Dattatreya Jayanti 2022: जानिए दत्तात्रेय जयंती पूजा मुहूर्त और महत्वपूर्ण जानकारियां

दत्तात्रेय जयंती की पूर्व संध्या पर भगवान दत्ता के लिए व्रत और पूजन करने वाले लोगो को उनका आशीर्वाद और कई तरह के लाभ प्राप्त होते हैं। आइए जानते हैं इस व्रत की पूजा विधि और महत्व इस ब्लॉग में-

Vaishali Garg
06 Dec 2022
Dattatreya Jayanti 2022: जानिए दत्तात्रेय जयंती पूजा मुहूर्त और महत्वपूर्ण जानकारियां

Dattatreya Jayanti 2022

Dattatreya Jayanti 2022: लोगों का विश्वास है कि दत्तात्रेय जयंती के दिन पूजा अनुष्ठानों का पालन करते हुए वह जीवन के सभी हिस्सों में लाभ पा सकते हैं, लेकिन पवित्र पूर्व संध्या की प्राथमिक आवश्यकता यहे है कि यह लोगों को पूर्वजों की समस्याओं और अन्य मुद्दों से बचाती है। इस दिन देवता की पूजा और प्रार्थना करने से उत्साही लोगों को एक समृद्ध अस्तित्व प्राप्त करने में मदद मिलती है।

Dattatreya Jayanti 2022: जानिए दत्ता जयंती पूजा के लाभ

दत्तात्रेय उपनिषद के मुताबिक, दत्त जयंती की पूर्व संध्या पर भगवान दत्ता के लिए व्रत और पूजन करने वाले लोगो को उनका आशीर्वाद और कई तरह के लाभ प्राप्त होते हैं।

लोगों को उनकी सभी इच्छित चीजों और धन की प्राप्ति होती है। सर्वोच्च ज्ञान के साथ-साथ जीवन के उद्देश्य और लक्ष्यों को पूरा करने में मदद मिलती है। पर्यवेक्षकों को अपनी चिंताओं के साथ-साथ अज्ञात भय से छुटकारा मिलता है। हानिकारक ग्रहीय कष्टों का निवारण सभी मानसिक कष्टों के उन्मूलन और पैतृक मुद्दों से भी छुटकारा मिलता है। इससे जीवन में सही रास्ते पाने में मदद मिलती है। आत्मा को सभी कर्म बंधों से मुक्त करने में मददगार है। लोगों का आध्यात्मिकता के प्रति झुकाव विकसित होता है।

Dattatreya Jayanti 2022: तिथि और शुभ मुहूर्त

बुधवार, 07 दिसंबर 2022 पूर्णिमा तिथि शुरू: 7 दिसंबर 2022 सुबह 08 बजे पूर्णिमा तिथि तिथिः 08-दिसंबर 2022 पूर्वाह्न 09:37 पूर्वाह्न

Dattatreya Jayanti 2022: जानिए दत्ता जयंती पूजा विधान और उपवास

लोग सूर्योदय से पहले उठकर पवित्र स्नान करते हैं और फिर दत्ता जयंती का व्रत रखने का अनुष्ठान करते हैं। पूजा के समय, भक्तों को मिठाई, अगरबत्ती, फूल और दीपक चढ़ाने चाहिए। भक्तों को पवित्र मंत्रों और धार्मिक गीतों का पाठ करना चाहिए और जीवनमुक्त गीता और अवधूत गीता के श्लोकों को पढना चाहिए। पूजा के समय दत्ता भगवान की प्रतिमा पर हल्दी पाउडर, सिंदूर और चंदन का लेप लगाएं। आत्मा और मन की शुद्धि व ज्ञान के लिए, भक्तों को 'ओम श्री गुरुदेव दत्ता' और 'श्री गुरु दत्तात्रेय नमः' जैसे मंत्रों का पाठ करना चाहिए

Read The Next Article