ब्लॉग

भारत की पहली 4 महिला पत्रकारों को जानिये

Published by
Ayushi Jain

ब्रिटिश साम्राज्य के दौरान, भारत में महिलाओं की शिक्षा सहित समाज में बहुत सारे बदलाव आये । भले ही यह मुख्य रूप से उच्च वर्ग की महिलाएं थीं जिन्होंने शिक्षा प्राप्त की, कुछ ही समय के अंदर महिलाओं की शिक्षा पुरुषों के समान समाज के लिए महत्वपूर्ण हो गई। इसके परिणामस्वरूप महिलाओं के लिए कई ऑप्शन खुल गए, जो उस समय धीरे-धीरे मेडिसिन और लेखन जैसे व्यवसायों में प्रवेश कर रही थीं। कई युवा महिला क्रांतिकारियों ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान समाचार पत्रों के लिए लिखना शुरू किया, और भारत के स्वतंत्र राष्ट्र की पहली कुछ महिला पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आज हम आपको स्वतंत्र भारत की चार सबसे शुरुआती महिला पत्रकारों से मिलवाते हैं:

विद्या मुंशी

उन्हें भारत की पहली महिला पत्रकार के रूप में माना जाता है और उन्होंने कई अखबारों और पत्रिकाओं के लिए काम किया, जिनमें शामिल हैं, रस्सी करंजिया ब्लिट्ज़ के साथ दस साल। जब कम्युनिस्ट पार्टी को भारत में नहीं माना जाता था , तो वह 1942 में ग्रेट ब्रिटेन की कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल हो गई। उन्होंने कुछ प्रमुख कहानियाँ लिखी, जिन कहानियों पर पूरे देश का ध्यान गया, जिसमें से दो कनाडाई पायलटों का सोने की तस्करी शामिल है जो भारत से सोने को सुंदरबन और आसनसोल में चिनकुरी माइन डिजास्टर के माध्यम से बहार ले जाने की कोशिश कर रहे थे।

होमी व्यारावाला

भारत की पहली महिला फोटो पत्रकार व्यारावाला को  डालडा 13. के रूप में जाना जाता था। 1930 के दशक में अपने करियर की शुरुआत करने के बाद, उन्होंने महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, मोहम्मद अली जिन्ना और इंदिरा गांधी सहित कुछ सबसे प्रभावशाली भारतीय नेताओं के साथ फोटो खिंचवाई थी। इनके अलावा, उन्होंने दुसरे विश्व युद्ध के दौरान की कुछ सबसे अनोखी तस्वीरों को भी शूट किया और सबसे ज्यादा संख्या में, और उनकी सभी तस्वीरें उनके लेखन नाम “डालडा 13” के नाम से प्रकाशित हुईं।

प्रतिमा पूरी

1965 में, दूरदर्शन ने 5 मिनट का समाचार बुलेटिन दिखाना शुरू किया और प्रतिमा पुरी भारत की पहली टेलीविजन समाचार पाठक बन गईं। उनके कुछ कामो में अंतरिक्ष में गए दुनिया के सबसे पहले आदमी यूरी गागरिन का इंटरव्यू भी शामिल था। भले ही हमे उनके बारे में बहुत कुछ पता नहीं है, लेकिन प्रतिमा पुरी उस समय की एक प्रतिष्ठित हस्ती थीं। जबकि उस समय अभिनेताओं और नर्तकियों जैसी हस्तियों को सामान रूप से नहीं देखा जाता था, पुरी जैसी महिला न्यूज़रीडर भारत में युवा महिलाओं के लिए एक बहुत ही प्रेरणा थीं।

देवयानी चौपाल

भारत जैसे देश में, सिनेमा धर्म है, और देश में इस बात को कवर करने वाली पहली और सबसे लोकप्रिय महिला पत्रकारों में से एक थीं देवयानी चौबल। एक अच्छे परिवार से आने वाली , चौबल को उनके कॉलम, “फ्रैंकली स्पीकिंग” के लिए एक लोकप्रिय फिल्म पत्रिका, और स्टार एंड स्टाइल ‘के लिए 1960 और 70 के दशक में जाना जाता था। वह पहली लेखिका थी जो अपने लेखन में हिंगलिश ’, ( अंग्रेजी भाषा के कॉलम में हिंदी शब्दों का उपयोग) का उपयोग करती थीं।

Recent Posts

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

30 mins ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

1 hour ago

रियल लाइफ चक दे! इंडिया मूमेंट : भारतीय महिला हॉकी टीम ने सेमीफइनल में पहुंच कर रचा इतिहास

गुरजीत कौर के एक गोल ने महिला टीम को ओलंपिक खेलों में अपने पहले सेमीफाइनल…

2 hours ago

मेरी ओर से झूठे कोट्स देना बंद करें : शिल्पा शेट्टी का नया स्टेटमेंट

इन्होंने कहा कि यह एक प्राउड इंडियन सिटिज़न हैं और यह लॉ में और अपने…

4 hours ago

नीना गुप्ता की Dial 100 फिल्म के बारे में 10 बातें

गुप्ता और मनोज बाजपेयी की फिल्म Dial 100 इस हफ्ते OTT प्लेटफार्म पर रिलीज़ हो…

4 hours ago

Watch Out Today: भारत की टॉप चैंपियन कमलप्रीत कौर टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड जीतने की करेगी कोशिश

डिस्कस थ्रो में भारत की बड़ी स्टार कमलप्रीत कौर 2 अगस्त को भारतीय समयानुसार शाम…

5 hours ago

This website uses cookies.