Navratri 2022: जानिए कब से शुरू हो रही शारदीय नवरात्रि, पूजा मुहूर्त और महत्त्व

Navratri 2022: जानिए कब से शुरू हो रही शारदीय नवरात्रि, पूजा मुहूर्त और महत्त्व Navratri 2022: जानिए कब से शुरू हो रही शारदीय नवरात्रि, पूजा मुहूर्त और महत्त्व

Vaishali Garg

12 Sep 2022

Shardiya Navratri 2022: हिंदुओं के शुभ त्योहारों में से एक के रूप में, नवरात्रि को अत्यंत श्रद्धा के साथ मनाया जाता है और यह प्राचीन काल के सबसे पुराने त्योहारों में से एक है। यह भारत और दुनिया के अन्य हिस्सों में लगातार नौ दिनों और रातों में व्यापक रूप से मनाया जाता है। हालाँकि, नवरात्रि पूरे भारत में अलग-अलग महत्व रखती है और चंद्र कैलेंडर का अनुसरण करती है, यही वजह है कि इसे मार्च - अप्रैल में चैत्र नवरात्रि और सितंबर - अक्टूबर में शरद नवरात्रि के रूप में मनाया जाता है।

Shardiya Navratri 2022: कब से शुरू हो रही है शरद नवरात्रि

इस साल, शरद नवरात्रि 26 सितंबर 2022 से शुरू हो रही है और विजयादशमी 5 अक्टूबर 2022 को पड़ रही है।

Shardiya Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि 2022 कलश शुभ मुहूर्त

26 सितम्बर 2022-  सुबह 06 बजकर 11 मिनट से 07 बजकर 51 मिनट तक 1 घंटे 40 मिनट

Shardiya Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि के 9 दिन

26 सितंबर 2022 
नवरात्रि दिन 1 प्रतिपदा    
माँ शैलपुत्री पूजा घटस्थापना

27 सितंबर 2022   
नवरात्रि दिन 2 द्वितीया    
माँ ब्रह्मचारिणी पूजा

28 सितंबर 2022   
नवरात्रि दिन 3 तृतीया    
माँ चंद्रघंटा पूजा

29 सितंबर 2022  
नवरात्रि दिन 4 चतुर्थी    
माँ कुष्मांडा पूजा

30 सितंबर 2022   
नवरात्रि दिन 5 पंचमी   
माँ स्कंदमाता पूजा

01 अक्तूबर 2022  
नवरात्रि दिन 6 षष्ठी    
माँ कात्यायनी पूजा

02 अक्तूबर 2022  
नवरात्रि दिन 7 सप्तमी    
माँ कालरात्रि पूजा

03 अक्तूबर 2022   
नवरात्रि दिन 8 अष्टमी   
माँ महागौरी दुर्गा महा अष्टमी पूजा

04 अक्तूबर 2022 
नवरात्रि दिन 9 नवमी     
माँ सिद्धिदात्री दुर्गा महा नवमी पूजा

05 अक्तूबर 2022 
नवरात्रि दिन 10 दशमी     
नवरात्रि दुर्गा विसर्जन, विजय दशमी

Shardiya Navratri 2022: क्या विश्वास है शरद नवरात्रि के पीछे?

शरद नवरात्रि को हिंदू धर्म के सबसे दिव्य और शक्तिशाली त्योहारों में से एक माना जाता है और ऐसा माना जाता है की देवी दुर्गा नवरात्रि के पहले दिन पृथ्वी पर उतरती हैं और नौ दिनों तक अपने भक्तों के साथ रहती हैं। भक्तों के साथ देवता के ठहरने की तुलना उनके पैतृक घर की छोटी यात्रा से भी की जाती है और इसलिए उसे सभी प्यार, देखभाल और दिव्यता के साथ रखा जाता है।

जहां तक ​​त्योहार के इतिहास का सवाल है तो ऐसा माना जाता है कि देवी दुर्गा ने सबसे शक्तिशाली और पराक्रमी असुरों के साथ युद्ध किया और उन्हें अपने वीरता से हराया। माना जाता है कि यह लड़ाई दस दिनों तक जारी रही थी और प्रत्येक दिन देवी दुर्गा ने असुरों को मारने के लिए अलग-अलग चेहरे धारण किए थे।

अनुशंसित लेख