Advertisment

जानिये माउंट एवेरेस्ट पर चढनेवाली जुड़वाँ बहनों को

author-image
Swati Bundela
New Update


Advertisment

यह जुड़वां बहने पूरे ऑल-मैन क्रू में केवल दो लड़कियों थी , जिस कारण इन्हे काफी मतभेदों का सामना करना पड़ा । इन्हे बहुत -सी बातें सुननी पड़ी जैसे की आप इतनी ऊंचाई पर नहीं जा सकती , आप इतना वजन नहीं उठा सकती ।



हरियाणा में रिटायर्ड भारतीय सेना अधिकारी कर्नल वीरेंद्र सिंह मलिक के घर जन्मी ताशी और नुंग्शी को हमेशा से पहाड़ बहुत पसंद थे । उन्होंने छुट्टियों के दौरान खुद को व्यस्त रखने के लिए माउंटेनियरिंग करने का मन बनाया । उनके पिता ने उन्हें हमेशा साधारण स्पेस से बाहर निकलने के लिए प्रोत्साहित किया। उनके पहले ट्रेक में तकनीकी, वित्तीय और मानसिक बाधाओं पर काबू पाने में लगभग तीन साल लगे। हालांकि उसके बाद, उन दोनों ने दुनिया के सभी सात सबसे ऊंची चोटियों की चढ़ाई की ।

Advertisment


जुड़वा लड़कियों ने ट्रेकिंग करते हुए बताया की उन्हें बहुत ही ज़्यादा भेदभाव का सामना करना पड़ा क्योंकि सभी पुरुषों के क्रू में वो दोनों ही लड़कियाँ शामिल थी और उन्हें बहुत कुछ सुन्ना पड़ता था जैसे की आप इतनी लंबी दूरी तय नहीं कर सकती हैं और आप इतना वज़न नहीं उठा पाएंगी । उन्होंने उन सभी को गलत साबित कर दिया और सभी बेटियों के माता-पिता के लिए एक मिसाल कायम की। वे उत्साहित होकर कहती हैं कि अब वे जहां भी जाती हैं, सभी माता-पिता उन्हें "अपनी बेटियों" के रूप में देखते हैं और उनसे मिलने के लिए "उत्साहित महसूस करते हैं"।



दो साल से भी कम समय में, दो बहनों ने सबसे ऊंची चोटियों पर कब्जा कर लिया और ऐसा करने वाली वे एकमात्र जुड़वां बहनें बन गईं। वे कहती हैं कि उनका प्यार पहाड़ों में रहता है और जो कोई भी यह सोचता है कि लड़कियां ऐसा नहीं कर सकती हैं, "ठीक है, पहाड़ आपको पुरुष या महिला के रूप में नहीं देखता है। वे आपको एक इंसान के रूप में देखते हैं, “दोनों बहनों ने मुस्कुराते हुए कहा ।
इंस्पिरेशन
Advertisment