ब्लॉग

मेनोपॉज के दौरान इन लक्षणों का करना पड़ सकता है सामना

Published by
Shilpa Kunwar

जैसा कि हम सब जानते है कि पीरियड्स जब खत्म हो जाते है तो उस स्टेज को मेनोपॉज या हिंदी में रजोनिवृति के नाम से जाना जाता है। आमतौर पर किसी लड़की को 12-15 की उम्र में पीरियड्स होना शुरू होते हैं और ये करीबन 45-50 की उम्र तक चलते हैं। मेनोपॉज का मतलब होता है कि अब आपको कभी पीरियड्स नहीं होंगे और न ही अब आप कभी माँ बन पाएंगी। यह कोई बीमारी नहीं होती बल्कि आप कह सकते हैं की ये महिलाओं में एक तरह का बदलाव होता है, जो उनके शरीर पर प्रभाव डालता है। तो, आइए जानते है मेनोपॉज से जुड़े इन लक्षणों के बारें में जिससे महिलाओं को मेनोपॉज के दौरान जूझने पड़ते हैं। मेनोपॉज के लक्षण (menopause signs hindi)

पढ़िए मीनोपॉज के लक्षण (menopause signs hindi)

भूलने की बीमारी

मेनोपॉज से महिलाओं को भूलने की बीमारी हो सकती है। कुछ महिलाओं में यह डिसऑर्डर शुरुआती समय से तो कुछ में बाद में देखने को मिलता है। हार्मोन के कम होने से छोटी-छोटी बातें भूलने की दिक्कत होती है। यह रूटीन लाइफ को प्रभावित करता है। कॉर्टिसोल एक हार्मोन है जो मेमोरी को बनाए रखने में बहुत हेल्पफूल होता है। कॉर्टिसोल दिमाग के केमिकल को संतुलित रखता है। इसमें उतार-चढ़ाव से असंतुलन होता है जिससे शार्ट टर्म मेमोरी लॉस भी हो सकता है।

थकान होना

शरीर में अचानक से होने वाले बदलाव के कारण आप पूरा दिन थका हुआ महसूस कर सकती हैं। मेनोपॉज के बाद शरीर की एनर्जी काफी कम हो जाती है। इसमें सभी हार्मोन के लेवल जैसे की प्रोजेस्टेरोन, एस्ट्रोजन और थाइरॉइड में तेजी से बदलाव आता है। शरीर के एनर्जी लेवल को नॉर्मल बनाए रखने में ये हार्मोन मदद करते हैं। थकान को दूर करने के लिए जीवनशैली में पॉज़िटीव बदलाव लाना जरुरी है। सभी चीजें समय-समय पर करनी चाहिए साथ ही साथ अपने आहार में न्यूट्रीयंट्स का खास ध्यान भी रखना चाहिए।

हॉट फ्लैश

मेनोपॉज के बाद हॉट फ्लैश की प्रॉब्लम्स हो सकती है। हॉट फ्लैश होने पर शरीर का टेम्परेचर अचानक से बढ़ और घट जाता है। यह किसी बाहरी कारण की वजह से नहीं होता बल्कि मेनोपॉजके बाद विकार के तौर पर होता है। हॉट फ्लैश की समस्या मेनोपॉज के बाद 10 साल तक रह सकती है। इससे गर्दन और माथे में पसीना आता है, तनाव और दिल की धड़कन बहुत तेज हो जाती है। मेनोपॉज के लक्षण में हॉट फ़्लैश के ज़रूरी लक्षण है.

नींद की बीमारी होना

मेनोपॉज के वक्त शरीर की एनर्जी बहुत कम हो जाती है। इसके अलावा शरीर में एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के लेवल में भी उतार-चढ़ाव होने लगता है। इन सभी समस्याओं के कारण हॉट फ्लैश और नींद की बीमारी देखने को मिलती है।

रजोनिवृत्ति के दौरान तीन तरह से नींद पर असर होता है:-

-मेनोपॉज मूड डिसऑर्डर

-स्लीप डिसऑर्डर ब्रीथिंग

-फाइब्रोमाइल्जी

मूड स्विंग होना

हार्मोन के बदलाव का असर दिमागी केमिकल्स को प्रभावित कर इनमें बदलाव, चिंता और डिप्रेशन का कारण बनते हैं। मेनोपॉज के बाद मूड स्विंग की समस्या होती है। सुख में भी अचानक से दुख महसूस होने लगता है। यह मेंटली कमजोर बनाता है। इसमें कारणों का पता नहीं होता है लेकिन इसके बावजूद तनाव और चिंता रहती हैं। इससे बचने के लिए पूरी नींद लेना जरूरी है। जब भी मूड स्विंग हो, लंबी-गहरी सांसे ले और ठंडा पानी पीयें।

स्किन से संबंधित प्रॉब्लम्स

मेनोपॉज के दौरान अक्सर त्वचा से संबंधित समस्याएं देखी जाती है। त्वचा में सूखापन, खुजली की समस्या और लाल चकत्ते बनने लगते हैं। रजोनिवृत्ति के बाद एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल कम होने से इसका असर सीधा त्वचा पर पड़ता है। इससे त्वचा में ऑयल बनना बंद हो जाता है जिससे ड्राई स्किन की शिकायत होती है। ड्राई स्किन की समस्या से बचने के लिए नहाने के बाद अच्छे मॉइस्चराइजर का यूज़ करें। त्वचा को हर समय हाइड्रेटेड रखना जरूरी है। इसके लिए पानी भरपूर पियें।

खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ना

मेनोपॉज के बाद दिल से रिलेटेड डिसऑर्डर हो सकते हैं। शरीर में अच्छा कोलेस्ट्रॉल घटने और खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है। हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। मेनोपॉज के दौरान ऑयली फूड और मीठी चीजे कम से कम खाएं।

हड्डियां कमजोर होना

पुरुषों और महिलाओं दोनों में एस्ट्रोजेन हार्मोन पाया जाता है। यह हड्डियों के डेवलपमेंट के लिए जरूरी होता है। हड्डियां बनाने में ओस्टियोब्लास्ट अहम भूमिका निभाती हैं। मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन हार्मोन में कमी देखने को मिल सकती है। इसका ओस्टियोब्लास्ट कोशिकाएं बुरी तरह से प्रभावित होती हैं जिससे हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। मेनोपॉज के दौरान ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है। ये थे मेनोपॉज के लक्षण (menopause signs hindi)

पढ़िए : जानें मेनोपॉज से जुड़ी ये ज़रूरी बातें

Recent Posts

टोक्यो ओलंपिक: पीवी सिंधु का सामना आज सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की Tai Tzu Ying से होगा

आज के मैच में जो भी जीतेगा उसका सामना आज दोपहर 2:30 बजे चीन के…

9 mins ago

COVID के समय में दोस्ती पर आधारित फिल्म बालकनी बडीज इस दिन होगी रिलीज

एक्टर अनमोल पाराशर और आयशा अहमद के साथ बालकनी बडीज में दिखाई देंगे। इस फिल्म…

17 mins ago

COVID-19 डेल्टा वैरिएंट है चिकनपॉक्स जितना खतरनाक, US की एक रिपोर्ट के मुताबित

यूनाइटेड स्टेट्स के सेंटर फॉर डिजीज कण्ट्रोल की एक स्टडी में ऐसा सामने आया कि…

23 mins ago

किसान मजदूर की बेटी ने CBSE कक्षा 12 के रिजल्ट में लाये पूरे 100 प्रतिशत नंबर, IAS बनकर करना चाहती है देश सेवा

उत्तर प्रदेश के बडेरा गांव की एक मज़दूर वर्कर की बेटी अनुसूया (Ansuiya) ने केंद्रीय…

43 mins ago

गौहर खान का खुलासा, पति ज़ैद दरबार नहीं करते शादी अगर नहीं मानती उनकी ये विश

एक्ट्रेस गौहर खान ने खुलासा किया कि पति जैद दरबार उनकी एक विश पूरी ना…

1 hour ago

कौन है अशनूर कौर ? इस एक्ट्रेस ने लाए 12वी में 94%

अशनूर कौर एक भारतीय एक्ट्रेस और इन्फ्लुएंसर हैं जिनका जन्म 3 मई 2004 में हुआ…

2 hours ago

This website uses cookies.