Pets And Children: पालतू जानवर लाने से पहले 6 बातों का ध्यान रखें

Pets And Children: पालतू जानवर लाने से पहले 6 बातों का ध्यान रखें Pets And Children: पालतू जानवर लाने से पहले 6 बातों का ध्यान रखें

Monika Pundir

20 Jul 2022

जब बच्चे छोटे होते हैं तो माता-पिता आमतौर पर परिवार में पेट्स(पालतू जानवरों) को शामिल करने से हिचकते हैं। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि पालतू जानवर मज़ेदार होते हैं, और ऐसे कई रिसर्च हैं जो इस बात पर प्रकाश डालते हैं कि पालतू जानवर कैसे एक बच्चे के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं, पर पालतू जानवर को घर लाने से पहले कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए। 

घर में पालतू जानवर लाने से पहले 6 बातों का ध्यान रखें:

1. होमवर्क करें

इस बारे में बहुत पढ़ें कि अन्य पेट-पेरेंट्स जिनके घर में बच्चा है उनका क्या कहना है। पेट्स के पालन-पोषण के बारे में वीडियो देखें और पता लगाइये की सोशल मीडिया के क्यूट मोमेंट्स के इलावा और क्या होता है। माता-पिता होने के नाते, अपने बच्चे को पेट्स के बारे में सीखाने की जिम्मेदारी आप पर आती है। उनके साथ बात करें और उन्हें पेट्स को गोद लेने के साथ आने वाली नई जिम्मेदारियों के बारे में समझाएं। अधिकांश बच्चे यह सुनकर बहुत खुश होते हैं कि उन्हें एक पालतू जानवर मिलेगा, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि आप उन्हें समझाएं कि पालतू जानवर को पालने के लिए बहुत धैर्य और दया की आवश्यकता होगी। एक अच्छा विचार यह है कि आप अपने बच्चे को किसी एनिमल शेलटर या किसी मित्र के घर ले जाएं और जानवरों के आसपास उनके व्यवहार का आकलन करें।

2. योजना बनाए 

कुत्तों और बिल्लियों जैसे पेट्स और बच्चों के बीच पूर्व जुड़ाव सुनिश्चित करना एक अच्छा विचार है। आपका बच्चा पेट के आस-पास जितना सहज होगा, उसकी देखभाल करने में उसके भाग लेने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। योजना के हिस्से के रूप में, आपके लिए यह चर्चा करना महत्वपूर्ण है कि जानवर कैसे संवाद करते हैं। उन्हें पालतू जानवर की दिनचर्या के बारे में समझाएं, उदाहरण के लिए भोजन का समय, चलने का समय, खेलने का समय। उन्हें यह भी सिखाएं कि पेट्स खुद सफाई नहीं कर सकते, इसलिए उस काम को करने की जिम्मेदारी परिवार पर जाती है। अच्छा होगा कि सब कुछ विस्तार से समझाएं और फिर उन्हें इनमें से एक या अधिक जिम्मेदारियों को चुनने के लिए कहें।

3. जानवर की शारीरिक भाषा को समझें

माता-पिता के नाते, और एक जानवर माता-पिता के नाते, यह आपकी ज़िम्मेदारी है कि आप उस जानवर की शारीरिक भाषा के बारे में अपनी पढ़ाई करें। जरूरत पड़ने पर किसी प्रोफेशनल की मदद लें। लेकिन एक बार जब आप इस पहलू को समझ लेते हैं, तो आपको अपने बच्चे के साथ बैठना होगा और उन्हें सिखाना होगा कि शरीर की भाषा के विभिन्न संकेतों की पहचान कैसे करें। वीडियो, इन्फोग्राफिक्स और तस्वीरों के रूप में ऑनलाइन पर्याप्त सामग्री उपलब्ध है जो आपको यह समझने में मदद करती है कि जानवर खुद को कैसे व्यक्त करते हैं। 

हर जानवर की भाषा अलग होती है, इसलिए यह न सोचे की कुत्ते के बारे में आपको जो पता है, बिल्ली पर वह लागू होगी। 

4. याद रखें पेट्स में भी भावनाएँ होती हैं

जब आप जानवर संचार पर चर्चा कर रहे हैं, तो इस बात को उजागर करना आवश्यक है कि जानवरों में भी भावनाएँ होती हैं। जबकि वे मनुष्यों से भिन्न हो सकते हैं, जानवर दुखी हो सकते हैं या आहत भी हो सकते हैं, और इसके प्रति बच्चों को संवेदनशील बनाना महत्वपूर्ण है। अपने बच्चे कोयह ज़रूर समझाए की अगर जानवर गुस्सा या आहत होने के भाव दिखा रहा है तो उस कार्य को बंद कर देना चाहिए। अगर बच्चा ज़्यादा छोटा है तो आप उसे कह सकते हैं की वे आपको बुलाए।

5. सही पेट चुनें

जब आप पालतू जानवर को अपनाने का निर्णय लेते हैं, तो आपको उसे लेन का माध्यम भी चुनना होगा। जबकि पालतू जानवरों को पाने के कई तरीके हैं, गोद लेनाएक नेक कार्य होता है। जानवर को गोद लेना एक जीवन बचाने का एक मौका है, यह दयालुता का एक कार्य भी है जिसमें आप चाहते हैं कि आपका बच्चा भाग ले। कई परिवार पहले जानवर को फोस्टर करते हैं यह देखने के लिए कि क्या उनका बच्चा वास्तव में जिम्मेदारी संभालता है, जिस पर उन्होंने शुरू में सहमति व्यक्त की है। इसके अलावा, यह आपको घर पर अपने सेटअप के साथ पालतू जानवर के आराम के स्तर की समझ भी देगा। 

6. दयालुता और समझ

आपको अपने बच्चे के साथ दयालुता के बारे में बात करनी चाहिए। आपके लिए उन्हें यह समझाना महत्वपूर्ण है कि उन्हें पालतू जानवर के प्रति दया दिखाने की आवश्यकता क्यों है। जबकि अधिकांश बच्चे दयालु होते हैं, उन्हें कभी-कभी पालतू जानवरों के साथ संवाद करना मुश्किल हो सकता है, खासकर अगर वे उनके आसपास नहीं रहे हों। इसलिए दयालुता पर जोर देना और उन्हें यह समझाना महत्वपूर्ण है कि एक पालतू जानवर जीवन भर के लिए एक पालतू जानवर है।

एक पालतू जानवर आपके बच्चे को धैर्य, दया, करुणा और जिम्मेदारियों का मूल्य सिखाते हैं। आपके बच्चे पालतू जानवर से बातचीत करने और उसे समझने का अपना तरीका खोज लेंगे लेकिन जब तक वे ऐसा नहीं करते, यह आपकी जिम्मेदारी है कि आप अनुशासन और संचार के स्पष्ट साधन सुनिश्चित करें। तब तक पेट न लाए जब तक आप विश्वास नहीं करते की आपका परिवार ज़िम्मेदारी को संभाल सकता है।

यह ब्लॉग साक्षी बावा के इंग्लिश में पोस्ट की गई ब्लॉग से जानकारी लेता है। साक्षी ‘बावा मठ ऑफ़ कोर्स’ की संस्थापक हैं। 

अनुशंसित लेख