वजाइनल इन्फेक्शन कई प्रकार के होते हैं जिसमें से एक है वेजाइनल यीस्ट इनफेक्शन। इसे कैंडीडायसिस भी कहते हैं। वजाइना में बैक्टीरिया और यीस्ट का बैलेंस बिगड़ने से वजाइनल यीस्ट इंफेक्शन हो सकता है। तो आइए जानते हैं वजाइनल यीस्ट इंफेक्शन के बारे में जरूरी बातें

वजाइनल यीस्ट इंफेक्शन के लक्षण

  • वजाइना में खुजली
  • वजाइना के आसपास सूजन
  • पेशाब और सेक्स के दौरान दर्द या जलन
  • सोरनेस
  • रेडनेस
  • रैशेज होना

वजाइनल यीस्ट इंफेक्शन के कारण

आमतौर पर वजाइनल एरिया में कैंडिडा नाम की एक फंगस के जमा होने से यह इंफेक्शन हो सकता है लेक्टोबेसिल बैक्टेरिया इसकी ग्रोथ पर नजर रखता है।

कभी-कभी वजाइनल सिस्टम में इसके एम बैलेंस के कारण बैक्टेरिया ढंग से काम नहीं कर पाता है जिसकी वजह से बजाना नहीं इंफेक्शन हो जाता है।

वजाइनल इंफेक्शन के अन्य कारण –

  • वजाइना लैक्टोबेसिल की कमी करने वाली एंटीबायोटिक
  • प्रेगनेंसी
  • डायबिटीज
  • कमजोर इम्यून सिस्टम
  • ज्यादा मीठा खाने की आदत है
  • हार्मोनल इंबैलेंस
  • स्ट्रेस और नींद की कमी

 इंफेक्शन को घर पर कैसे सही करें

ऐसे तो वेजाइनल यीस्ट इनफेक्शन को सही करने के लिए काफी सारी दवाइयाँ आती हैं लेकिन अगर आपके लक्षण हल्के और माइल्ड हैं तो आप घर पर ही इनका इलाज कर सकते हैं।

  • नारियल का तेल इस्तेमाल करके
  • टी ट्री ऑयल क्रीम का इस्तेमाल करने से भी सही हो सकता है।
  • गार्लिक यानी कि लहसुन का इस्तेमाल
  • प्लेन योगर्ट का इस्तेमाल करके

हमेशा ध्यान रहे की वजाइना पर क्रीम या फिर कुछ भी लगाने से पहले अपने हाथों को अच्छे से साफ कर ले।

कोशिश करें कि इन होम रेमेडीज को इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लें ताकि आपको उससे एलर्जी या फिर रिएक्शन के बारे में पहले ही पता चल जाए।

वेजाइनल यीस्ट इनफेक्शन की दवाइयों के लिए भी आप अपने डॉक्टर से सलाह लें।

यह सार्वजनिक रूप से एकत्रित जानकारी है। यदि आपको किसी विशिष्ट सलाह की आवश्यकता है तो कृपया डॉक्टर से परामर्श करें – disclaimer

Email us at connect@shethepeople.tv