ब्लॉग

क्या पीरियड्स में मास्टरबेशन सेफ है ? जानिए हमारे एक्सपर्ट से

Published by
Mahima

हम उस पीरियड्स के दर्द से छुटकारा पाने के लिए एक सरल और सुखदायक तरीके के बारे में बात कर रहे हैं, और वो यह कि पीरियड्स में मास्टरबेशन के आसपास बनाई गई शर्म और कलंक को तोड़ना। एक्सपर्ट्स का कहना है कि पीरियड्स के दौरान मास्टरबेट करने में शर्मिंदा होने वाली कोई बात नहीं है। इसलिए आपको जब लगे की आपको ज़रुरत है तब ये कर लेना चाहिए क्योंकि ये आपके शरीर के लिए हानिकारक नहीं है।

अपने शरीर के बारे में जानने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप उससे दोस्ती करें और उसके साथ प्यार से रहना सीखें। अपने आप को अपने हार्मोन से परिचित कराएं जो आपके पीरियड्स का कारण बनते हैं और यहां तक ​​कि sexual appetite में भी तेजी से वृद्धि करते हैं ।

पीरियड्स में मास्टरबेशन न केवल उस sexual urge को कम कर सकता है बल्कि उन भयानक क्रैम्प्स को शांत करने में भी मदद करता है जो आपको पीरियड्स के टाइम आते हैं। इसको साबित करने के लिए, हमने हमारी एक्सपर्ट गयनेकोलॉजिस्ट सुलभा अरोड़ा बिजूर से विशेष जानकारी भी ली है।

क्या आप जानते हैं कि मास्टरबेशन और पीरियड क्रैम्प के बीच एक संबंध है? orgasm के दौरान जारी एंडोर्फिन शरीर द्वारा महसूस किए गए आनंद को बढ़ाता है। यह इस प्रकार एक डिस्ट्रक्शन के रूप में काम करता है और रेड अलर्ट के दिनों में एक ग्रीन सिग्नल जैसा होता है।

मास्टरबेशन और पीरियड क्रैम्प के बीच संबंध

क्या आप जानते हैं कि मास्टरबेशन और पीरियड क्रैम्प के बीच एक संबंध है? orgasm के दौरान जारी एंडोर्फिन शरीर द्वारा महसूस किए गए आनंद को बढ़ाता है। यह इस प्रकार एक डिस्ट्रक्शन के रूप में काम करता है और रेड अलर्ट के दिनों में एक ग्रीन सिग्नल जैसा होता है।

फिंगरिंग करना या सेक्स टॉय का उपयोग करना तब तक ठीक हैं जब तक आप इसका आनंद ले रही हैं। अगर इंसर्शन से डिस्कम्फर्ट हो रहा है , तो इसे न करके क्लिटोरल स्टिमुलेशन ट्राई करें। या और भी सरल – हम्पिंग।

हम्पिंग  करने की सबसे अच्छी तकनीकों में से एक है। कोई गड़बड़ नहीं, कोई अतिरिक्त धुलाई और सफाई कीज़रुरत नहीं और कोई पूर्व तैयारी की आवश्यकता नहीं है। बस अपना मनपसंद तकिया या तौलिया बाहर निकाल लें और रगड़ ले।

ध्यान रखने वाली बातें

हालाँकि, कुछ बातें हैं जो आपको पीरियड्स के दौरान खुद को खुश करते हुए ध्यान में रखनी चाहिए। हालाँकि इन्फेक्शन के चान्सेस न के बराबर हैं, फिर भी, पक्का करें कि आपके हाथ और यहां तक ​​कि आपके सेक्स टॉयस भी अच्छी तरह से धोए और साफ किए गए हो , अगर आप इंसर्शन तकनीक का प्रयास कर रही हैं। इसके अलावा, भले ही एक लुब्रीकेंट की आवश्यकता न पड़े, फिर भी, अगर आपको कुछ एक्स्ट्रा फ्रिक्शन की ज़रुरत महसूस होती है, तो वॉटर-बेस्ड लुब्रीकेंट का उपयोग करें।

तो अगली बार जब आप किसी को प्लेज़र-फुल और दर्द-मुक्त पीरियड्स वाली बातों पे अजीब सी शकल बनाते हुए देखे , तो उन्हें बताएं कि यह एक्सपर्ट्स द्वारा मानी हुई बाते हैं । इसलिए, अपने हार्मोन से दोस्ती करे और मिथ्स को तोड़े ।

और पढ़िए : पीरियड मिथ्स – हम कब इनसे छुटकारा पाएंगे?

Recent Posts

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

14 mins ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

साल 1994 में सुष्मिता सेन ने भारत के लिए पहला "मिस यूनिवर्स" खिताब जीता था।…

32 mins ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

3 hours ago

टोक्यो ओलंपिक : पीवी सिंधु सेमीफाइनल में ताई जू से हारी, अब ब्रॉन्ज़ मैडल पाने की करेगी कोशिश

ओलंपिक में भारत के लिए एक दुखद खबर है। भारतीय शटलर पीवी सिंधु ताई त्ज़ु-यिंग…

3 hours ago

वर्क और लाइफ बैलेंस कैसे करें? जाने रुटीन होना क्यों होता है जरुरी?

वर्क और लाइफ बैलेंस - बहुत बार ऐसा होता है जब हम अपने काम में…

4 hours ago

योग क्यों होता है जरुरी? जानिए अनुलोम विलोम करने के 5 चमत्कारी फायदे

अनुलोम विलोम करने से अगर आपके फेफड़ों में किसी तरह की कोई विषैली गैस होती…

4 hours ago

This website uses cookies.