कोरोना की तीसरी लहर आने को है और दूसरी लहर ने पहले से ही बहुत भूकंप मचाकर रखा है। ऐसे में कई लोगों को घर घर कोरोना हो रहा है। कई लोग तो ऐसे भी हैं जो होम क्वारंटाइन में ही ठीक हो जाते हैं। आपके साथ ऐसा भी हो सकता है कि आपको समझ नहीं आ रहा हो कि आपको अस्पताल कब जाना चाहिए ? इसलिए आज हम आपको बताएंगे कोरोना होम क्वारंटाइन में अस्पताल कब जाना चाहिए –

1. ऑक्सीजन लेवल 94 से कम होने पर

पल्स ऑक्सीमीटर एक मशीन होती है जिस से आपको पल्स और ऑक्सीजन लेवल मालूम रहती है। आपकी ऑक्सीजन लेवल अगर 95 से नीचे जाती है तो आपको तुरंत अस्पताल जाना चाहिए। आपकी पल्स भी 80 से 100 के बीच होनी चाहिए। पल्स मतलब होता है आपकी हार्ट बीट रेट यानि कितनी बार दिल धड़क रहा है।

2. बीपी कम या ज़्यादा होने पर

आप ये दोनों ब्लड प्रेशर और शुगर मशीन भी घर पे मंगवा कर रखलें। ये आपके और आपके पेरेंट्स के लिए बहुत काम आएगा। आप अपना बीपी नापते रहे कम से कम रोजाना एक बार और डॉक्टर से संपर्क में रहें जिस से की इमरजेंसी की जरुरत ही न आये और पहले से सब कण्ट्रोल में रहे।

3. सांस लेने में दिक्कत होने पर

कोरोना एक ऐसा वायरस है जिससे सांस लेने में समस्या होना आम है। आपको ध्यान रखना है कि आप आपका कोई भी सिम्प्टम इग्नोर न करें और तुर्रंत अस्पताल जाएं।

4. शुगर कम ज्यादा होने पर

कोरोना की दवाइयां कुछ इस तरीके की होती हैं कि उस से शुगर लेवल अचानक से बढ़ जाता है। इसलिए आप घर पर शुगर मशीन लेकर रख लें और अगर आपको शुगर से जुडी कोई समस्या है तो दिन में एक बार शुगर जरूर नापें।

5. जरुरत से ज्यादा वीकनेस होने पर

कोरोना में वीकनेस होना आम बात है लेकिन जब आपको लगने लगे कि अब आपको बहुत ज्यादा वीकनेस हो गयी है और अब आप घर पर मैनेज नहीं कर सकते हैं तो तुरंत अस्पताल जाएं।

Email us at connect@shethepeople.tv