धोखा, चीटिंग, बेवफाई, शब्द अलग-अलग है पर सबका दर्द एक ही है। जिनके नसीब में भी यह होता है काफी दुख पंहुचाता है। आईये, आगे बढ़ने से पहले जानते हैं कि आखिर क्या है ये धोखा जो एक हंसते-खेलते रिश्ते के लिए ज़हर का काम करता है।

image

बेवफ़ाई और धोखे की डेफिनेशन अलग-अलग लोगों के लिए अक्सर अलग-अलग होती है। कई लोग ऐसे हैं, जिन्होंने अपने पार्टनर से कभी भी धोखे को लेकर कोई बात नहीं किया। किसी के लिए रिश्ते में रहते हुए डेटिंग ऐप डाउनलोड करना धोखा है। किसी के लिए दूसरे से सेक्स करना धोखा है तो कोई सिर्फ़ मैसेज या कॉल पर बात करने को बेवफ़ाई मानता है। यहां तक की बेवफ़ाई का मतलब एक जोड़े के लिए भी अलग-अलग साबित हो सकता है। ज़्यादातर लोगों का मानना है कि अगर हम किसी रिलेशन्स की लिमिट्स पहले से तय कर दें, तो धोखे को समझना और उसे जानना, दोनों ही आसान हो जाएगा। किसी भी रिश्ते की बेहतरी के लिए ये ज़रूरी भी है।

कैसे जानें कि आपका पार्टनर आपको धोखा दे रहा है?

देखियें, यदि आपका पार्टनर आपको धोखा दे रहा है तो लाज़िम है कि वह अपनी तरफ से काफी सतर्कता बरत रहा होगा/होगी ताकि आपको उनके बारें में कुछ पता न चलें। लेकिन, अच्छी बात यह है कि अपने मोबाईल पासवर्ड छिपाने की तरह, वह अपने हाव-भाव पर काबू नही कर पातें। और यहीं से मिलता है आपको अपने साथ हो रहे बेवफाई का हिंट।

-जब आपका साथी आपसे छोटी-छोटी बातों पर व कई बार बिना बात पर ही लड़ाई करने लगे।

-जब आपका साथी झगड़ों को खत्म करके दोबारा एक होने में बहुत ज्यादा समय लेने लगे या कई बार छोटी सी बात पर महीनों तक बातचीत बंद कर दे।

-और कुछ शातिर दिमाग वाले ऐसे भी होते है जो इमोशनली आप पर ज्यादा ध्यान देने लगते हैं, आप समझ नहीं पाएंगें कि वे जरूरत से अधिक अच्छे क्यों बन रहे हैं, हो सकता है कि ऐसा वे अपनी गलतियां छुपाने के लिए कर रहे हों, जिससे कि आपको उनसे कोई शिकायत न हो और आपका ध्यान उनकी बाकी एक्टिविटिज़ से हट जाए।

-धोखेबाज़ लोग अपने साथी से बातचीत करना कम कर देते हैं, जिससे कि उनके मुंह से कुछ ऐसी बात न निकल जाए जो आपको शक करवा दे। बातें छिपाने लगते हैं।

जब आपको धोखा मिले तब क्या करें?

किसी रिश्ते में बंधे लोग धोखे को एक मनहूस चीज़ मानते हैं। ऐसे में अगर किसी ने बेवफ़ाई की या धोखा दिया तो उसे क्या करना चाहिए? अपनी ग़लती मान लेनी चाहिए? ज़्यादातर लोग इसका जवाब “हां” में ही देंगे। जितने भी रिसर्च इस टॉपिक पर किए गए है, वो सब इस तरफ़ इशारा करते हैं कि लोग किसी भी रिश्ते में वफ़ादारी को बहुत अहमियत देते हैं। उन्हें लगता है कि धोखा देने से उन्हें इमोशनली काफी नुक़सान होगा।

अगर आप ने अपने रिश्ते में छल किया है, तो इसका इक़रारनामा आप के साथी को तकलीफ़ पहुंचाएगा। जो लोग अपने पार्टनर से हद से ज्यादा प्यार करते हैं, जिन्हे उनसे धोखे की उम्मीद नही होती उन्हे सबसे ज़्यादा तकलीफ़ होती है। कई लोग तो डिप्रेशन में भी चले जाते हैं। वहीं, कुछ अपने साथी की बेवफ़ाई से बहुत अग्रेसिव हो जाते हैं।

अगर कोई एक बार धोखा देता है, तो आम तौर पर उसके साथी उसे माफ़ कर देते हैं। कई बार इस वजह से रिश्ते टूट भी जाते हैं। वरना, अक्सर कई लोग ऐसे धोखों के बावजूद रिश्तों को बचाने की भरपूर कोशिश करते हैं। लेकिन, तब आप क्या करेंगे जब धोखा देना आदत ही बन जाए, तब फिर कोई ऑप्शन नहीं रहता, सिवा इसके कि उस रिश्ते से अपने सारे रिश्तें तोड़ दिया जाए। इस में कोई शक़ नहीं कि हमारे समाज में धोखें और बेवफाई की घटनाएं बढ़ती जा रही है और आम हो रही हैं. हर रिश्ते में इसकी गुंजाइश रहती है. इसलिए शायद इस बारे में बात करने का सही वक़्त आ गया है।

पढ़िए : टॉक्सिक रिलेशनशिप के इन लक्षणों को न करें अनदेखा

Email us at connect@shethepeople.tv