Bad Marriages: बच्चों पर ख़राब शादियों का असर

Bad Marriages: बच्चों पर ख़राब शादियों का असर Bad Marriages: बच्चों पर ख़राब शादियों का असर

Monika Pundir

08 Jul 2022

हमारे समाज में शादी को सात जन्मों का बंधन माना जाता है, और शादी में समस्या होने पर भी उसे तोडना गलत ही माना जाता है। कपल के बीच झगड़े होते हैं, वे भद्दे बन जाते हैं, और अंजाम बच्चे को अपने एडल्टहुड में भी भुकतना पड़ता है।

खराब शादियाँ और बच्चों के लिए इसके दुष्परिणाम

कुछ दिनों पहले, एक रिपोर्ट आयी थी जिसमें एक माँ ने अपने पति के साथ बहस से निराश होकर अपने बच्चे का गला काट दिया और बिजली के कटर से खुद को काट लिया।

एक अन्य घटना में, एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें एक महिला अपने पति को बल्ले से पीट रही थी, जबकि बच्चा डरकर खुद को बचाने और स्थिति को समझने की कोशिश कर रहा था। लेकिन दोष किसका है? उन बच्चों पर जो दुखी विवाह वाले माता-पिता से पैदा हुए थे? उन माता-पिता पर जिन्होंने अपने बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को अनदेखी की? या उन माता-पिता के परिवारों पर जिन्होंने उन्हें बुरी शादी के लिए मजबूर किया?

रिसर्च केहती है की ख़राब शादी के बच्चे, डिवोर्स के परिवार से अधिक एंग्जायटी और मेन्टल हेल्थ समस्या का सामना करते हैं। उनका सुब्स्टेन्स अब्यूज़ के चांसेस ज़्यादा होते हैं, और बड़े होकर भी उन्हें रेलशनशिप जोड़ने में समस्या होती है।

हमारे बेहतर विश्व

एक खराब शादी में रहना किसी के भाग्य में नहीं आना चाहिए। ऐसे रिश्ते को बनाए रखना किसी की जिम्मेदारी नहीं है जिसमें प्यार न हो या जो टॉक्सिक हो। इसलिए शादी में आने वाली समस्या को जल्द से जल्द पहचानना, हो सके तो उसे सुलझाना या बस दूर चले जाना बहुत जरूरी है।

लेकिन हमारे समाज में, एक बार शादी करने के बाद एक जोड़े को जीवन भर रिश्ते को बनाए रखने के लिए मजबूर होना पड़ता है। यदि विवाह प्रारंभिक अवस्था में नहीं चल रहा है, तो समाज कपल को एक बच्चा पैदा करने के लिए कहता है जो विवाह में दरार की पट्टी होगी।

परिवार से समर्थन की कमी के साथ, जोड़े खराब शादी और बच्चों के पालन-पोषण की दोहरी जिम्मेदारी में फंस जाते हैं। अगर वे शादी में समस्या को सुलझाने को अहमियत देते हैं, तो उन्हें बच्चे की अनदेखी के लिए शर्म आती है। अगर वे बच्चे के पालन-पोषण पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो वे एक सुखी और प्यारा निजी जीवन जीने के अधिकार से वंचित हो जाते हैं।

क्या यह उचित है? जोड़ों को खराब विवाह को बनाए रखने के लिए क्यों मजबूर किया जाता है? जब वे प्रारंभिक अवस्था में बाहर जाना चाहते हैं तो परिवार उनका समर्थन क्यों नहीं करते? उन्हें अपनी शादी तय करने के लिए बच्चों का इंतजार करने के लिए क्यों मजबूर किया जाता है? अगर बच्चे आते भी हैं, तो माता-पिता से यह अपेक्षा क्यों की जाती है कि वे पालन-पोषण करते समय अपने स्वयं के समस्या भूल जाए? क्या बच्चे होने के बाद पति-पत्नी की पहचान माता-पिता में बदल जाती है? क्या उन्हें सिर्फ बच्चों की वजह से टॉक्सिक शादी में फंसना चाहिए?

एक-दूसरे के साथ रहने के लिए बल्कि एक बच्चे को एक साथ पालने के लिए मजबूर करने के नतीजों का सामना बच्चों को करना पड़ता है। बच्चों को 'प्यार की निशानी' या ऐसा बंधन कहा जाता है जो एक जोड़े को एक साथ रखता है।

बच्चों और पालन-पोषण के विचार को रोमांटिक करते हुए, समाज यह भूल जाता है कि बच्चे भी इंसान हैं। उन्हें जीवन भर अपने माता-पिता के बुरे विवाहों का सामना करना पड़ता है और उन्हें उतना ही दर्द और आघात सहना पड़ता है। समाज यह मानकर बहुत बड़ी गलती करता है कि बच्चे हिंसक या विषाक्त व्यवहार को याद नहीं रखते, समझते या प्रतिक्रिया नहीं करते हैं।

समाज क्यों नहीं सोचता कि माता-पिता की शादी टूटने के कारण बच्चे को क्या परिणाम भुगतने होंगे? यह क्यों नहीं समझता है कि एक बच्चे का अपना जीवन होता है जो अपने हिस्से की खुशी का हकदार होता है न कि दुखों का? कि एक बच्चा एक व्यक्ति के रूप में जन्म लेता है, विवाह फिक्सर नहीं? 

अनुशंसित लेख