Categories: ब्लॉग

जानिये रमा एकादशी का व्रत करने की विधि और उसकी महिमा

Published by
Ayushi Jain

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, हर महीने की 11 वीं तिथि को एकादशी कहा जाता है। एकादशी भगवान विष्णु को समर्पित दिन माना जाता है। एक महीने में दो पखवारे होने के कारण दो एकादशी होती हैं, एक शुक्ल पक्ष और दूसरी कृष्ण पक्ष की। इस प्रकार, एक वर्ष में कम से कम 24 एकादशी हो सकती हैं, लेकिन अधिक मास के मामले में, यह संख्या 26 भी हो सकती है।

व्रत करने की विधि

एकादशी का व्रत तीन दिन की दिनचर्या से संबंधित है। उपवास के एक दिन पहले दोपहर में भोजन लेने के बाद भक्त शाम के भोजन नहीं लेते हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि अगले दिन पेट में कोई बचा हुआ भोजन नहीं है। भक्त एकादशी के उपवास के नियमों का सख्ती से पालन करते हैं और अगले दिन सूरज निकलने के बाद ही व्रत समाप्त होता है। एकादशी व्रत के दौरान सभी प्रकार के अनाज खाने की मनाही होती है।

जो लोग किसी भी कारण से एकादशी का व्रत नहीं रखते हैं, उन्हें एकादशी के दिन भोजन में चावल का उपयोग नहीं करना चाहिए और झूठ और ईश निंदा से बचना चाहिए। जो व्यक्ति एकादशी पर विष्णुसहस्रनाम का पाठ करता है, उसे भगवान विष्णु का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है।

वैष्णव समुदाय के अलग-अलग भक्तों के अनुसार एकादशी व्रत की तिथियां अलग-अलग हो सकती हैं। जानिए इस्कॉन एकादशी कैलेंडर 2020 की तारीखें! इस व्रत को करने  से भगवान विष्णु और माता माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा हम पर बनी रहती है।इस व्रत को करने के मेहतवा शास्त्रों में भी दिया गया है।

व्रत की कथा श्रीपद्म पुराण के अनुसार

प्राचीन समय में मुचुकुंद नाम के एक राजा थे। जिनकी मित्रता देवराज इंद्र, यम, वरुण, कुबेर एवं विभीषण से थी। वह बड़े धार्मिक प्रवृति वाले व  सत्यप्रतिज्ञ थे। उनके राज्य में सभी सुखी थे। उनकी चंद्रभागा नाम की एक पुत्री थी, जिसका विवाह राजा चंद्रसेन के पुत्र शोभन के साथ हुआ था। एक दिन शोभन अपने ससुर  के घर आया तो संयोगवश उस दिन एकादशी थी। शोभन ने एकादशी का व्रत करने का निश्चय किया। चंद्रभागा को यह चिंता हुई कि उसका पति भूख कैसे सहन करेगा? इस विषय में उसके पिता के आदेश बहुत सख्त थे। राज्य में सभी एकादशी का व्रत रखते थे और कोई खाना नहीं खता था।

शोभन ने अपनी पत्नी से कोई ऐसा उपाय जानना चाहा, जिससे उसका व्रत भी पूर्ण हो जाए और उसे कोई कष्ट भी न हो, लेकिन चंद्रभागा उसे ऐसा कोई उपाय न सूझा सकी। ऐसे में परेशान होकर शोभन ने स्वयं को भाग्य के भरोसे छोड़कर व्रत रख लिया। लेकिन वह भूख, प्यास सहन न कर सका और उसकी मृत्यु हो गई। इससे चंद्रभागा बहुत दु:खी हुई। पिता के विरोध के कारण वह सती नहीं हुई। उधर शोभन ने रमा एकादशी व्रत के प्रभाव से मंदराचल पर्वत के शिखर पर एक उत्तम देवनगर प्राप्त किया। वहां ऐश्वर्य के समस्त साधन उपलब्ध थे। गंधर्वगण उसकी स्तुति करते थे और अप्सराएं उसकी सेवा में लगी रहती थीं। एक दिन जब राजा मुचुकुंद मंदराचल पर्वत पर आए तो उन्होंने अपने दामाद का वैभव देखा। वापस अपनी नगरी आकर उसने चंद्रभागा को पूरा हाल सुनाया तो वह अत्यंत प्रसन्न हुई। वह अपने पति के पास चली गई और अपनी भक्ति और रमा एकादशी के प्रभाव से शोभन के साथ सुखपूर्वक रहने लगी।

Recent Posts

Tapsee Pannu & Shahrukh Khan Film: तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान कर रहे साथ में फिल्म “Donkey Flight”

इस फिल्म का नाम है "Donkey Flight" और इस में तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान…

19 hours ago

Raj Kundra Porn Case: शिल्पा शेट्टी के पति ने कहा कि उन्हें “बलि का बकरा” बनाया जा रहा है

पोर्न रैकेट चलाने के मामले में बिज़नेसमैन राज कुंद्रा ने शनिवार को एक अदालत में…

21 hours ago

हैवी पीरियड्स को नज़रअंदाज़ करना पड़ सकता है भारी, जाने क्या हैं इसके खतरे

कई बार महिलाओं में पीरियड्स में हैवी ब्लड फ्लो से काफी सारा खून वेस्ट हो…

21 hours ago

झारखंड के लातेहार जिले में 7 लड़कियां की तालाब में डूबने से मौत, जानिये मामले से जुड़ी ज़रूरी बातें

झारखंड में एक प्रमुख त्योहार कर्मा पूजा के बाद लड़कियां तालाब में विसर्जन के लिए…

21 hours ago

झारखंड: लातेहार जिले में कर्मा पूजा विसर्जन के दौरान 7 लड़कियां तालाब में डूबी

झारखंड के लातेहार जिले के एक गांव में शनिवार को सात लड़कियां तालाब में डूब…

21 hours ago

This website uses cookies.