दिया मिर्ज़ा वैक्सीन : मॉम टू बी दीया मिर्जा का कहना है कि भारत में इस्तेमाल की जा रही COVID 19 वैक्सीन को प्रेग्नेंट महिलाओं पर टेस्ट नहीं किया जाता है

कोरोनोवायरस पान्डेमिक के बीच गर्भवती महिलाओं को सुरक्षित रखने के महत्व पर जोर देने के लिए दीया मिर्जा ने अपने ट्विटर हैंडल का सहारा लिया।

रिपोर्ट्स के अनुसार चल रहे कोरोनावायरस पान्डेमिक के बीच, भारत एक गंभीर स्थिति का सामना कर रहा है। कोविड -19 की दूसरी लहर की शुरुआत के साथ, देश में मामलों में तेजी देखी गई। मेडिकल सेक्टर हेल्थकेयर सेक्टर के बुनियादी ढांचे की कमी से जूझ रहा है। इस कठिन समय में वायरस से जूझ रहे हजारों मरीज पर्याप्त सहायता की प्रतीक्षा कर रहे हैं। कई बॉलीवुड हस्तियों ने जरूरतमंद लोगों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर और हॉस्पिटल बेड्स की व्यवस्था की है। उन्होंने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से रिसोर्सेज के लिए रिक्वेस्ट भी की है।

बी-टाउन सेलेब्स भी पान्डेमिक के दौरान वैक्सीननेशन  और घर के अंदर रहने के महत्व पर जोर दे रहे हैं। दीया मिर्जा, जो अपने पहले बच्चे को एक्सपेक्ट कर रही हैं, उन्होंने इस बारे में खुलासा किया है कि कैसे देश में इस्तेमाल की जा रही वैक्सीन का प्रेग्नेंट महिलाओं पर टेस्ट नहीं किया जाता है। प्रेग्नेंट महिलाओं को खतरनाक वायरस से बचाने के महत्व के बारे में बात करने के लिए दीया ने अपने ट्विटर हैंडल का सहारा लिया। उन्होंने आगे बताया कि उन्हें उनके डॉक्टर ने सूचित किया था कि जब तक क्लिनिकल टेस्ट पूरा नहीं हो जाता तब तक प्रेग्नेंट महिलाओं पर वैक्सीन का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। दीया ने सोशल मीडिया साइट पर इस मुद्दे पर बात करने वाले एक यूजर को जवाब दिया।

उन्होंने लिखा, “यह वास्तव में महत्वपूर्ण है। अवश्य पढ़ें और यह भी ध्यान दें कि भारत में फ़िलहाल उपयोग किए जा रहे किसी भी वैक्सीन का प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीड कराने वाली माताओं पर टेस्ट नहीं किया गया है। मेरे डॉक्टर का कहना है कि हम ये वैक्सीन तब तक नहीं लेनी चाहिए  जब तक आवश्यक क्लिनिकल टेस्ट नहीं हो जाते।”

Email us at connect@shethepeople.tv