ब्लॉग

समाज की 5 बातें जो मैं सुनकर थक गयी हूँ

Published by
Sonam

अजीब है समाज, कहने को उनकी उम्मीद है हमसे कि हम नियमों व कायदों का पालन करें पर खुद ही खुद में बदलाव न लाकर संसार के नियम की अवहेलना करते है। यूँ तो हज़ारो रोक टोक है औरत पर लेकिन फिर भी आज की औरतें उन सभी रोक टोक, बेफिजूल की बातें सुनकर अनसुना कर आगे बढ़ रही है मगर 5 बातें ऐसी है जिन्हें सुन सुनकर मै थक चुकी हूँ। समाज की रूढ़िवादी सोच का कारण क्या है ?

1. रिश्तों का ज्यादा न चलने का कारण है औरतों में सहनशक्ति का कम होना:

 जब बॉलीवुड में कोई भी सेलिब्रिटी शादी तोड़ते है या तलाक लेते है तो अक्सर लोगों का व्यवहार महिला सेलिब्रिटी पर ज्यादा होता है क्योंकि लोगों के हिसाब से तलाक का मुख्य कारण औरतो का हद से ज्यादा आजादी मांगना, अपने ढंग से सब करना और बस अपना अपना करना और इसी कारण समाज में जोड़े जल्दी टूटने लगे है। पर सवाल है कि आजादी की हद तय किसने की है? 

2. डबल मोर्चा:

 शादी के बाद जब बेटियां अपने पिता की प्रोपर्टी मे बराबर हिस्सा माँगती है या जब उन्हें दिया जाता है तो लोगों का कहना होता है कि वाह! प्रॉपर्टी का एक हिस्सा मायके में और एक ससुराल में, चांदी ही चांदी है।  ऐसी बातों के कारण अक्सर माता पिता प्रॉपर्टी में मुख्यतः बेटो को ही हिस्सेदार बनाते है। 

3. पति से ज्यादा कमाती है, ज़रूर पति पर हुक्म चलाती होंगी :

औरत को उड़ने की आजादी तो यकीनन मिली है पर कुछ नियम कानूनों के साथ। औरतें काम तो कर रही है पर उनकी ज्यादा इनकम या आय अगर उनके पति या पिता से ज्यादा होती है तो उन्हें दबाने का औरतों पर आरोप लगाया जाता है शायद बिल्कुल वैसे ही जैसे आज तक पितृसत्ता से प्रभावित समाज का एक बड़ा हिस्सा करता आया है, हाँ बस किरदार उलट हुआ करते थे। औरतों का वित्तीय (फाइनेंशियल) तौर पर मजबूत होना अक्सर उनको ना दबा पाने की असमर्थता के तौर पर देखा जाता है। 

4. कितनी भी पढ़ लिख लो, नौकरी कर लो पर आखिर में घर तो तुम्हें ही चलाना है :

समाज और दुनिया विकसित तो हो रहे है पर फिर भी ऐसे बहुत काम है जिनकोे मुख्य तौर पर औरतों के कंधों पर ही ढोया जाता है। औरत भले ही 10 घंटे की नौकरी कर के घर थकी हारी आए पर बच्चो को पढ़ाने की, खाना बनाने की और घर के सारे काम करने की जिम्मेदारी उनका फ़र्ज़  कहकर, उन्ही पे डाली जाती है। 

5. लड़की हो, शादी तो करनी ही पड़ेगी :

ये शब्द अक्सर माँ  ही अपनी बच्ची को उसके अवैवाहिक जीवन के हर क्षण में याद कराती रहती है। हर लड़की को बचपन से ही यह बताया व सिखाया जाता है कि वह पराया धन है, उनको शादी कर दूसरे घर जाना ही है। 

मै मानती हूँ कि बातें चाहे पांच हो या एक, जिन बातों से आपके हित व हक प्रभावित होते है, उन बातों को या तो सुन लो या उनका कोई सटीक जवाब चुन लो ताकि किसी को भी तुम्हे अपने हिसाब से चलने का हक न मिले। 

क्या आप भी समाज की रूढ़िवादी सोच से परेशान हैं ?

Recent Posts

शादी का प्रेशर: 5 बातें जो इंडियन पेरेंट्स को अपनी बेटी से नहीं कहना चाहिए

हमारे देश में शादी का प्रेशर ज़रूरत से ज़्यादा और काफी बार बिना मतलब के…

14 hours ago

तापसी पन्नू फेमिनिस्ट फिल्में: जानिए अभिनेत्री की 6 फेमस फेमिनिस्ट फिल्में

अभिनेत्री तापसी पन्नू ने बहुत ही कम समय में इंडियन एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में अपनी अलग…

14 hours ago

क्यों है सिंधु गंगाधरन महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन? जानिए ये 11 कारण

अपने 20 साल के लम्बे करियर में सिंधु गंगाधरन ने सोसाइटी की हर नॉर्म को…

15 hours ago

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

17 hours ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को…

17 hours ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

19 hours ago

This website uses cookies.