Sex And Porn :पॉर्न में सेक्स के दौरान अक्वार्डनेस को भी दिखाना चाहिए?

Vaishali Garg
11 Aug 2022
Sex And Porn :पॉर्न में सेक्स के दौरान अक्वार्डनेस को भी दिखाना चाहिए?

सेक्स रोमांचक है। लेकिन यह अटपटा भी है। यह एक-दूसरे को नग्न देखने और एक-दूसरे को इस तरह से छूने के बारे में है, जिसने शायद हमें अतीत में परेशान कर दिया हो। कई बार अजीबोगरीब पल आते हैं जब पार्टनर रियल लाइफ में सेक्स करते हैं। उदाहरण के लिए सामान्य रूप से वजाइनल फार्ट, रॉन्ग पोजिशन, एक विशेष स्थिति का गलत होना, वजाइना का टाईट होना, फोरप्ले की कमी, आनंद की कमी या जरूरतों को कम्युनिकेट करने में विफलता।

सेक्स के दौरान अक्वार्डनेस: आइए इसके बारे में बात करते हैं

लेकिन सेक्स के दौरान इन अजीब पलों के बारे में कोई बात नहीं करता, न बॉलीवुड फिल्मों में और न ही पोर्न में। ये फिल्में सेक्स की एक सहज प्रक्रिया होने की झूठी उम्मीदें स्थापित करती हैं जो व्यवस्थित रूप से होती है। पॉर्न सेक्स के सुनिश्चित उत्साह, ऑटोमेशन और पूर्णता के सही कॉम्बिनेशन को दर्शाता है। लेकिन यह उस हिस्से को छोड़ देता जहां कपल्स करने में हिचकिचाते हैं और एक-दूसरे को खुश करने के लिए संघर्ष करते हैं और साथी से वांछित प्रतिक्रिया प्राप्त करने में असफल होते हैं।

सेक्स के दौरान अक्वार्डनेस ही इसे वास्तविक बनाती है। पहल कौन करेगा? क्या मैं यह ठीक कर रहा हूँ? क्या मुझे इस पोजीशन को आजमाना चाहिए या पार्टनर नाराज हो जाएगा? मुझे नहीं पता कि यह कैसे काम करता है, क्या आप कृपया समझा सकते हैं? सेक्स के दौरान इस ऑलवर्डनेस को कम्युनिकेट करना एक दो-तरफा प्रक्रिया है जो भागीदारों को बेहतर बंधन में मदद करती है और पॉर्न की तरह रोमांचक हो सकती है।

पॉर्न द्वारा निर्धारित परफेक्शन की झूठी उम्मीदें एक व्यक्ति को सेक्स से रोक सकती हैं, क्योंकि यह उनकी अपेक्षाओं को पूरा नहीं कर सकता है। यही कारण है कि, हमें अपने स्वयं के सेक्सुअल हैल्थ की खातिर, पॉर्न में सेक्स के अधिक वास्तविक चित्रण की मांग करने की आवश्यकता है। सेक्स एक मूलभूत आवश्यकता है जिसका अनुभव सभी करते हैं। हम सेक्स से जो चाहते हैं वह अलग हो सकता है, लेकिन एक बात निश्चित है, इन उम्मीदों को बेहतर आकार दिया जा सकता है यदि पॉर्न फिल्में इसे नकली न होने दें तब।

यह आर्टिकल रुद्राणी गुप्ता के आर्टिकल से इंस्पायर्ड है।

अनुशंसित लेख