Support Your Kids: अपने बच्चों को इन 6 बातों पर न करें जज

Support Your Kids: अपने बच्चों को इन 6 बातों पर न करें जज Support Your Kids: अपने बच्चों को इन 6 बातों पर न करें जज

Swati Bundela

27 May 2022

पेरेंटिंग हमारी सोसाइटी में हुकुम चलाने जैसा माना जाता है लेकिन हम इस में अपने बच्चों की बात को सुन्ना भूल जाते हैं। इसके अलावा कई बार इंडियन पेरेंट्स अपने बच्चों को उनके हिसाब से सोचने नहीं देते हैं।  खास तौर पर लड़कियों के मामले में और भी ज्यादा रोक टोक कर रखते हैं।  

बच्चों की अपनी एक पर्सनालिटी होती है और इसलिए उन पर अपनी सोच और राय नहीं थोपनी चाहिए। इससे कई बार वो अपनी बात रखने से चूक जाते हैं। अगर आप आपके बच्चे की बात ध्यान देकर सुनते हैं तो फिर वो आप पर आगे जाकर भरोसा कर पाते है।  

जब आपके बचछे अपने फैसले खुद लेते हैं तब वह मुश्किल समय में खुद पर डिपेंडेंट होते हैं और खुद के निर्णय आसानी से ले पाते हैं। आज हम आपको ऐसी कुछ बातें बताएंगे जो आपका बच्चा अगर आपको कहे तो आपको पूरा सपोर्ट करना चाहिए-

1. मेरा यौन उत्पीड़न किया गया
जब आपका बच्चा अपने साथ हुए गलत काम को खुलकर बताता तो वह बहुत हिम्मत जुटाने के बाद ऐसा बोल पाता है। इसलिए जरुरी हो जाता है कि आप उनकी बात माने और उन्हें सपोर्ट करें।  अगर इतनी सीरियस सिचुएशन में आप उन्हें जज या उन पर शक करते हैं तब वह गलत लोगों का शिकार हो सकते हैं।  

2. मुझे इस करियर में नहीं जाना 
कभी भी अपने बच्चे को ऐसा सब्जेक्ट या करियर चुनने पर मजबूर न करें जो उन्हें पसंद न हो और उन्हें इंटरेस्ट न हो। क्योंकि उस में वह फिर चाह कर भी आगे नहीं बढ़ सकते हैं।  

3. मुझे सेफ नहीं लगता है 
अगर आपका बच्चा आपको कहता है कि उसको किसी भी इंसान के आस पास सुरक्षित मेहसूस नहीं होता है तो उसकी बात माने और फ़ोर्स न करें।  क्योंकि अधिकार सेक्सॉल एब्यूज केसेस में मुजरिम पहचान वाला ही होता है।  

4. मेरी मेन्टल कंडीशन सही नहीं है 
मेन्टल प्रॉब्लम और डिप्रेशन आज कल के यूथ में बहुत कॉमन है और सीरियस भी।  इसलिए जरुरी है कि आप आपके बच्चे पर ध्यान रखें और उनकी परेशानी में सहारा बनें। जिससे वो परेशां होकर कभी कोई गलत कदम न उठाएं और सिंपल लाइफ जी सकें।  

5. मुझे शादी नहीं करनी 
शादी एक ऐसी चीज़ है जिस में जिसकी शादी होनी है उसको छोड़ सभी की बात सुनी जाती है।  जब भी आपका बच्चा आपसे कहे कि शादी के लिए वो तैयार नहीं है या फिर उसे शादी नहीं करनी है तो उसकी बात समझे।  कई बार शादी के चंगुल में फसकर कई बच्चे अपने बना बनाये करियर को खो बैठते हैं।  

6. मेरे सामने न लड़ें 
माँ बाप इस बात को बहुत इग्नोर करते हैं और अक्सर अपने बच्चे के सामने लड़ते हैं।  एक बच्चे पर अपने माँ बाप को लड़ते देखने से बुरा मानसिक प्रभाव पड़ता है जो वह लम्बे समय तक नहीं भूल पाते हैं।  इसलिए अगर बच्चा खुद ऐसा कह रहा है तब इसको जरूर समझें।  

अनुशंसित लेख