Marriage: प्यार या परिवार, एक सवाल जो हर महिला के सामने आती है

Marriage: प्यार या परिवार, एक सवाल जो हर महिला के सामने आती है Marriage: प्यार या परिवार, एक सवाल जो हर महिला के सामने आती है

Monika Pundir

04 Jun 2022

भारतीय समाज अधिकांश पैट्रीअर्कल है, और महिलाओं के लिए भी फैसले उनके जीवन के पुरुष लिया करते हैं। सालों से किसी लड़की के शादी का फैसला उनके पिता लेते आए हैं। दुर्भाग्य की बात यह है की जब पिता या परिवार शादी के फैसले लेता है, तो वे प्यार से ज़्यादा, पैसा, जाती, धर्म और ऐसे बेकार के चीज़ो को ज़्यादा मायने देते हैं।

कई महिलाएं उच्च शिक्षा के लिए या तनख्वाह पाने के लिए अपने घरों से बाहर निकल रही हैं। इससे उन्हें अपनी शर्तों पर जीने का मौका मिलता है। हालाँकि, एक ऐसी रेखा है जिसे उनसे पार नहीं करने की उम्मीद की जाती है। जब शादी की बात आती है, तो उन्हें अपने माता-पिता की इच्छाओं का पालन करना चाहिए। ध्यान रहे, कई भारतीय परिवारों में पैट्रिआर्की न केवल यह तय करती है कि बेटी की शादी कब करनी है बल्कि यह भी कि किससे

लेकिन क्या प्यार कभी सामाजिक मर्यादाओं का पालन करता है? क्या होता है जब एक महिला को किसी और में प्यार और साथ मिल जाता है? क्या होगा अगर उसके पिता किसी और दूल्हे से शादी करना चाहते हैं? एक महिला को इस विकल्प का सामना क्यों करना पड़ता है? भारतीय पिता अपनी बेटियों पर भरोसा क्यों नहीं कर सकते और स्वीकार नहीं कर सकते कि उन्हें पता है कि उनके लिए क्या अच्छा है?

प्यार या सम्मान के लिए शादी?

पापा की पसंद या मेरे जीवन का प्यार- यह निश्चित रूप से एक सवाल है जो एक युवा महिला अपने जीवन में कम से कम एक बार खुद से पूछती है - कभी-कभी बहुत पहले उसे इस विकल्प का सामना भी करना पड़ता है। एक ऐसे देश में जो अपने सभी नागरिकों को समान अधिकार प्रदान करता है, क्या एक महिला उस व्यक्ति को भी नहीं चुन सकती है जिसके साथ उन्हें अपना जीवन बिताना चाहिए? एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में 74 साल, लेकिन क्या इस देश की महिलाएं वास्तव में स्वतंत्र हैं?

भारतीय महिलाओं में प्यार के लिए शादी नहीं करने की हिम्मत?

2004-2005 और 2011-2012 में यूनिवर्सिटी ऑफ़ मैरीलैंड और नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च द्वारा किए गए एक सर्वे में दावा किया गया कि केवल 4.99 प्रतिशत भारतीय महिलाएं ही अपने स्वयं के साथी चुनने की शक्ति रखती हैं। हालांकि यह 2022 है, कोई भी इस अनुपात को दोगुना बढ़ाने के लिए स्वीकार भी नहीं कर सकता है। जब प्यार, शादी और घर में पैट्रिआर्की से निपटने की बात आती है तो आप चॉइस की कमी और त्याग पर महिलाओं से कई कहानियां सुनेंगे।

ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने प्यार को चुनने की हिम्मत की कीमत चुकाई। पिछले साल नवंबर में, भोपाल शहर के एक पिता ने अलेजिड्ली अपनी बेटी का रेप किया और उसका गला घोंटकर हत्या कर दी क्योंकि उसने इंटर कास्ट विवाह किया था। 2020 में, एक 18 वर्षीय लड़की को उसके प्रेमी के घर पर मिलने के बाद उसके पिता ने उसकी हत्या कर दी थी। ऐसी कई घटनाएं हमें याद दिलाने के लिए हैं कि जब महिलाएं पिता के सम्मान की धारणा को छोड़ प्यार को चुनती हैं, साथ ही अपने जीवन पर उनके अधिकार पर सवाल उठाती हैं, तो परिणाम दुखद होते हैं।

किसी भी महिला को प्यार के विचार को छोड़ना नहीं चाहिए या कम के लिए एडजस्ट नहीं करना चाहिए, सिर्फ इसलिए कि उसके पिता चाहते हैं कि वह उस पुरुष से शादी करे जिसे वह पसंद करते है। लेकिन दुख की बात है कि हम उस दिन से बहुत दूर हैं जब किसी भी महिला को अपनी मर्जी के खिलाफ शादी करने के लिए बाध्य या दबाव महसूस नहीं करना पड़ेगा।

अनुशंसित लेख