लड़का-लड़की दोनों रो सकते हैं। यह समझना इतना कठिन क्यों है ?

पितृसत्ता

अपने दुख में तो कभी दूसरे को दुख में देखकर अगर कोई रोता है, तो यकीनन ही वो एक सक्षम इंसान हैं। क्योंकि उस इंसान में अपने ईमोशन को बिना किसी के डर के दिखाने की हिम्मत हैं।

Read More
भारतीय टीवी सीरियल्स में पितृसत्ता
Read More

पितृसत्ता को बढ़ावा देते हैं भारतीय टीवी सीरियल्स

ये सीरियल्स इतने मशहूर इसलिए नहीं है कि ये बेज़ुबाँ, बेबस, पीड़ित महिलाओं की आवाज़ सुनाते हैं या बेहतरीन प्रोग्रेसिव कंटेंट बनाते हैं। स्त्रियों के दम पर चलने वाले ये शोज़, स्त्रियों को मुख्य किरदार बना कर स्त्री विरोधी कंटेंट बनाने के लिए मशहूर हैं।

Read More
कामकाजी महिला कोरोना
Read More

कामकाजी महिलाओं के लिए भारी पड़ा ये कोरोना काल। जानिए क्यों

कोरोना वायरस के चलते ज्यादातर कंपनी अपने कर्मचारियों को घर से काम करने को दे रहे है।ऐसे में पुरुष ही नहीं बल्कि महिलाओं को भी एक्स्ट्रा वर्क करना पड़ रहा है। वर्किंग वूमेन के लिए और भी ज्यादा परेशानी इसलिए है क्योंकि उनके ऑफिस ही नहीं बल्कि घर के कामों के घंटे भी बढ़ गए हैं।

Read More
महिलाओं के लिए आत्मनिर्भरता
Read More

सिर्फ शादी करना ही जीवन का मकसद नहीं होता इसलिए आत्मनिर्भर बनें

चाहे लड़का हो या लड़की अपने पैरो पर खड़ा होना सबसे ज्यादा ज़रूरी है। शादी जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलु है लेकिन सिर्फ शादी करना ही जीवन का मकसद नहीं होता इसलिए सेल्फ इंडिपेंडेंट बने।

Read More
हिंदू विवाह पितृसत्तात्मक रस्में
Read More

हिन्दू शादी की 4 पितृसत्तात्मक रस्में जो आपको पता होनी चाहिए

कन्यादान एक ऐसा कोमोडीफिकेशन है जिसे खुशी-खुशी स्वीकार लिया जाता है। स्त्री खुद समाज के इस दोगलेपन को समझ नहीं पाती इसीलिए सड़क चलते कोई “माल” बोलदे तो तुरंत भड़क उठती है परंतु जब पूरे समाज के सामने उसके इंसानी रूप को अस्वीकार करके उसे सामान बनाया जाता है, तब कुछ नहीं कहती।

Read More

हमारे बारे में

शीदपीपल.टीवी भारत का पहला महिला-केंद्रित मीडिया प्लेटफार्म है. हम महिलाओं की जर्नी, और उनकी कहानियों को बढ़ावा देने के लिए समर्पित हैं. हम उन्हें एक ऐसे अद्बुद्ध नेटवर्क से जोड़ते हैं जो उन्हें सशक्त बनाता है,उन्हें प्रेरित करता है और उन्हें आगे बढ़ने का बढ़ावा देता है।

भारत में प्रत्येक गुज़रते साल के साथ महिलाएं ऑनलाइन आ रही हैं. उन्हें एक ऐसे प्लेटफार्म की ज़रुरत है जो उन्हें समझ पाए. हम उन महिलाओं से जुड़ते हैं जो नए विचारों और प्रेरणा के साथ दुनिया को समृद्ध करते हैं.

पुरस्कार विजेता पत्रकार शैली चोपड़ा द्वारा स्थापित, शीदपीपल.टीवी वो आवाज है जो भारतीय महिलाओं को आज चाहिए।