Expectations From Children: जानिए अपने बच्चे से ओवर-एक्सपेक्ट करने के ये 5 साइंस

Expectations From Children: जानिए अपने बच्चे से ओवर-एक्सपेक्ट करने के ये 5 साइंस Expectations From Children: जानिए अपने बच्चे से ओवर-एक्सपेक्ट करने के ये 5 साइंस

SheThePeople Team

16 Jul 2021

अपने बच्चे से हर पैरेंट एक्सपेक्टेशंस रखते हैं जो कभी-कभी थोड़े अनरीयलिस्टिक भी हो जाते हैं। अक्सर पेरेंट्स अपने बच्चे को अपनेआप से कम्पेयर करने लगते हैं और कई बार उनकी उपलब्धियों को भी वो अपने साथ या उनके पीयर ग्रुप के साथ कम्पेयर करने लगते हैं। ऐसे में पेरेंट्स को पता ही नहीं चलता है कि कब वो अपने बच्चों से ओवर-एक्सपेक्ट करने लगते हैं। कई बार बच्चे अपने पेरेंट्स कि उम्मीदों पर खड़ा उतरने के पीछे इतना लग जाते हैं की इस कारण उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर पड़ने लगता है। जानिए बच्चे से ओवर-एक्सपेक्ट करने के ये 5 साइंस:

1. बच्चा आपके साथ अपनी फेलियर शेयर नहीं करता है


बच्चे थोड़े ज़्यादा सेंसिटिव होते हैं इसलिए उनको लेकर उनके पेरेंट्स कि क्या एक्सपेक्टेशंस है ये कभी-कभी उन्हें काफी ज़्यादा बेचैन कर सकती है। इसलिए अगर आपका बच्चा आपके साथ अपनी कोई फेलियर शेयर करने के लिए तैयार नहीं है तो समझ जाए की उसको आपके एक्सपेक्टेशंस पर खड़ा ना होने पाने का दुःख है। ऐसे में बच्चों से डिस्टेंस बनाने के बजाये उन्हें समझाएं की आप हमेशा उनके साथ हैं।

2. बच्चा अपने हॉबीज़ को लेकर अब पैशनेट नहीं है


जब बच्चे किसी हॉबी से जुड़ जाते हैं तो वो उन चीज़ों को लेकर काफी पैशनेट हो जाते हैं। इसलिए अगर आपका बच्चा अपनी हॉबीज़ के तरफ भी पैशन फैले नहीं कर रहा है तो हो सकता है कि आपने उससे उस फील्ड में भी ओवर-एक्सपेक्ट कर लिया है। ऐसे में अपने पार्टनर के साथ मिलकर बच्चे के बारे में डिसकस करें।

3. आपको रिजल्ट कि है ज़्यादा चिंता


अगर आपको अपने बच्चे के किसी भी काम के प्रोसेस से ज़्यादा उसके एन्ड-रिजल्ट में दिलचस्पी है तो इसका मतलब आप एक ओवर-एक्सपेक्टिंग पैरेंट हैं। ऐसे में हो सकता है की आपको आपके बच्चे कि मेहनत ना दिखे और आप उसके एन्ड-रिजल्ट के बेसिस पर ही उसे जज करते रहें। ऐसा करने से आपके बच्च के दिमाग पर बहुत गहरा असर पड़ सकता है।

4. बच्चे के मूड में बदलाव


जब आप बच्चे के एफ्फोर्ट्स को अप्रीशिएट करने के बजाये बार-बार उसके फेलियर ही उसे गिनाते रहेंगे रहेंगे तो आपका बच्चा काफी मूडी हो सकता है। ऐसे में उसके बेहेवियर में बदलाव भी संभव है। हो सकता है की आपका बच्चा इस कारण और थका हुआ भी फील करे। इसलिए अपने बच्चे से प्यार से बात करने कि कोशिश करें।

5. बच्चे आपके एक्सेप्टेन्स को लेकर रहते हैं परेशान


कई बारे बच्चों को लगता है की उनके पेरेंट्स उन्हें तभी प्यार करेंगे या एक्सेप्ट करेंगे जब वो उनके एक्सपेक्टेशंस पर खड़े उतरेंगे। अगर आप अपने बच्चे को तभी अप्रीशिएट करते हैं जब वो अच्छा परफॉर्म करते हैं तो इससे आप दोने के बीच का रिलेशन बहुत ख़राब हो सकता है। इसलिए अपनी हैबिट्स को ऑब्ज़र्व करें और अगर आप ऐसा करते हैं तो इसे आदत को सुधारें।

अनुशंसित लेख