चाय दुनिया भर के लोगों में सबसे लोकप्रिय ड्रिंक में से एक है। अगर इसका सही तरीके से सेवन किया जाए तो यह स्वास्थ्य लाभ साबित होता है। लेकिन, क्या आपने कभी चाय के साइड इफेक्ट्स के बारे में सोचा है? आइये जनता है चाय पीने के साइड इफेक्ट्स chai peene ke nuksan

image

1. अनिद्रा (Insomnia) और बेचैनी

चाय पीने के हानिकारक प्रभावों के बारे में बात करते समय, एक फैक्टर जो दिमाग में आता है वह है इसमें मौजूद कैफीन की मात्रा। एक कप चाय में आमतौर पर लगभग 14 – 60 मिलीग्राम कैफीन होता है। यह हमारे शरीर को प्रभावित करता है, जिसकी वजह से हमे चिंता, बेचैनी और अनिद्रा हो सकती है। ऐसी समस्याओं को खत्म करने के लिए चाय का कंसम्पशन कम करना चाहिए ।

2. एक लत बन जाता है

अगर आप रोज़ाना 2 कप से अधिक चाय का सेवन करते हैं, तो यह संभावना है कि आपने ड्रिंक पर निर्भरता विकसित कर ली है मतलब ये ड्रिंक आपकी लत बन सकती है। उस स्थिति में, यदि आप अचानक चाय पीना पूरी तरह से बंद कर देते हैं या इसके सेवन को कम कर देते हैं, तो आपको सिरदर्द, थकान, कम एकाग्रता शक्ति आदि जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं, इसलिए इस साइड इफ़ेक्ट को रोकने के लिए आप हर दिन कितनी चाय पीते हैं, इस पर कड़ी निगरानी रखें क्योंकि chai peene ke nuksan काफी हैं

3. डिहाइड्रेशन के कारण

ज़्यादा मात्रा में चाय पीने से डिहाइड्रेशन हो सकता है। बहुत अधिक चाय का मतलब है आपके शरीर द्वारा रिक्वायर्ड कैफीन की मात्रा से अधिक सेवन। इससे आपके खाने में मौजूद essential nutrients तत्वों को अब्सॉर्ब करने के लिए आपके tubules की क्षमता कम हो सकती है। यह सब आपके शरीर को डिहाइड्रेटेड छोड़ सकता है और परिणामस्वरूप, आप कभी-कभी bloated और कब्ज महसूस कर सकती हैं। चाय के अन्य साइड इफेक्ट्स के अपोजिट, इसको आप आसानी से खुद को हाइड्रेटेड रख के ठीक कर सकती हैं।

4. प्रोस्टेट कैंसर का खतरा बढ़ जाता है

यह चाय पीने का एक गंभीर साइड इफ़ेक्ट है। यह साबित हो गया है कि जो लोग एक दिन में 6-7 कप से अधिक चाय पीते हैं, उन्हें प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा, उन लोगों की तुलना में जो चाय नहीं पीते, 50% अधिक होता है। हालांकि, उम्र, तनाव, डाइट आदि जैसे अन्य फैक्टर्स भी ऐसी स्थिति में योगदान करते हैं।

5. गर्भपात (Miscarriage) की संभावना

चाय में कैफीन की मात्रा होती है जो गर्भावस्था के दौरान फ़ीटस के विकास को नुकसान पहुंचा सकती है। चाय के अत्यधिक सेवन से गर्भपात का खतरा रहता है। इसलिए, माताओं को गर्भावस्था के पहले तीन महीनों के दौरान कम से कम चाय या कॉफी से पूरी तरह से बचना चाहिए। चाय के अन्य साइड इफेक्ट्स के विपरीत, यह विशेष रूप से गंभीर और disheartening हो सकता है।

6. Skeletal Fluorosis का कारण

चाय के ज़्यादा सेवन से Skeletal Fluorosis हो सकता है । चाय में मौजूद फ्लोराइड के कारण हड्डी से संबंधित एक दर्दनाक बीमारी हो सकती है। चाय ज़्यादा पीने से आपके शरीर में फ्लोराइड का स्तर बढ़ जाता है जो बदले में आपकी हड्डियों को कमजोर करता है, इस प्रकार इस बीमारी का कारण बनता है।

और पढ़िए : नूट्रिशनिस्ट पूजा मखीजा बताती हैं क्रैश डाइट के नुक्सान

7. हृदय संबंधी समस्याए

हृदय संबंधी विकारों से पीड़ित लोगों को अधिक चाय पीने से बचना चाहिए, क्योंकि इसमें मौजूद कैफीन cardiovascular system के proper functioning के लिए फिट नहीं है और इसलिए, यह एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या पैदा कर सकता है। हृदय संबंधी समस्याओं के पारिवारिक इतिहास वाले लोगों को विशेष रूप से चाय के इस साइड इफ़ेक्ट से सावधान रहना चाहिए।

8. सिरदर्द

आप इस उम्मीद के साथ एक कप चाय पीते होंगे कि यह आपको सिरदर्द से बहुत जरूरी राहत देगा। दुर्भाग्य से, आपकी यह आदत आपके सिरदर्द का कारण हो सकती है। intermittent fasting के दौरान यह स्थिति बढ़ जाती है।

9. कब्ज़

चाय में थियोफिलाइन एक रसायन पाचन के दौरान डिहाइड्रेशन प्रभाव पैदा कर सकता है, जिससे कब्ज हो सकता है। कई लोग मानते हैं कि सुबह की चाय लेने से हमें Bowel Movement Clear करने में मदद मिलती है जबकि अधिक मात्रा में चाय पीने से कब्ज हो सकता है।

10. Heartburn और परेशानी

इस तथ्य से कोई इंकार नहीं है कि आपका पसंदीदा चाय का कप अक्सर आपको uneasy और uncomfortable बना देता है! यह केवल इसलिए है क्योंकि चाय में कैफीन की मौजूदगी पेट में acid formation को बढ़ाती है जिससे heartburn, सूजन और बेचैनी होती है। इसके अलावा, यह भी शरीर में acid reflux का कारण बनता है। ये थे chai peene ke nuksan

और पढ़िए : जानिए तुलसी से होने वाले 8 फायदे

Email us at connect@shethepeople.tv