ब्लॉग

पांच वजहें क्यों बच्चों को फेमिनिस्ट पिता की ज़रूरत है

Published by
Sarita Kumari

नए ज़माने के पिता हमें खुश होने की एक बहुत बड़ी वजह दे रहे हैं। वो जेंडर में समानता होने की ज़रूरत समझते हैं और इसलिए फेमिनिज्म को आवाज़ को बुलंद करते हैं। यह देख कर दिल को बहुत सुकून मिलता है कि फेमिनिस्ट पिता अपने बच्चों को ट्रेनिंग देने पर इतना फोकस कर रहे हैं।

आगे पढ़े ये जानने के लिए कि क्यों हमें ऐसे और फेमिनिस्ट पिताओं की बहुत जरूरत है। 

रोल मॉडल सेट करना

बच्चों को रोल मॉडल की ज़रूरत होती है जिनसे वो सीख सकें। बेटियां अपने पिता के व्यवहार को बहुत ही नजदीकी से देखती और जांचती हैं ताकि उन्हें उनके पिता का महिलाओं के प्रति नजरिए के बारे में पता चल सके। ये नजरिया उनके खुद के सेल्फ-इमेज के विकसित होने में बहुत ज़रूरी रोल अदा करता है।

जेंडर स्टेरियोटाइपिंग से मुंह मोड़ना

फेमिनिस्ट पिताओं जानते हैं कि अपने बच्चों को जेंडर स्टेरियोटाइपिंग के लिए फोर्स करना बुरी पेरेंटिंग है। जेंडर स्टेरियोटाइपिंग उनके सेल्फ-इमेज को बहुत कुछ करने से रोक कर बुरी तरह घायल कर सकते हैं। वह उन्हें वैसा इंसान बनने से रोक कर जैसा वो बनना चाहते हैं, उनके इमोशनल विकास को भी प्रभावित कर सकता है।

समानता के कॉन्सेप्ट को दोहराना

समानता के बारे में सीखा देना ही काफी नहीं। फेमिनिस्ट पिता अपने बच्चों के नज़रिए को सही दिशा में बढ़ाने के लिए लगातार काम करते हैं। अपने बेटे को अपने कपड़े खुद साफ करने को कहना और बेटी को बाथरूम में बल्ब लगाने को कहना कुछ कमाल के तरीके हैं जिनसे आप अपने बच्चों को ये सीखा सकें की ‘डिवीजन ऑफ लेबर’ का आइडिया असलियत में सच नहीं है।

उन टॉपिक्स पर बात करना जो ज़रूरी हैं

फेमिनिस्ट पिता बहुत समझदारी के साथ मीडिया का इस्तेमाल कर जेंडर डिस्क्रिमिनेशन और स्टेरियोटाइपिंग के टॉपिक्स की बात कर सकते हैं। फिल्में देखना जिनमें महिलाओं को किसी तरीके से दिखाया गया हो और उसके बाद एक हेल्थी डिस्कशन करना जहां बच्चे अपनी सोच को बता सकें। बच्चों को हर दिन न्यूजपेपर पढ़ने के लिए एनकरेज करना और उसमें उन न्यूज को हाईलाइट करने के लिए कहना जो उन्हें लगता हो कि सोसायटी में गलत हो रहा है।

जेंडर से जुड़े हिंसा को रोकना

औरतों के साथ हिंसा करने वाला हर इंसान कभी ना कभी बच्चा था। और यही वो समय होगा जब फेमिनिस्ट पिता के कदम यूज बच्चे को बड़ा होकर वैसा बनने से रोकेंगे। अपने बच्चों को उनके इमोशंस और सोच को एक्सप्रेस करने का मौका देना अच्छे परेंटिंग की निशानी है। अपने बेटों की मदद करे मस्क्यूलिनिटी के गलत विचारों से निकलने में।

Recent Posts

Viral Drunk Girl Video : पुणे में दारु पीकर लड़की रोड पर लेटी और ट्रैफिक जाम किया

इस वीडियो में एक लड़की देखी जा सकती है जिस ने दारु पी रखी है…

15 mins ago

Tokyo Olympic 2021 : क्यों कर रहे हम टोक्यो ओलंपिक्स में महिला एथलिट को सेलिब्रेट?

इस बार के टोक्यो ओलिंपिक 2021 में महिला एथलिट ने साबित कर दिया है कि…

55 mins ago

TOKYO ओलंपिक्स 2020 : अदिति अशोक कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

भारतीय महिला गोल्फर अदिति अशोक पहली बार सबकी नज़र में 5 साल पहल रिओ ओलंपिक्स…

2 hours ago

Delhi Cantt Minor Girl Rape : दिल्ली कैंट में माइनर दलित लड़की का रेप किया और जान से मारा

माइनर दलित लड़की का रेप - नई दिल्ली जिसे हमारी इंडिया की रेप कैपिटल कहा…

2 hours ago

गहना वशिष्ठ का वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल : इंस्टाग्राम पर नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या यह अश्लीलता है?

गंदी बात अभिनेत्री गहना वशिष्ठ (Gehana Vasisth) की एक इंस्टाग्राम लाइव वीडियो सोशल मीडिया पर…

4 hours ago

बच्चों को कोरोना कितने दिन तक रहता है? लांसेट स्टडी में आए सभी जवाब

कोरोना की तीसरी लहर जल्द ही शुरू होने वाली है और एक्सपर्ट्स का ऐसा कहना…

5 hours ago

This website uses cookies.