ब्लॉग

Women Stereotypes : फिल्मों से ज्यादा डेलीसोप बनाते हैं विमेन स्टीरियोटाइप

Published by
Sonam

हम अक्सर बात करते हैं कि किस तरह फिल्मों में महिलाओं को कमजोर दिखाया जाता है और भद्र गानों में सेक्सिस्ट लिरिक्स डालकर हमेशा महिलाओं को लज्जित किया जाता है और तो और उनकी खूबसूरती को ही मुख्यतः फिल्मों में सब कुछ माना जाता है पर क्या आपने कभी ध्यान दिया है कि टेलीविजन पर आने वाले छोटे-छोटे धारावाहिक या डेलीसोप किस प्रकार विमेन स्टीरियोटाइप बनाते हैं? फिल्में हमारे स्वभाव पर अपना प्रभाव छोड़ती है यह तो हम सभी जानते हैं पर इससे भी कहीं ज्यादा प्रभाव टेलीविजन पर आने वाले धारावाहिक हम सब पर डालते हैं।

6 डेलीसोप विमेन स्टीरियोटाइप जो महिलाओं को लेकर दिखाए जाते हैं

1. अच्छी और सच्ची महिला घर का सारा काम जानती है

टेलीविजन पर आने वाले धारावाहिकों में हमेशा एक अच्छी और सच्ची महिला को घर का सारा काम आता हुआ दिखाया जाता है। जो महिला अपने पति को और अपने सास-ससुर को खुश रख सकती है बस वही आदर्श बहू यह महिला कहलाती है और इसे देख देख कर असल जिंदगी की औरतें भी इन्हीं चीजों से प्रेरणा लेकर इन बातों को अपने दिमाग में बिठा लेती हैं।

2. एक महिला दूसरी महिला की दुश्मन होती है

ज्यादातर धारावाहिकों में कहानी का पूरा प्लॉट एक महिला के आसपास घूमता है जो दूसरी महिला से अपने पति और परिवार को बचाने में जुटी होती है। ज्यादातर ऐसे धारावाहिकों में दिखाया जाता है कि किस तरह सास बहू, सास और ननद या फिर किन्हीं दो महिलाओं के बीच दोस्ती नहीं हो सकती है और महिलाएं ही महिलाओं की दुश्मन दिखाई जाती हैं।

3. एक अच्छी पत्नी अपने पति के साथ बराबरी की होड़ नहीं करती

ज्यादातर धारावाहिकों में यही दिखाया जाता है की एक अच्छी पत्नी कभी भी अपने पति से पहले खाना नहीं खाती है, अपने पति से बिना पूछे कुछ काम नहीं करती है और ना ही अपनी जिंदगी के बड़े फैसले अपने आप लेती है। इस बात को हमेशा इस तरह से दिखाया जाता है की एक पति या पुरुष ही अपनी पत्नी यह किसी भी महिला की जिंदगी कब फैसला करने का अधिकार रखता है।

4. बच्चों की परवरिश की सारी जिम्मेदारी औरतों की ही है

टेलीविजन के डेली सोप में न जाने क्यों बच्चों की शादी परवरिश की जिम्मेदारी हमेशा उनकी मां के हिस्से ही आती है। उनके पिता से बच्चों की परवरिश के बारे में कोई भला क्यों नहीं कुछ कहता?

5. बदतमीज और बिगड़ैल लड़के को एक लड़की ही सुधारती है

क्या सचमुच असल जिंदगी में आपके साथ बदतमीजी करने वाले किसी भी इंसान को आप कभी भी पसंद करेंगी? नहीं ना? तो फिर क्यों हमेशा इन धारावाहिकों में ज्यादातर लड़की को बदतमीज और बिगड़ैल लड़के ही पसंद आते हैं और आखिर में उस लड़की पर ही उस लड़के को सुधारने की सारी ज़िम्मेदारी आती है?

6. एक इंडिपेंडेंट महिला नेगेटिव किरदार में ही क्यों?

अगर आपने कभी इस बात पर गौर किया हो तो आपको महसूस हुआ होगा कि हमेशा हर नाटक में जो महिलाएं जानती हैं कि उन्हें क्या चाहिए क्या पाना चाहती हैं, या वह फाइनेंशली इंडिपेंडेंट है तो उन्हें नेगेटिव कैरेक्टर में ही दिखाया जाता है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है कसौटी जिन्दगी के की कोमोलिका। शायद इसलिए समाज में महिलाओं का अपने हक के लिए आवाज उठाना गलत माना जाता है।

Recent Posts

शमिता शेट्टी ने बड़ी बहन शिल्पा शेट्टी को मुश्किल वक़्त में किया सपोर्ट

शमिता ने शिल्पा की नयी फिल्म हंगामा 2 का पोस्टर शेयर करते हुए इंस्टाग्राम पर…

4 mins ago

क्या तारक मेहता का उल्टा चश्मा की मुनमुन दत्ता शो छोड़ने वाली है? जाने क्या है सच

मुनमुन ने अपने एक यूट्यूब वीडियो में 'भंगी' शब्द का इस्तेमाल किया था,तभी से वो…

16 mins ago

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी के पिता अभी भी चलाते है टेंपो, कहा “कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।”

तीरंदाज के पिता ने कहा, "कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।" उन्होंने…

50 mins ago

सागरिका शोना सुमन और राज कुंद्रा केस से जुड़ीं 10 जरुरी बातें

सगारिका शोना सुमन का राज कुंद्रा से क्या कनेक्शन है? सगारिका ने आरोप लगाएं हैं…

56 mins ago

राज कुंद्रा पोर्न केस के बाद शिल्पा शेट्टी ने किया राज कुंद्रा कंपनी से रिज़ाइन

शिल्पा विआन इंडस्ट्रीज के डायरेक्टर की पोजीशन पर थीं और पोर्न मूवी बनाने और डिस्ट्रीब्यूट…

2 hours ago

पूजा हेगड़े का कैसा रहा बचपन ? जानिए उनके बारे में 10 बातें

पूजा हेगड़े एक भारतीय मॉडल और एक्ट्रेस हैं, जो मुख्य रूप से तेलुगु और हिंदी…

3 hours ago

This website uses cookies.