Contraceptive Methods: नहीं चाहते अनचाही प्रेगनेंसी, अपनाएं ये टिप्स

अनचाही प्रेगनेंसी कोई भी व्यक्ति नहीं चाहता तो ऐसे में सब उससे बचने के लिए विभिन्न प्रकार के उपाय अपनाते हैं। आइए जानते हैं कुछ ऐसे तरीके जो घरेलू होने के साथ-साथ हैल्थ को भी ठीक रखते हैं अनचाही प्रेगनेंसी में, इस हैल्थ ब्लॉग में

Aastha Dhillon
05 Jan 2023
Contraceptive Methods: नहीं चाहते अनचाही प्रेगनेंसी, अपनाएं ये टिप्स

Contraceptive Methods

Contraceptive Methods: आजकल के युग में युवा एक खुले तथा प्लानिंग वाले जीवन को व्यतीत करना चाहते हैं। इस प्लानिंग में उनके करियर, उनके गोल्स, उनके परिवार जैसे अहम डिसीजन भी शामिल होते हैं। परंतु फिर भी किसी ना किसी गलती के कारण यह प्लानिंग चौपट हो सकती है। ऐसा ही होता है जब अनचाही प्रेगनेंसी हो जाए। 

अनचाही प्रेगनेंसी कोई भी व्यक्ति नहीं चाहता तो ऐसे में सब उससे बचने के लिए विभिन्न प्रकार के उपाय अपनाते हैं। आइए जानते हैं कुछ ऐसे तरीके जो घरेलू होने के साथ-साथ हैल्थ को भी ठीक रखते हैं अनचाही प्रेगनेंसी में, इस ब्लॉग में।

1. कंडोम (Condom)

अब बाज़ार में मेल कंडोम के साथ – साथ फीमेल कंडोम भी उपलब्ध हैं। जिसका उपयोग करना बेहद आसान है। मेल कंडोम की तरह फीमेल कंडोम भी अनचाही प्रेगनेंसी से बचा सकते हैं। ये न सिर्फ अनचाही प्रेगनेंसी बल्कि कई तरह के यौन संक्रमण से भी आपको बचा सकते हैं।

2. यूरिनेशन(Urination)

यूरिनेशन को अनचाही प्रेगनेंसी के लिए एक उपाय समझा जाता है। सेक्स के बाद यूरिनेट करने से स्पर्म का flow वजाइना से निकल जाता है और प्रेग्नेंसी के चांसेस बहुत कम हो जाते हैं। हमें यह भी समझना होगा कि यह एक अच्छा उपाय नहीं है क्योंकि स्पर्म को वजाइना में जाकर ओवम(Ovum) से मिलने में केवल 5 मिनट लगते हैं तो ऐसे में हम इसे एक भरोसेमंद तरीका नहीं मान सकते।


3. कैलेंडर मेथड(Calendar Method)

इस मेथड में कपल ओव्यूलेशन(Ovulation) डेट को ध्यान में रखकर सेक्स करते हैं। आमतौर पर ओव्यूलेशन 11 दिन से 18 दिन के बीच होती है तो ऐसे में इन दिनों सेक्स को नहीं किया जाना चाहिए। इन दिनों में प्रेगनेंसी के चांसेस सबसे ज्यादा रहते हैं तो वहीं इसके अलावा बाकी दिनों में प्रेगनेंसी को कंट्रोल किया जा सकता है और चांसेस भी कम रहते हैं।

4. गर्भनिरोधक इंजेक्शन (Contraceptive Injection)

इंजेक्शन में हार्मोन प्रोजेस्टोजन का सिंथेटिक वेरियंट होता है। यह एक महिला की ऊपरी बांह में दिया जाता है। अगले 12 हफ्तों में हार्मोन धीरे-धीरे आपके रक्त प्रवाह में छोड़ दिया जाता है। यह इंजेक्शन तीन महीने तक रहता है और बहुत प्रभावी है। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि यह सेक्स को बाधित नहीं करता है।


5. इंट्रायूटराइन सिस्टम (IUS)

यह भी एक छोटा-सा T आकार का डिवाइस होता है, जिसे डॉक्टर या नर्स द्वारा महिला के यूटरस में रखा जाता है। यह डिवाइस प्रोजेस्टेरोन नाम का एक हॉर्मोन रिलीज करता है जो प्रेग्नेंसी को रोकने में मदद करता है।


Read The Next Article