राजस्थान में 18 जनवरी, 2021 से स्कूल्स, कॉलेजेस, विश्वविद्यालय और कोचिंग सेंटर्स रीओपन किये जाएँगे। कोरोना महामारी की वजह से प्रदेश में सभी एजुकेशनल इंस्टिट्यूशन्स लगभग 9 महीनों से बन्द पड़े हैं और पढ़ई ऑनलाइन माध्यम से करवाई जा रही है। पंजाब, बिहार, हरियाणा, केरल और मध्य प्रदेश समेत देश के कई अन्य राज्यों ने नये साल की शुरुआत में ही ऑफ़लाइन क्लासेस लगवानी चालू कर दी हैं।

image

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 18 जनवरी, 2021 से एजुकेशनल इंस्टिट्यूशन्स खोलने की घोषणा की। घोषणा से पहले 5 जनवरी को हुई एक मीटिंग में राज्य में कोरोना के हालातों पर नज़र डाली गयी, जिसमें पाया गया कि कोरोना केसेस अब राज्य में घटते क्रम में हैं। इन एजुकेशनल इंस्टिट्यूशन्स में कोविड-19 से जुड़े सभी दिशा निर्देशों का पालन करना अनिवार्य है।

राजस्थान में 18 जनवरी, 2021 से स्कूल्स, कॉलेजेस, विश्वविद्यालय और कोचिंग सेंटर्स रीओपन किये जाएँगे।  इन एजुकेशनल इंस्टिट्यूशन्स में कोविड-19 से जुड़े सभी दिशा निर्देशों का पालन करना अनिवार्य है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घोषणा में ये भी बताया कि राज्य के मेडिकल कॉलेज, डेंटल कॉलेज, नर्सिंग कॉलेज एवं पैरामेडिकल कॉलेज को 11 जनवरी, 2021 से खोलने की अनुमति दे दी गयी है लेकिन इन कॉलेजेस को वैकसिनेशन प्रोसेस का खास ध्यान रखना होगा।

चीफ़ मिनिस्टर ऑफ़िस(CMO) के रिलीज़ के मुताबिक स्कूल्स में क्लासेस 9वीं से 12वीं, कॉलेज और विश्वविद्यालय में फाइनल इयर स्टूडेंट्स, कोचिंग इंस्टिट्यूशन्स और सरकारी ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट्स को ऑफलाइन माध्यम से लगवाया जाएगा। ये फैसला राजस्थान में घटते कोरोना केसेस को देखते हुए लिया गया है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की घोषणा के मुताबिक पहले दिन 50% बच्चों की स्ट्रेंथ रहेगी और दूसरे दिन बाकी के 50% बच्चों की यानी कि सभी बच्चे एक साथ स्कूल नहीं जा सकेंगे।

“हम उन लोगों पर कड़ी निगरानी कर रहे हैं जो ब्रिटेन और दूसरे देशों से ट्रैवल करके आ रहे हैं। उनकी इंटेंसिव स्क्रीनिंग की जाएगी”, मुख्यमंत्री ने म्यूटैंट स्ट्रेन के विषय में कहा।

Email us at connect@shethepeople.tv