उनसे बड़े आदमी से कर दी जाती है। जैसे, यह जानना जरूरी है कि एक लड़की की शादी करने की कानूनी उम्र 18 साल है, जबकि लड़के के लिए यह 21 साल की उम्र है। माता-पिता जो निर्धारित उम्र तक पहुंचने से पहले अपने बच्चों का ज़बरदस्ती विवाह कर लेते हैं, इस कानून के तहत दंड के अधीन हैं।

Street Harassment

हालांकि इंडियन पीनल कोड अपनी पुस्तकों में स्ट्रीट उत्पीड़न / ईव टीजिंग का उपयोग या परिभाषित नहीं करता है, लेकिन यह निश्चित रूप से आपको नुकसान से बचाता है। उदाहरण के लिए, इसे सार्वजनिक रूप से एक महिला को परेशान करने  के कार्य के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, उदाहरण के लिए, किसी महिला पर अपमानजनक टिप्पणी करना। आईपीसी की धारा 294 और 509 महिलाओं को ऐसी स्थितियों से बचाती है और किसी भी व्यक्ति को किसी भी उम्र की महिला के प्रति अपमानजनक टिप्पणी या इशारा करने के लिए एक व्यक्ति या समूह को दंड दिया जा सकता है।

Dowry Prohibition Act (1961)

बाल विवाह की तरह ही दहेज भी भारतीय संस्कृति में एक सदियों पुरानी परंपरा है। इसमें लोग चाहते हैं कि शादी के लिए दुल्हन और उसका  परिवार अधिक से अधिक राशि का भुगतान करे। भारतीय कानून इस तरह के किसी भी कार्य को दंडित करता है और परिवारों के बीच संबंध बनाता है।

पढ़िए : भारत में महिलाओं के खिलाफ साइबर क्राइम और उन अपराधों के खिलाफ कानून

Recent Posts

मध्य प्रदेश में 2 साल की बच्ची के फेफड़े में मिला मेटल स्प्रिंग

मध्य प्रदेश से हैरान कर देने वाली खबर सामने आयी है, जिसमें एक 2 साल…

3 hours ago

Taliban Bans Women In College: तालिबान के द्वारा अप्पोइंट किए गए चांसलर ने महिलाओं को कॉलेज जाने से बैन किया

तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान पर 15 अगस्त को कब्ज़ा कर लिया था और उसके बाद से…

5 hours ago

Elderly Death Rate Increased 31% : बूढ़े लोगों डेथ रेट 31% बड़ी, कोरोना के मारे हाल हुआ बुरा

लॉकडाउन में लोग घर से बाहर नहीं निकल पाए ऐसे में ऐसा बहुत हुआ है…

5 hours ago

Bad Habits For Your Breasts: 4 ऐसी आदतें जो आपके ब्रेस्ट्स के लिए नुकसानदायक हैं

ब्रेस्ट्स से संबंधित किसी भी प्रकार की बीमारी से बचने के लिए उन का विशेष…

6 hours ago

Things That Are Okay In A Marriage: शादी के लिए किन बातों को नॉर्मल करना चाहिए

हमारे समाज में शादी को लेकर बहुत सारे स्टरियोटाइपेस हैं जिन्हे बचपन से देखते और…

6 hours ago

Women Do Not Have To? लड़कियों को ये 5 चीजें करना जरूरी नहीं है

लड़कियों को बचपन से बताया जाता है कि ये मत करो, ऐसे मत बैठो, हमेशा…

6 hours ago

This website uses cookies.