What Is Postpartum Depression? कैसे करें हैंडल?

Swati Bundela
24 May 2022
What Is Postpartum Depression? कैसे करें हैंडल?

What Is Postpartum Depression? जन्म देना तनावपूर्ण है। लेबर के दौरान, साइकोलॉजिकल स्ट्रेस से जुड़े हार्मोन- एपिनेफ्रीन और कोर्टिसोल- में 500% बढ़ जाते हैं। डिलीवरी के बाद, महिलाओं को कई तरह के शारीरिक तनावों का अनुभव हो सकता है, जैसे कि पेरिनेल दर्द, फटे टिशू, पीठ दर्द आदि। लेकिन कई माता-पिता के लिए, सबसे तीव्र तनाव मनोवैज्ञानिक है।

नए माता पिता को इन समस्याओं से जूजना पढ़ सकता है-
1.कम  नींद
2. बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में चिंता
3. गर्भावस्था के बाद के शरीर और रूप के बारे में चिंता
4. बच्चे या पेरेंटहुड  के बारे में बुरे विचार आने पर गिल्ट
5. बच्चे के परवरिश के मिए आर्थिक चिंता

उदासी, चिंता और बुरे मिजाज की भावना डिलीवरी के बाद कॉमन है, और “बेबी ब्लूज” के नाम से भी जाना जाता है। लक्षण आमतौर पर पहले 10 दिनों के भीतर शुरू होते हैं और बच्चे के जन्म के बाद प्रोजेस्टेरोन के स्तर में अचानक कमी से शुरू हो सकता है।

1. मदद प्राप्त करें
जब माता-पिता को अच्छा परिवार की मदद मिलता है उन्हें  कम परेशानी होती है तो वे चीजों को बेहतर तरीके से संभालते हैं। अंग्रेजी में कहावत है की “इट टैक्स अ विलेज” यानि बच्चो की परवरिश के लिए पूरे गाँव/समाज  की मदद लगती है

2. नींद पूरी करने की कोशिश करें
नए माता-पिता तनाव में होते हैं क्योंकि वे पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं। लेकिन यह सिर्फ खोए हुए घंटों का सवाल नहीं है। नवजात शिशु के सोने के अजीब समय माता-पिता की बॉडी क्लॉक को बिगड़ देता है। यह इंसोम्निया और पोस्ट परचम डिप्रेशन का कारण बनता है।

3. अनरियलिस्टिक उम्मीदों को छोड़ दें

नई माताएं खुद को अनरियलिस्टिक उमीदे दे सकती हैं - केवल खुशी और निस्वार्थ महसूस करने की उम्मीद, अपने बच्चों के जन्म के बाद प्यार से पोषण करना। जब जन्म के बाद की स्थिति एक्सपेक्टेशन पे कड़ी नहीं होता है, तो माताएं निराश महसूस कर सकती हैं।

यदि आप अनरियलिस्टिक उम्मीदों के शिकार हैं, तो वास्तविकता की जांच करें। नवजात शिशु की देखभाल अक्सर थका देने वाला, तनावपूर्ण, गंदा काम होता है। थकान महसूस करना गिल्ट की बात नहीं। माँ बनने से आप इंसान होना बंद नहीं करते, और इंसान को थकान होती है।

4. समझें कि कुछ नवजात शिशुओं की देखभाल करना अधिक कठिन होता है
नवजात शिशुओं का स्वभाव अलग-अलग होता है। कुछ अच्छे स्लीपर हैं और उन्हें शांत करना आसान है। कुछ बहुत उधम मचाते या "हाई नीड्स" वाले बच्चे होते हैं जिन्हें निरंतर ध्यान देने की आवश्यकता होती है। और कुछ अत्यधिक रोते हैं।

स्पष्ट रूप से, "हाई नीड्स" वाले बच्चे अधिक काम कराने वाले होते हैं। यदि आपका शिशु दूध पिलाने, शांत करने और उसे पकड़ने के आपके प्रयासों के बावजूद लगातार रोता है, तो आपके लिए कठिन समय होगा। लेकिन लगातार रोने के बारे में अधिक जानने से आपको इससे निपटने में मदद मिल सकती है।

5. कुछ समय अकेला बिताये

नई माँओ के मन में अकेले रहने का ख्याल आता है। वॉशरूम जाना भी उनके लिए कठिन होता है। वे अपना काम जल्दी ख़तम कर अपने बचे के पास लौटना चाहते हैं, पर यह ठीक नहीं। कम से कम हफ्ते में एक बार बचे को किसी और के साथ छोड़ कर अपने आप के साथ समय बिताना चाहिए। आप दोस्तों से बाटे कर सक्ते हैं या मसाज ले सके हैं या किताब पढ़ सकते हैं। कुछ भी जो आपको खुश करता है।

Read The Next Article