ब्लॉग

जानिए क्यों वीरे दी वेडिंग और बधाई हो साल की महान नारीवाद फिल्में है

Published by
Aastha Sethi

फिल्में, पुस्तकें और कला समाज को आयना दिखाने के लिए होते है. महिलाओं को पुरुषों के अनुसार ही दर्शाया जाता है. उनके अनुसार अच्छी महिलाएँ शांत, सहेज और कोमल दर्शायी जाती है. हमारे समाज में महिलाओं की शारीरिक ज़रूरतों को नज़रअंदाज़  कर दिया जाता है. महिलाओं की कामुकता पर बात होना तो क्या, मुँह ही फेर लिया जाता है.

ऐसी फिल्म जो बेखौफ महिलाओं को अपनी इच्छाओं और शारीरिक ज़रूरतों पर बात करते दिखाती है या उनकी एक्टिव सेक्स लाइफ को दर्शाती है, महत्वपूर्ण है. ऐसे ही समाज को आयना दिखाती है, कुछ फिल्में जैसे वीरे दी वेडिंग और बधाई हो. इसी साल रिलीज़ हुई यह फिल्में नारीवाद के उत्तम उदाहरण है.


दोस्ती के अलावा बहुत कुछ कहती है वीरे दी वेडिंग

वीरे दी वेडिंग चार दोस्तों(जिनका किरदार निभाया है- करीना कपूर, सोनम कपूर, स्वरा भास्कर और शिखा तलसानिया ने) की कहानी है, जो बचपन की मस्तियों से जवानी की ग़लतियों तक साथ हैं. इन महिलाओं की ज़िन्दगी पुरुषों के आगे पीछे नहीं, बल्कि उनकी अपनी मर्ज़ी से चलती है. यह कहानी नारीवाद और महिलाओं की कामुकता पर एक महत्वपूर्ण चित्रण है.

२०१९ में रिलीज़ हुई वीरे दी वेडिंग और बधाई हो ने समाज को आइना दिखाया है

स्क्रीन पर जब महिला अपनी कामुकता और इच्छा खुल कर व्यक्त करती है, तो समाज को यह बर्दाश्त नहीं होता. जब की, इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा बिज़नस किया है. समाज और पुरुष चाहे न चाहे, यह फिल्म आवश्यक है, यह दर्शाने के लिए कि महिलाएँ भी अपने मुताबिक़ ज़िन्दगी जी सकती है, वो भी बेहतर और रंगीन अंदाज़ में.


‘बधाई हो’ कला से समाज बदल रहा है

पवित्रता और ममता की मूर्त एक माँ, अपनी अधेड़ उम्र में गर्भवती हो जाए, वो भी जब बच्चों की उम्र हो बच्चे करने की. जी हाँ, कुछ ऐसी ही कहानी है, ‘बधाई हो’ की. नकुल(आयुष्मान खुराना) यह बर्दाश्त नहीं कर पता कि उसकी माँ गर्भवती है और अपने माँ-बाप से नाराज़ हो जाता है.

क्या इतना बुरा हाल है हमारी मानसिकता का? क्या अपने माँ-बाप की एक्टिव सेक्स लाइफ सहन नहीं कर सकती आज की पीढ़ी? क्या एक माँ औरत नहीं? क्या एक माँ की कोई शारीरिक इच्छा नहीं ? क्यों देवी बना देते है हम उन्हें? क्यों हमारा समाज भेदभाव करता है? यह फिल्म ऐसे ही कुछ प्रश्नों का मुहतोड़ जवाब देती है. सिर्फ नारीवाद नहीं, बल्कि एक ज़रूरी मुद्दे पर बात करती है बधाई हो.

हमें, समाज को और आने वाली पीढ़ी को, ऐसे ही कला और फिल्मों की ज़रूरत है. शर्म के परदे को हटा, ऐसे मुद्दों पर बात करना, महिलाओं के लिए एक अति आवश्यक जीत है. हमें आशा है, निर्माता ऐसी ही खूबसूरत कहानियों के साथ समाज की ज़ंजीरों को तोड़े और हर किसी को खुल कर जीने का साहस दे.

Recent Posts

कमलप्रीत कौर कौन हैं? टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में पहुंची ये भारतीय डिस्कस थ्रोअर

वह युनाइटेड स्टेट्स वेलेरिया ऑलमैन के एथलीट के साथ फाइनल में प्रवेश पाने वाली दो…

28 mins ago

टोक्यो ओलंपिक 2020: भारतीय डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर फ़ाइनल में पहुंची

भारत टोक्यो ओलंपिक में डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर की बदौलत आज फाइनल में पहुचा है।…

54 mins ago

क्यों ज़रूरी होते हैं ज़िंदगी में फ्रेंड्स? जानिए ये 5 एहम कारण

ज़िंदगी में फ्रेंड्स आपके लाइफ को कई तरह से समृद्ध बना सकते हैं। ज़िन्दगी में…

12 hours ago

वर्कप्लेस में सेक्सुअल हैरासमेंट: जानिए क्या है इसको लेकर आपके अधिकार

किसी भी तरह का अनवांटेड और सेक्सुअली डेटर्मिन्ड फिजिकल, वर्बल या नॉन-वर्बल कंडक्ट सेक्सुअल हैरासमेंट…

13 hours ago

क्या है सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज? जानिए इनके बारे में सारी बातें

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज किसी को भी हो सकता है और अगर सही वक़्त पर इलाज…

13 hours ago

अर्ली इन्वेस्टमेंट: जानिए जल्दी इन्वेस्टिंग शुरू करने के ये 5 कारण

अर्ली इन्वेस्टमेंट प्लान्स को स्टार्ट करने से ना सिर्फ आप इन्वेस्टमेंट और सेविंग्स के बीच…

14 hours ago

This website uses cookies.