ब्लॉग

मिलिए ऐतिकला’स किचन की संस्थापक श्रीमती विजया ऐतिकला से

Published by
Ayushi Jain

मिलिए ऐतिकला’स किचन की संस्थापक विजया ऐतिकला जी से जिन्होंने 42 साल की उम्र में आत्मनिर्भर होने के एक प्रयास में रसोई के ज़रिये आगे बढ़ने की शुरुआत की। उन्होंने 4 जून, 2018 को ऐतिकला’स किचन की शुरुआत की। आइये शीदपीपल .टी वीको दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने हमे अपने अनुभवों के बारे में बताया।

  1. आपने ऐतिकला’स किचन शुरू करने का विचार का विचार कैसे आया ?

मेरे पति इंडियन एक्सप्रेस में काम किया करते थे और फिर उनकी रिटायरमेंट के बाद हमे समझ नहीं आ रहा था की हम जीवन की शुरुआत कैसे करें, फिर एक दिन मुझे मेरे अच्छे खाना बनाने के कारण एक कैटरिंग का आर्डर मिला और फिर वही से मेरी ऐतिकला’स किचन की शुरुआत हुई।

  1. आपको कैसा महसूस होता है अपने इस व्यवसाय के साथ ?

मुझे बहुत ही ज़्यादा ख़ुशी और गर्व महसूस होता है खुद पर । मेरे बच्चे भी मुझसे बहुत खुश है उन्हें भी मुझ पर गर्व महसूस होता है। मुझे ऐसा लगता है जैसे किसी ने मुझे पंख दे दिए हो और मई उड़ सकती हूँ। अब मै किसी पर किसी भी तरह से निर्भर नहीं हूँ।

  1. खाना बनाने के अपने जूनून को आपने कब पहचाना ?

जब मै 5 साल की थी तब से ही घर संभालती थी और जब 8 साल की हुई तो सारा खाना बनाना सीख गई क्योंकि मेरी माँ घर का सारा काम मुझसे ही करवाती थी। जब 16 साल की हुई तो छोटी सी उम्र में मेरी शादी हो गई।मेरे पति इंडियन एक्सप्रेस में काम करते थे तो उनका ट्रांसफर कोलकाता हुआ तो मै उस वक़्त एक रेस्टोरेंट में इडली खाने गई जो की 20 रुपये की एक इडली और स्वाद में बहुत बेकार तो मुझे लगा की इससे अच्छी इडली मै बना सकती हूँ और लोगो को कम दाम में दे सकती हूँ जिसके लिए मैंने अपने पति से भी कहा पर वह इस व्यवसाय के लिए नहीं माने और मैंने बहुत कोशिश की कोलकाता में अपना रेस्टोरेंट खोलने की पर मुझे किसीका साथ नहीं मिला।

  1. आप अगर खाना न बनाती तो क्या करना चाहती ?

मुझे खाना बनाना बहुत पसंद है। मै खाना बनाने के अलावा और कुछ करना नहीं चाहती। आज मै टिफ़िन सर्विस चला रही हूँ। रोज़ के 25 से 27 टिफ़िन भेजती हूँ और कैटरिंग के आर्डर भी लेती हूँ । मै जो कर रही हूँ उसमे बहुत खुश हूँ।

“खान बनाना मेरे लिए एक पूजा की तरह है जिसे मै हर दिन करना चाहूंगी।“

  1. आप लोगो को जीवन के प्रति क्या सीख देना चाहेंगी ?

हमेशा अपने दिल की सुनो क्योंकि जब हम खुद की सुनते है तो हम और बेहतर होते है हमे अपनी कमियां अपनी अच्छाइयां सब पता है हम जानते है की सबसे अच्छे तरीके से हम क्या कर सकते है तो अपने आपको पहचानो और दूसरा आत्मनिर्भर बनो क्योंकि आत्मनिर्भर बनने से ज़्यादा ख़ुशी और आत्मविश्वास हमे दुनिया में कही से नहीं मिल सकता । आत्मनिर्भर होना अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है ।

 

Recent Posts

Tapsee Pannu & Shahrukh Khan Film: तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान कर रहे साथ में फिल्म “Donkey Flight”

इस फिल्म का नाम है "Donkey Flight" और इस में तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान…

19 hours ago

Raj Kundra Porn Case: शिल्पा शेट्टी के पति ने कहा कि उन्हें “बलि का बकरा” बनाया जा रहा है

पोर्न रैकेट चलाने के मामले में बिज़नेसमैन राज कुंद्रा ने शनिवार को एक अदालत में…

20 hours ago

हैवी पीरियड्स को नज़रअंदाज़ करना पड़ सकता है भारी, जाने क्या हैं इसके खतरे

कई बार महिलाओं में पीरियड्स में हैवी ब्लड फ्लो से काफी सारा खून वेस्ट हो…

21 hours ago

झारखंड के लातेहार जिले में 7 लड़कियां की तालाब में डूबने से मौत, जानिये मामले से जुड़ी ज़रूरी बातें

झारखंड में एक प्रमुख त्योहार कर्मा पूजा के बाद लड़कियां तालाब में विसर्जन के लिए…

21 hours ago

झारखंड: लातेहार जिले में कर्मा पूजा विसर्जन के दौरान 7 लड़कियां तालाब में डूबी

झारखंड के लातेहार जिले के एक गांव में शनिवार को सात लड़कियां तालाब में डूब…

21 hours ago

This website uses cookies.