त्रिफला और त्रिफला चूरन तीन फायदेमंद फ्रूट्स को मिलाकर बनता है , जिनका इस्तेमाल बहुत पुराने समय में भी आयुर्वेदिक दवाईयों को बनाने में किया जाता था। त्रिफला संस्कृत भाषा का शब्द है जिसका अर्थ “तीन फल ” है । त्रिफला को बनाने वाले तीनों फलों के अपने अपने हेल्थ बेनिफिट्स है पर तीनों को मिलाकर त्रिफला बनाने के बाद, ये सभी फायदे मिलकर शरीर को बहुत हैल्दी प्रभाव देते है । triphala ke fayde जानकार आप हैरान हो जायेंग। रिसर्च के अनुसार , त्रिफला में gallic acid का कंपाउंड पाया जाता है। यह एक पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट है जो सेहत के लिए लाभदायक है

image

त्रिफला को बनाने वाले तीन फल हैं

  • आंवला (embilica officinalis ) ,जिसे indian gooseberry भी कहा जाता हैं ।
  • बिभीतकी (Terminalia Bellirica) , इस फ्रूट को विभिदाका के नाम से भी जाना जाता है ।
  • हरीतकी (Terminalia Chebula), ये फल अखरोट की तरह दिखता है ।

आइये जाने triphala ke fayde

बेहतर पाचन

त्रिफला का इस्तेमाल काफी पुराने समय से आयुर्वेदा में होता आ रहा है क्यूंकि त्रिफला को digestive tonic माना जाता है और इसे लेने से आपके शरीर का gastrointestinal system साफ़ रहता है । त्रिफला आपके digestive system को टॉक्सिन्स(toxins ) से बचाने में मदद करता है । जिन लोगों को अक्सर कब्ज की दिक्कत रहती है , उन्हें रोजाना जरूर त्रिफला चूरन लेना चाहिए क्यूंकि त्रिफला हमारे शरीर को हाइड्रेट रखता है और आपको कब्ज की दिक्कत से राहत देता है । इससे आपके शरीर का mascular function स्ट्रांग रहता है और intestinal walls के कॉन्ट्रैक्शंस (contractions ) का रिस्क भी कम हो जाता है ।

वज़न घटाने में सहायक

triphala ke fayde में से एक है वज़न घटाने में सहायता . वज़न घटाने के लिए त्रिफला को एक नेचुरल नुस्खा माना गया है क्यूंकि हमारे digestive system पर त्रिफला के कई सकारात्मक प्रभाव दिखाई देते है । त्रिफला आपके शरीर से टॉक्सिन्स को हटाता है और आपके intestine lining को nourish करता है । वज़न घटाने के लिए सबसे जरूरी आपके शरीर से टॉक्सिन्स को हटाना है तांकि आपका अनवांटेड वज़न घटाया जा सकें ।

त्रिफला के कंसम्पशन से हमारे शरीर को नुट्रिएंट्स मिलते है और नुट्रिएंट्स के कारण हमें बार बार भूख नहीं लगती। न ही हम ओवरईटिंग करते है , इसीलिए हम सभी को त्रिफला के साथ साथ सभी वो चीज़ें खानी चाहिए जिनसे हमारे शरीर को नुट्रिएंट्स और मिनरल्स मिलते रहे और इन नेचुरल चीज़ों के कंसम्पशन से हम सभी फिट तो रहेंगे और इसके साथ साथ हमें कोई केमिकल रिएक्शन भी नहीं होगा जो की अक्सर जिम के प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करने से होता है ।

डेंटल प्रोब्लेम्स और कैविटीज़ से बचाव

त्रिफले की anti-inflammatory और antimicrobial properties हमें कैविटीज़ और फंगल इन्फेक्शन्स से बचाती है । ईरान की रिसर्च के अनुसार , त्रिफला के माउथवाश से माइक्रोबियल ग्रोथ और डेंटल प्लेग फार्मेशन रुक जाती है । ऐसा माना गया है की त्रिफला कई प्रकार की फंगल इन्फेक्शन्स की ग्रोथ को आसानी से रोक पाता है ।

टाइप 2 डायबिटीज से बचाव

त्रिफला की hypoglycemic properties सेल्स को इन्सुलिन absorb में मदद करती है । त्रिफला लेने से शुगर के मरीजों का ब्लड ग्लूकोस लेवल कम हो जाता है । International Journal of Ayurvedic Medicine के दौरान , त्रिफला ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करते हुए , “glucose homeostasis ” में भी सुधार करता है । त्रिफला को बनाने में आवँला का इस्तेमाल भी किया जाता है और आंवले की antidiabetic प्रॉपर्टीज, डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद करती हैं ।

स्किन हेल्थ में सुधार

स्किन को डार्कनिंग ,डैमेज और उम्र बढ़ने के बदलावों से बचाने के लिए, आप सभी को रोजाना सही मात्रा में त्रिफला का कंसम्पशन करना चाहिए । इसकी एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज स्किन को हर तरह की दिक्कत से स्वस्थ कर देती है । SGT यूनिवर्सिटी की रिसर्च के अनुसार , त्रिफला कोलेजन फार्मेशन को बढाने में मदद करता है और इसके एंटी बैक्टीरियल इफ़ेक्ट स्किन को रिकवर करने में मदद करते है ।

त्रिफला का एंटी ऑक्सीडेंट कंपाउंड स्किन के एक्ने बैक्टीरिया को ख़त्म कर देता है जिससे आपकी स्किन मुलायम और क्लियर हो जाती है ।
अगर आपको डार्क सर्कल्स की दिक्कत है तो आपको कुछ महीने तक त्रिफला के पानी से अपनी आँखों को धोना चाहिए । अब आप सोच रहें होंगे की त्रिफला का पानी कहाँ से मिलेगा ? आपको त्रिफला पाउडर को पानी में मिलाकर अपनी आँखों को उसी पानी से हल्का हल्का रगड़कर धोना है । ऐसा करने से आपकी ऑंखें रिफ्रेश हो जाएँगी और डार्क सर्कल्स के दाग भी धीरे धीरे चले जायेंगें ।

हेयर ग्रोथ और डैंड्रफ ट्रीटमेंट

ये आपके बालों के मॉइस्चर को लॉक करता है और उन्हें “alopecia ” से बचाता है । आपको त्रिफला को एक टॉनिक की तरह पानी में मिलाकर पीनां चाहिए या फिर आप सीधा त्रिफला के पानी को अपने बालों में तेल की तरह भी लगा सकतें है , जिससे आपके बालों की ग्रोथ बढ़ेगी । त्रिफला की एंटी फंगल प्रॉपर्टीज , डैंड्रफ को ट्रीट करने में बहुत मदद करती है ।

चिंता और तनाव से राहत

इसकी de-stressing properties , आजकल की जिंदगी में बढ़ते तनाव को कम करने में मदद करती है , जिसके कंसम्पशन से आप anxiety disorders के रिस्क को कम कर सकतें है । हमें अपने शरीर में नुट्रिएंट्स का ख़ास ख्याल रखना चाहिए , क्यूंकि आजकल अक्सर बीमारियां उनकी कमीं के कारण ही होती है और त्रिफला जैसे और प्रोडक्ट्स के कंसम्पशन से आप कई तरह की बिमारियों से बच सकतें है  तो ये थे कुछ triphala ke fayde जो आपको पता होने चाहिए

और पढ़िए : डिप्रेशन के सात लक्षण जिन्हें आपको अनदेखा नहीं करना चाहिए

 

 

Email us at connect@shethepeople.tv