हमारे देश में बहुत से खतरनाक अपराध होते हैं और तो और खासतौर पर महिलाओं के साथ । महिलाओं के साथ हो रहे हिंसक अपराधों में एसिड अटैक बहुत ही खतरनाक और नुकसानदायक अपराध माना जाता है । इसमें शारीरिक चोट के साथ मानसिक सदमा हद से ज़्यादा होता है । भारत जैसे देश में हर दिन न जाने कितने एसिड अटैक के केस हमे देखने को मिलते हैं । भारत में जहाँ हम एसिड अटैक की बात करते हैं तो न जाने कितने ऐसी दर्दनाक कहानियां हैं जो हारा दिल दहला देती हैं ।

जहाँ इतने डेंजरस एसिड अटैक हो रहे हैं वहीं दूसरी तरफ ऐसे बहुत से कदम हैं जो एसिड अटैक विक्टिम्स की भलाई के लिए भी लिए जाते हैं । इस खतरनाक अपराध के खिलाफ जागरूकता फैलाने से लेकर एसिड की बेवजह बिक्री पर भी रोक लगाईं गई है । आइये आज शीदपीपल.टीवी पर हमे जानेंगे कुछ ऐसी एसिड अटैक विक्टिम्स के बारे में जिन्होंने इस दर्दनाक हादसे से निकलकर अपने जीवन को एक न्य मुकाम दिया ।

लक्ष्मी अग्गरवाल

Image result for laXMI AGARWAL shethepeople

तकरीबन 15 साल की उम्र में लक्ष्मी के ऊपर 32 साल के एक आदमी नईम खान ने एसिड डाला था। उस एसिड ने लक्ष्मी के चेहरे को तो जला दिया पर उसके इरादों को नहीं बदल पाया । लक्ष्मी ने इस हादसे के बाद हिम्मत नहीं हारी और बहुत डट कर हर मुश्किल का सामना किया । उन्होंने एसिड अटैक विक्टिम्स की मदद के लिए एक एनजीओ खोला और एसिड की बिक्री पर भी रोक लगवाई । हाल ही में लक्ष्मी पर एक मूवी छपाक भी सामने आयी है जिसमे दीपिका पादुकोण लीड रोल निभा रही हैं और यह फिल्म 10 जनवरी को रिलीज़ हो चुकी है ।

डॉली

डॉली 12 साल की थी, जब उससे दुगनी उम्र के आदमी ने उसे घूरना शुरू कर दिया था, भद्दी टिप्पणियाँ करते हुए और उसने उन्हें एक साथ सोने का सुझाव दिया। वह बाकि बच्चों के साथ खेल रही थी जब उस आदमी ने उसके चेहरे पर एसिड फेंक दिया और उसके चेहरे को स्थायी रूप से खराब कर दिया। इस घटना ने उसके चेहरे और नाक को नुकसान पहुंचाया जिसके कारण उसे अभी भी सांस लेने में तकलीफ होती है।

रेशमा कुरैशी

Reshma Qureshi

रेशमा कुरैशी 17 साल की थीं, जब उनकी बहन के पति समेत चार लोगों ने उन पर एसिड से हमला किया था। मई 2014 में, जब यह घटना हुई, तब वह एक परीक्षा देने के लिए इलाहाबाद में थी। खुद को और अपनी बहन को बचाने के प्रयास में, उन्होंने उन अपराधियों से एसिड छीन लिया। अपराधियों ने उसके ऊपर एसिड डाला, जिससे उसका चेहरा बुरी तरह से जल गया और ख़राब हो गया, उसकी एक आँख खराब हो गई थी। 2016 में, रेशमा ने #टेकब्यूटीबैक कैंपेन को बढ़ावा देने के लिए न्यूयॉर्क फैशन वीक में रैंप वॉक किया। वह भारत में इंडस्ट्री-ग्रेड एसिड के बड़े पैमाने पर बिक्री के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एक यूट्यूब वीडियो में भी दिखाई दी थी, जो एसिड के बेहतर बिक्री नियमों के बारे में बताती हैं, जो लिपस्टिक के रूप में आसानी से उपलब्ध है।

अनमोल

अनमोल सिर्फ दो महीने की थी जब उसके पिता ने उसकी माँ पर एसिड फेंक दिया, जो जलने से मर गई। बेबी अनमोल, जो अपनी माँ की गोद में थी, एक बिगड़े हुए चेहरे, जलन के निशान और अकेलेपन के साथ रह गयी थी। उसे कई सर्जरी की आवश्यकता थी जिनमे उसने अपनी  एक आँख भी खो दी थी और उसका चेहरा बुरी तरह से खराब हो गया। एक अनाथालय में पली-बढ़ी, अनमोल ने दोस्त बनाने के लिए बहुत संघर्ष किया और उसे नौकरी भी छोड़नी पड़ी क्योंकि उसे हर जगह काफी भेदभाव का सामना करना पड़ा। उसने फिर एक एनजीओ शुरू किया जिसे एसिड अटैक सर्वाइवर सहस फाउंडेशन कहा जाता है ताकि वे बाकी के एसिड अटैक विक्टिम्स की मदद कर सके। एक फैशन आइकन, उन्होंने कई इंस्टाग्राम और यूट्यूब चैनलों के लिए मॉडलिंग की है। अनमोल, हाल ही में लॉन्च की गई क्लोविया नाइटवियर का चेहरा भी है।

दौलत बी खान

26 साल की  मेकअप आर्टिस्ट दौलत बी खान एक सोफे पर बैठी थी, जब उसकी बहन और बहनोई ने उस पर तेजाब फेंक दिया। वो कपल उनकी मां के साथ अच्छा व्यवहार नहीं कर रहे थे, और जब दौलत ने उनकी हरकतों पर सवाल उठाया, तो उन्होंने उसके चेहरे पर तेजाब फेंककर उसे बदनाम कर दिया। इस हादसे ने उन्हें बहुत दर्द दिया पर दौलत ने इससे सिर्फ हिम्मत ही ली बल्कि उन्होंने आगे बढ़कर अपने जैसी और भी एसिड अटैक विक्टिम्स की मदद करने के लिए एक ऍनजीओ की शुरुआत की ।

Email us at connect@shethepeople.tv