ब्लॉग

बधाई हो मध्य-आयु वर्ग के जोड़ों की सेक्स लाइफ के विषय में बात करता है

Published by
Farah

हर दिन आपके सामने ऐसी फिल्म नहीं आती है जिसकी कहानी पचास साल से बड़े जोड़े के सेक्स लाइफ के आसपास घूमती है. यही कारण है कि हमें बधाई हो जैसी फिल्म के बारे में बात करने की ज़रूरत है. यह नीना गुप्ता, गजराज राव और आयुष्मान खुराना अभिनीत फिल्म अपनी हट कर कहानी की वजह से चर्चा में है. यह फिल्म हमें एक मध्यम आयु वर्ग के जोड़े की कहानी बताती है जो एक बच्चे के बारे में सोचता है और वह भी काफी उम्र गुज़र जाने के बाद और उनका बीस साल से बड़ा बेटा कैसे इस ख़बर का सामना करता है.

बधाई हो को अच्छी समीक्षा मिल रही है और बॉक्स ऑफिस पर भी उसने अच्छी शुरुआत की है. लेकिन इससे हट कर इसमें हमें अच्छा अभिनय देखने को मिल रहा है और यह एक अपरंपरागत विषय को दिखा रही है. और मध्य आयु वर्ग के जोड़ों की गर्भावस्था और यौन जीवन को बताने में हमारी हिचकिचाहट को भी सामने ला रही है.

हमारी संस्कृति में सेक्स-टॉक को ठीक नही माना जाता है. चाहें वह किशोरों के लिए यौन शिक्षा के रूप में हो या फिर नव विवाहित जोड़ों के लिए परिवार नियोजन पर चर्चा.  इस तथ्य के बावजूद कि सेक्स हमारे जीवन का एक बड़ा हिस्सा है, यह सब हमारे विवेक पर निर्भर करता है.

सामाजिक और पारिवारिक उपहास का सामना

शायद सेक्स को हम युवाओं, जुनून और रोमांस के साथ जोड़ते है इस वजह से यह समस्या पैदा होती है. प्यार और सेक्स का हमारा विचार बहुत सौंदर्य और अलग है. यह हमारे अपने दैनिक बेडरूम की वास्तविकता से बहुत दूर है. हमारे दिमाग़ में यह बात है कि सेक्स हमेशा अच्छी तरह के पुरुषों और अच्छी तरह से संपन्न महिलाओं के बीच ही होता है. यह विशेष रूप से युवाओं के बीच होता है, भले ही यह फिल्मों में हो.

कुछ बातें

इसके अच्छे अभिनय से अधिक, लोग बधाई हो के अपरंपरागत विषय के बारे में बात जरुर करते है.
फिल्म में हम देखते हैं कि किस तरह से भारतीय मध्यम आयु वर्ग के जोड़ों को अपनी इच्छाओं को मार कर अपने माता-पिता, नौकरी और बच्चों के आसपास अपने जीवन को केन्द्रित करने की उम्मीद की जाती है.

गर्भवती होने वाले मध्यम आयु वर्ग के जोड़े के विचार पर हम हंसते है क्योंकि हमें यह अजीब लगता है. और यह किसी और चीज की तुलना में हमारी मानसिकता के बारे में अधिक कहता है.

हम सभी जानते हैं कि अधिकांश भारतीय घरों में वास्तविकता इसके विपरीत है. इसलिए, हमारे लिए यह सोचना मुश्किल है कि एक जोड़ा सक्रिय यौन जीवन भी जी सकता है वह भी बच्चों की परवरिश, माता-पिता की देखभाल करते हुये और आधुनिक जीवन में आ रही आवास समस्या के दौरान.

हम एक समाज के रूप में मानते हैं कि सेक्स युवा जोड़ों के लिए है, जिनका मक़सद स्पष्ट रुप से अपनी ख़ानदान को आगे बढ़ाना है. कभी भी सेक्स को आवश्यकता के रूप में नहीं देखना नही सिखाया गया. कभी भी हमें नही सिखाया जाता है कि एक सक्रिय और सहमतिपूर्ण सेक्स लाइफ जोड़ो के बीच मजबूती पैदा करती है.

एक बार जब एक जोड़ा “पारिवारिक जीवन” में प्रवेश करता है तो उनसे उम्मीद की जाती है कि वे अपने बच्चों को पोषित करें और बुजुर्ग माता-पिता की देखभाल करें. पैसा कमाये, घर खरीदे, समाज में स्थान बनायें, बच्चों को  प्रतिष्ठित स्कूल में भेजे, उनके भविष्य के लिए योजना बनायें और फिर अंततः उन्हें व्यवस्थित करें. यही वह है जो भारत में एक मध्यम आयु वर्ग के जोड़े को परिभाषित करता है – एक पति और पत्नी दूसरों की निस्संदेह देखभाल करने का दायित्व अपने सर पर लें. इसमें सेक्स कहाँ फिट होता है? कहीं नहीं, क्योंकि सेक्स खुशी या आत्म-भोग है. इच्छा कुछ ऐसी नहीं है जिसे हम एक समाज के रूप में एक निश्चित आयु समूह के साथ जोड़ते हैं.

हम उम्मीद करते हैं कि भारतीय मध्यम आयु वर्ग के जोड़े अपनी इच्छाओं को बंद कर दें और अपने जीवन को अपने माता-पिता, नौकरियों और बच्चों के आस-पास केंद्रित करें. बधाई हो, इन्ही धारणाओं का मज़ाक बनाती है.

एक मध्यम आयु वर्ग के जोड़े को गर्भवती होने का विचार हमें अजीब लगता हैं. और यह किसी और चीज की तुलना में हमारी मानसिकता के बारे में अधिक बताता है. हमारी सारी आधुनिकता के बावजूद, हमें बड़ों के यौन संबंध, विशेष रूप से माता-पिता या रिश्तेदारों के कुछ अजीब लगते है.

यही कारण है कि हम सभी को बधाई हो देखना चाहिए. सिर्फ इसलिए नहीं कि यह एक अच्छी तरह से तैयार की गई फिल्म है, लेकिन क्योंकि यह हमें शादी में सेक्स और अंतरंगता के बारे में हमारे विचारों का पुन: निरीक्षण करने के लिए कहती है. कैसे सामाजिक निर्देश हमें भौतिक अंतरंगता की हमारी इच्छा पर शर्मिंदगी महसूस कराते हैं. क्या एक जोड़े को यौन संबंध रखना बंद कर देना चाहिए क्योंकि समाज को उनकी उम्र में यह अनुचित कृत्य लग रहा है?

शायद इस फिल्म को देखने के बाद, हम मध्य आयु वर्ग के जोड़ों के बीच सेक्स और गर्भावस्था के विषय को एक नए और स्वीकार्य नजर से देखेंगे. हम यह स्वीकार करने से बहुत दूर हैं, लेकिन बधाई हो कम से कम हमें एक शुरूआत देती है.

Recent Posts

Fab India Controversy: फैब इंडिया के दिवाली कलेक्शन का लोग क्यों कर रहे हैं विरोध? जानिए सोशल मीडिया का रिएक्शन

फैब इंडिया भी अपने दिवाली के कलेक्शन को लेकर आए लेकिन इन्होंने इसका नाम उर्दू…

7 hours ago

Mumbai Corona Update: मुंबई में मार्च से अब तक कोरोना के पहली बार ज़ीरो डेथ केस सामने आए

मुंबई में लगातार कई महीनों से केसेस थम नहीं रहे थे। पिछली बार मार्च के…

8 hours ago

Why Women Need To Earn Money? महिलाओं के लिए फाइनेंसियल इंडिपेंडेंस क्यों हैं ज़रूरी

Why Women Need To Earn Money? महिलाएं आर्थिक रूप से स्वतंत्र हैं, तो वे न…

9 hours ago

Fruits With Vitamin C: विटामिन सी किन फलों में होता है?

Fruits With Vitamin C: विटामिन सी सबसे आम नुट्रिएंट्स तत्वों में से एक है। इसमें…

9 hours ago

How To Stop Periods Pain? जानिए पीरियड्स में पेट दर्द को कैसे कम करें

पीरियड्स में पेट दर्द को कैसे कम करें? मेंस्ट्रुएशन महिला के जीवन का एक स्वाभाविक…

9 hours ago

This website uses cookies.