हमारी सोसाइटी में डिवोर्स को हमेशा नीची नज़रों से ही देखा गया है। आज भी ये सोसाइटी इस बात से उनकंफर्टेबल है की कोई अपनी शादी कैसे तोड़ सकता है। डिवोर्स से होने वाली पॉजिटिव बातें भी हैं जिनके तरफ कोई ध्यान नहीं देता। इस डिवोर्स के चक्कर में सबसे ज़्यादा महिलाओं पर ही शादी टूटने का ब्लेम डाला जाता है। सोसाइटी की जजमेंटल नज़रों का सामना नहीं कर पाने की वजह से ना जानें कितनी ही महिलाएं गलत रिश्ते का बोझ उठा कर चल रही हैं। इसलिए ये समझना बहुत ज़रूरी है की डिवोर्स लेना कोई फेलियर नहीं है बल्कि ये आपकी स्ट्रेंथ डिफाइन करता है। जानिए डिवोर्स की पॉजिटिव बातें:

1. एक नए स्टार्ट का मिलता है मौका

ज़िन्दगी हर किसी को दूसरा मौका नहीं देती है, इसलिए जब ऐसा कोई चांस मिले तो उसे बिलकुल भी गवाना नहीं चाहिए। डिवोर्स के बाद हो सकता है की आपके लिए सफर मुश्किल हो जाए लेकिन आप अपनी जर्नी फिर से स्टार्ट कर सकती हैं। इसलिए ये ज़रूरी है की आप डिवोर्स के ऑप्शन को और बेहतर तरीके से समझने की कोशिश करें और उस हिसाब से ही फैसला लें।

2. आपने आप पर फोकस करना है ज़्यादा ज़रूरी

डिवोर्स लेने का मतलब है दूसरों से पहले अपनी खुशियों को रखना। इसमें कोई गलत बात नहीं है इसलिए आपको इस कारण अपोलोजेटिक होने की भी ज़रूरत नहीं है। आप खुद को चूज़ कर रही हैं और सिर्फ यही बात आपको बहुत स्ट्रांग बनाती है। कोई अगर आपको अपनी खुशियां चूज़ करने के लिए शेम करे तो इसमें आपका कोई नुक्सान नहीं है।

3. डिवोर्स ले पाने का मतलब है की आप ब्रेव हो

डिवोर्स के बाद ज़िन्दगी ख़तम नहीं होती है बल्कि आपको एक नई शुरुवात का मौका मिलता है। जब आप ये डिसाइड ही कर लेती हैं की आपको डिवोर्स लेना है आपकी स्ट्रेंथ में बहुत इजाफा हो जाता है। किसी को भी अपने सेल्फ-कॉन्फिडेंस को घटाने का मौका ना दें। आप अपने लिए जो भी कर रही है वो बेस्ट है और आपसे ज़्यादा ब्रेव कोई नहीं है।

4. फिजिकली और इमोशनली अब्यूज़िंग रिश्ते को ख़त्म करना है ज़रूरी

एक रिश्ते में आपके साथ क्या हुआ है और क्या नहीं ये सिर्फ आप और आपके पार्टनर को ही पता है। इसलिए अगर आप फिजिकल या इमोशनल अब्यूस के बेसिस पे अपने रिश्ते को ख़त्म कर रही हैं तो इसमें कुछ गलत नहीं है। किसी को भी अब्यूस से गुज़ारना नहीं चाहिए और आप डिवोर्स लेकर इसके खिलाफ आवाज़ उठा रही हैं।

5. न्यूफाउंड आज़ादी है आपके लिए ज़रूरी

हमारे देश में एक लड़की कभी पूरी तरह से आज़ादी अनुभव नहीं कर पाती है क्योंकि उसके दिमाग में बचपन से ये बात डाली जाती है की उसकी एक दिन शादी हो जाएगी। ऐसे में आप जब डिवोर्स लेती हैं तो आप सोसाइटी की इस धारणा को बदल रही हैं की एक लड़की आज़ाद नहीं हो सकती। डिवोर्स के बाद नई इंडिपेंडेंस का स्वाद चखना आपको कई गुना स्ट्रांग बनाता है।

Email us at connect@shethepeople.tv