ब्लॉग

अपने आप को बताइये कि पीरियड्स होना बिलकुल आम बात है

Published by
Udisha Shrivastav

हम में से ज्यादातर लड़कियां इसी दुविधा में रहतीं हैं कि लीजिये अब उनके पीरियड्स आने वाले हैं या पीरियड्स चल रहे हैँ। बहुत लोग तो अभी भी “पीरियड्स” शब्द का इस्तमाल करने से कतराते हैं। कारण बिलकुल साफ़ है, वह यह है कि यह चर्चा आम या सामान्य नहीं है। हमारे सामने कुछ ऐसे सच हैं जिन्हे न तो हमने खुले दिल से स्वीकार किया है, और न लोगों ने।

ऐसा नहीं है कि चर्चा हो नहीं रही है या लोग पीरियड्स के बारे में जानते नहीं हैं। बस फर्क इतना है कि चर्चा का स्तर सीमित है। इसमें आप बड़े-बड़े सेलिब्रिटीज को गिनती में ले सकतें हैं। सामान्य लोगों की दिन-प्रतिदिन की चर्चा में अभी भी पीरियड्स को एक समान स्थान नहीं मिला है। हालांकि समानता के कदम जरूर उठाये जा रहें हैँ। फ़िल्मी जगत की बात करें तो ‘पैडमैन” जैसी फ़िल्में और “पीरियड: एन्ड ऑफ़ द सेंटेंस” जैसी डाक्यूमेंट्री आदि अपने प्रयासों में लगी हुई हैं।

इस समय का समाज दो तबकों में बटा हुआ है। एक वह है जो काफी खुले विचारों का है लेकिन एक दूसरा भी है। निराशा की बात यह है कि खुली विचारधारा वाले लोग कम संख्या में हैं। वरना आप खुद से यह प्रश्न कीजिये कि क्यों हर बार आपको पैड, किसी दुकानदार द्वारा नीचे से काली थैली में सरका कर दिया जाता है। क्यों आपको आपके पीरियड्स के समय मंदिर ले जाने पर संकोच जताया जाता है। इन सभी क्यों के जवाब हमारे भीतर ही हैं लेकिन स्वीकार करने में हमे देरी हो रही है।

अगर हाल में हुए विवादित सबरीमाला के मुद्दे को देखें तो वह क्या दर्शाता है? यही सारी बातें लोगों की सोच का प्रतीक होती हैं। पीरियड्स को समान तरह से लेना तो दूर की बात है, लोगों को तो इसमें गलत चीज़ें भी दिखाई देने लगतीं हैं।

लेकिन पहला और आखिरी प्रश्न यह है कि यह मुद्दा अभी भी एक शर्म का मुद्दा क्यों है। यह चर्चा होना बेहद जरुरी है और जाहिर है कि इसकी शुरुआत साथ-साथ बैठकर विचारविमाश से ही हो पाएगी। मेरा सुझाव लोगों के लिए यह है कि अब वे इक्कीसवी सदी के दौर में रह रहे हैं। उपयुक्त होगा कि वे स्वयं को, दूसरे लोगों और उनकी समस्याओं को आसानी से लें, अगर वो पीरियड्स को समस्या मानते हों, तो। साथ ही मूल्यांकन में थोड़ा कम विश्वास करें और चर्चा में ज्यादा।

Recent Posts

Marital Rape: बंद गेट के पीछे का सेक्सुअल वायलेंस हम इंग्नोर नहीं कर सकते हैं

एक महिला के लिए तब आवाज उठाना बहुत मुश्किल होता है जब रेप करने वाला…

13 hours ago

Ram Mandir Saree: उत्तर प्रदेश के चुनाव से पहले साड़ी पर मोदी, योगी और राम मंदिर हुए वायरल

अहमदाबाद के एक पत्रकार ने वीडियो शेयर की थी जिस में अयोध्या के थीम पर…

18 hours ago

Loop Lapeta Online Release: क्या आप लूप लपेटा फिल्म ऑनलाइन देखने का इंतज़ार कर रहे हैं? जानिए जरुरी बातें

तापसी पन्नू हमेशा से ऐसी फिल्में लेकर आती हैं जो कि महिलाओं को हमेशा एक…

19 hours ago

मुलायम सिंह की बहु BJP में शामिल हुई, अखिलेश यादव की बात पर कहा “राष्ट्र धर्म” सबसे ऊपर है

अपर्णा का कहना है कि उनको बीजेपी की नीतियां और काम करने का तरीका बेहद…

20 hours ago

अपर्णा यादव कौन हैं? मुलायम सिंह की छोटी बहु ने बीजेपी ज्वाइन की

अपर्णा यादव की शादी मुलायम सिंह के छोटे बेटे प्रतीक यादव की बहु है। इन्होंने…

20 hours ago

Gehraiyaan Trailer Release Date: दीपिका पादुकोण की गहराइयाँ फिल्म का ट्रेलर कब होगा रिलीज़

दीपिका ने बताया है कि कैसे डायरेक्टर बत्रा और संजय लीला भंसाली स्क्रिप्ट में और…

22 hours ago

This website uses cookies.