Women's Hygiene : पीरियड्स के दौरान महिलाओं के लिए बेसिक हाइजीन टिप्स

Women's Hygiene : पीरियड्स के दौरान महिलाओं के लिए बेसिक हाइजीन टिप्स Women's Hygiene : पीरियड्स के दौरान महिलाओं के लिए बेसिक हाइजीन टिप्स

Vaishali Garg

03 Aug 2022

अपने शरीर से जुड़ी स्वक्षता को नज़रअंदाज़ करना हमारे सेहत के लिए बहुत ही बुरा हो सकता। महिलाओं को अधिकतर पीरियड्स के दौरान स्वक्षता पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। किसी भी प्रकार की एक लापरवाही भी उनको भविष्य में बहुत ज्यादा नुकसानदायक साबित हो सकती है। केवल अच्छे से पानी से हाथ धोना बस स्वच्छता नहीं है।

कई महिलाएं अभी भी अपनी पर्सनल देखभाल व्यवस्था के बारे में बात करने से कतराती हैं। खराब पर्सनल स्वच्छता त्वचा में संक्रमण और पेट की समस्याओं के कारणों में से एक हो सकती है। इसलिए खुद को स्वस्थ रखने के लिए व्यक्तिगत स्वच्छता सबसे ऊपर होनी चाहिए।

5 tips for women's Hygiene-

1. नियमित स्नान

नियमित रूप से नहाना सभी के लिए जरूरी है। नहाने से बचने की आदत से त्वचा में कई तरह के संक्रमण हो सकते हैं जैसे शुष्क त्वचा और फंगल संक्रमण। अपने प्राइवेट पार्ट को साफ करना उतना ही जरूरी है जितना कि नियमित रूप से नहाना।

2. उचित सफाई सुनिश्चित करें

रोजाना नहाने के बावजूद अपने प्राइवेट पार्ट को नियमित रूप से पानी से साफ करना जरूरी है। हालाँकि, देखभाल केवल नहाते समय धोने तक ही सीमित नहीं रहनी चाहिए।  महिलाओं को अपने प्राइवेट पार्ट्स को 2-3 बार धोना चाहिए, खासकर मानसून और पीरियड्स के दौरान संक्रमण से बचने के लिए। इसके अलावा, अपने निजी अंगों को साफ करने के लिए मजबूत क्लीनर या सुगंधित उत्पादों का उपयोग करने से बचें क्योंकि उन उत्पादों में मौजूद रसायनों से गंभीर संक्रमण हो सकता है।

3. साबुन का प्रयोग न करें

साबुन में वजाइना की त्वचा की तुलना में अधिक पीएच होता है जो बहुत संवेदनशील होती है। वजाइना के सूखेपन और खराश से बचने के लिए हमेशा पीएच को संतुलित करना सुनिश्चित करें। और आपको बता दें सिर्फ वजाइना को पानी से ही साफ करे क्योंकी वजाइना अपने आप को खुद ही साफ कर लेता है।

4. सही कपड़े चुनें

ढीले और सूती कपड़े का उपयोग करना बेहतर है जो वायु प्रवाह की अनुमति देते हैं। टाइट-फिटिंग कपड़े शरीर के अंदर एक नम और गर्म वातावरण उत्पन्न करते हैं जिससे फंगल संक्रमण होता है। अपने कपड़े और अंडरवियर बदलना सुनिश्चित करें क्योंकि खेल या शारीरिक गतिविधि के बाद वे पसीने से तर हो सकते हैं।

5. पैड को बदलना सुनिश्चित करें

पीरियड्स के दौरान यह बहुत ही जरूरी है कि आप नियम से अपने पैर को या मेंस्ट्रूअल कप को बदलते रहे। यह आपकी फ्लो पे डिपेंड करता है कि आपको एक पेज बदलने में कितना समय लगेगा बहुतों को एक-दो घंटे में बदलने की जरूरत पड़ती है बहुत को 2 घंटे। आप चाहे तो पीरियड्स के टाइम पर मेंस्ट्रूअल कप का यूज कर सकती है। पीरियड्स हाइजीन पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है।


अनुशंसित लेख