Signs Of Relationship Anxiety: क्या आपके रिश्ते में है अनबन? यह रही टिप्स

Signs Of Relationship Anxiety: क्या आपके रिश्ते में है अनबन? यह रही टिप्स Signs Of Relationship Anxiety: क्या आपके रिश्ते में है अनबन? यह रही टिप्स

Sanjana

12 Aug 2022

रिलेशनशिप एंजाइटी क्या है? 

एक रिलेशनशिप में दो लोग एक दूसरे से अपनी सारी बातें शेयर करते हैं। वे एक दूसरे पर भरोसा करते हैं और कंफर्टेबल महसूस कराने के लिए स्पेस भी देते हैं। आप अपनी रिलेशनशिप को हर तरह से परफेक्ट बनाने की कोशिश करते हैं। लेकिन इसी समय आप अपने, अपने पार्टनर और रिलेशनशिप के बारे में सवाल करते हैं।

क्या यह रिलेशनशिप टिकेगी? क्या वह मेरे साथ चीटिंग तो नहीं कर रहा है? कहीं वह मेरे साथ आज सुविधाजनक तो महसूस नहीं करता? क्या वह मुझसे कोईराज छुपा रहा है? यह सब सवाल आपको हर वक्त स्ट्रेस और टेंशन देते हैं। जब आप इस रिलेशनशिप को हेल्दी बनाए रखने मे खुद को असमर्थ मेहसूस करते हैं। 

रिलेशनशिप में हर प्रयास करने और इसे परफेक्ट बनाने के बावजूद यह जो चिंता होती है इसे रिलेशनशिप एंजाइटी कहते हैं। आपके भरोसा और संतुष्टि की जगह शक, चिंता और इनसिक्योरिटी लेने लगती है। इस तरह की भावनाएं आपकी रिलेशनशिप एंजाइटी का कारण बनती हैं।

यह एक आम समस्या है जो अकसर रिलेशनशिप में होती हैं। कुछ लोगों को ऐसा अनुभव रिलेशनशिप की शुरुआत में होता है क्योंकि वह इस बात को लेकर कंफ्यूज होते हैं कि क्या उनका पार्टनर भी उन्हें बराबर महत्व देता है या नही। या फिर क्या वह यह रिलेशनशिप चाहते हैं या नहीं। रिलेशनशिप एंजायटी लंबे समय से चली आ रही रिलेशनशिप में भी हो सकती है।

लंबे समय में इमोशनल स्ट्रेस, प्रोत्साहन की कमी और थकान का कारण बन जाती है।

रिलेशनशिप्स एंजाइटी के संकेत -

1. यह सोचना कि क्या आप अपने पार्टनर के लिए महत्वपूर्ण हैं

रिलेशनशिप एंजायटी का सबसे मुख्य लक्षण होता है आपका यह सोचना कि क्या आपके पार्टनर के लिए आप महत्वपूर्ण है या नहीं। आपको इनसिक्योरिटी महसूस होने लगती है और आप यह सोचने लगते हैं कि क्या आपका पार्टनर आपके लिए उस हद तक जा सकता है जिस हद तक आप उसके लिए जा सकते हैं।

2. अपने पार्टनर की भावनाओं पर शक

क्या कभी आपके साथ ऐसा होता है कि आप अपने पार्टनर को आई लव यू बोले और वह बदले में आपको यही चीज ना बोले? इसके बाद आपके मन में शक आ सकता है कि क्या आपका पार्टनर आपसे प्यार करता है या नहीं। उसके थोड़े से दूर होने पर आपको इन सिक्योर महसूस होता है। आपको लग सकता है कि आपका पाटनर आपके लिए पहले जैसा महसूस नहीं करता।

उसके एक बार में फोन ना उठाने और मैसेज का जवाब ना देने पर आपके मन में शक और भी गहरा हो सकता है। हर कोई एक वक्त पर ऐसा मेहसूस करता है लेकिन जब यह रोज़ की बात बन जाए तो यह रिलेशनशिप एंजाइटी का संकेत हो सकता है।

3. ब्रेकअप के बारे में चिंतित होना

एक अच्छी और हेल्दी रिलेशनशिप्स में आपको एक दूसरे से कोसों दूर रहकर भी ऐसा अनुभव होता है कि कोई आपसे प्यार करता है और आपको कभी नहीं छोड़ेगा। आपको हमेशा संतुष्टि मिलती है। लेकिन आपकी यह भावनाएं कभी कभी इस डर का रूप ले लेती हैं कि आपका पार्टनर आपको छोड़ न दे। 

इस डर के कारण आप बहुत सी ऐसी चीज़ें करने से बचने लगते हैं जो इस डर को सच्चाई में बदल सकती हैं।जैसे घर में जूते पहनकर आने पर आप अपने पार्टनर को कुछ नहीं कहते क्योंकि आपको यह डर रहता है कि आपका पार्टनर आपसे आपकी इन आदतों की वजह से ब्रेकअप कर लेगा।

4. एक दूसरे से तुलना

जब एक रिलेशनशिप में दोनों लोग कामयाब होते हैं तो अक्सर यह समस्या उनके रिश्ते मैं अनबन का कारण बन जाती है। आप अपने पार्टनर और अपने बीच की बराबरी के बारे में सोचने लगते हैं। आपको यह विचार आने लगते हैं कि क्या जिंदगी भर तक एक दूसरे का साथ निभाने के लिए आपका पार्टनर आपकी योग्य है या नहीं। आपके दिमाग में हर वक्त ऐसे विचार घूमते रहते हैं जो आपको अपनी रिलेशनशिप की लाइफ के बारे में अनिश्चित बना देते हैं।

5. झगड़ना

आप अपने रिलेशनशिप के उस स्टेज पर पहुंच जाते हैं जब आप दोनों एक दूसरे से इरिटेट होने लगते हैं। आप कोशिश करते हैं कि एक दूसरे से बात ना करें और जब आप बात करते हैं तो ऐसी बातें छोड़ते हैं जिनसे आप अपने पार्टनर को उसकी कमियों के बारे में भाषण दे सके या ताना मार सके। आप खुद ही अपने रिलेशनशिप को बिगाड़ने लगते हैं और ऐसे रिलेशनशिप किसी के लिए भी टॉक्सिक है।

Tips For Relationship Anxiety

1. अपनी पहचान बरकरार रखें

जैसे जैसे आप अपने पार्टनर के करीब आते जाते हैं आप खुद की पहचान को नकारने लगते हैं। आप खुद को दो जिस्म एक जान समझने लगते हैं। आपको अपनी पहचान बरकार रखनी चाहिए और एक दूसरे को स्पेस देना चाहिए। रिलेशनशिप में अपने वजूद का महत्व भूलना या अपने पार्टनर की खुशी के लिए अपने आप को बदलना अच्छा ऑप्शन नहीं है।

2. माइंडफुल बनने की कोशिश करें

माइंडफुल गतिविधियां आपको अपने वर्तमान पर फोकस करने में मदद करती है। यह भविष्य में मुमकिन नकारात्मक चीजों के विचारों को आपके दिमाग से दूर रखती हैं। अगर यह विचार आपके दिमाग में आ भी जाते हैं तो यह आपको उन्हें स्वीकार करने की शक्ति देती हैं। जब आपको लगातार नकारात्मक विचार आए तो आपको माइंडफुल गतिविधियां करनी चाहिए जैसे मेडिटेशन।

हो सकता है कि आपकी रिलेशनशिप कुछ महीनों में ही खत्म हो जाए लेकिन आप इस बात को स्वीकार करके खुशी खुशी आगे भी बढ़ सकते हैं। आपको बार-बार नकारात्मक विचारों के बारे में सोच कर खुद को टेंशन देने की जरूरत नहीं है।

अनुशंसित लेख